myjyotish

9818015458

   whatsapp

8595527218

Whatsup
  • Login

  • Cart

  • wallet

    Wallet

Home ›  

Kumbh 2021

maha kumbh 2021

पौराणिक कथाओं के अनुसार कुम्भ का पर्व राक्षसों एवं देवताओं के बीच हुई लड़ाई का प्रतिक माना जाता हैं। यह लड़ाई देवता लोक के अनुसार 12 दिन तक चली थी जिसे मनुष्य जीवन में कुछ 12 वर्षों समान माना जाता हैं। इसी कारण कुम्भ का पर्व 12 वर्षों में एक बार बड़ी ही धूम - धाम से मनाया जाता हैं। सभी भक्त अपनी इच्छाओं की पूर्ति हेतु इस वर्ष हरिद्वार में यह पूजन संपन्न करेंगे।

+91

ब्लॉग्स

FAQ :

What is Mahakumbh?

The Maha Kumbh Mela is occurs every 144 years in Prayagraj, after the completion of 12 Purna Kumbh Melas, which is the completion of 12 cycles of Kumbh Mela (12 purna kumbh melas*12 cycles= 144)



What is kumbh mela?

Kumbh Mela is a major religious pilgrimage a festival observed by millions of Hindus. The Kumbh Mela is celebrated over four cycles in a span of 12 years, repeating the cycle over again. It is celebrated between four riverbank holy pilgrimage sites, which are, Prayagraj, Haridwar, Nashik and Ujjain.



What is ardh kumbh mela?

"Ardh" which means half which is taken as the half of the 12-year Kumbh Mela cycle. The Ardh Kumbh Mela occurs every 6 years, in different locations, cycling between Prayagraj and Haridwar.



What is shahi snan?

Shahni snan or the holy dip, is when devotees take a dip in the holy river banks at which the Kumbh Mela occurs.



When and where is the next kumbh mela?

The next Kumbh Mela will be held in Haridwar in 2021, it will begin on January 14th on the auspicious occasion of Makar Sankranti.



Why is Kumbh celebrated after 12 years?

The fight of Devtas and Asuras over the Nectar of immortality lasted for a divine 12 years, therefore the Kumbh Mela is held every 12 years over four year cycles in four holy sites.



महाकुंभ क्या है ?

महाकुंभ हिन्दू धार्मिक अनुष्ठानों में से सबसे पूजनीय अनुष्ठान माना जाता हैं। यह 12 वर्षों बाद एक बार आता है। परन्तु इस बार ग्रहों के बदलाव के कारण ये विशेष रूप से 11 वर्षों बाद मनाया जाएगा। कुंभ प्रयागराज,हरिद्वार,वाराणसी और नासिक में आयोजित किया जाता है। यह आखिरी बार 2011 में आयोजित किया गया था और अब 11 साल बाद आयोजित किया जाएगा। माना जाता है कि महाकुंभ के दौरान गंगा में डुबकी लगाना बहुत ही शुभ होता हैं।



कुंभ मेला क्या है?

कुंभ मेला हिंदुओं के बीच मनाए जाने वाले सबसे बड़े त्यौहारों में से एक है। यह हर 12 साल में मनाया जाता है। लोग अपने पापों को धोने की आशा में तीर्थ यात्रा पर जाते हैं। देश भर से लाखों भक्तों के रूप में मेला का सबसे बड़ा जमावड़ा यहाँ उपस्थित होता है। मेला हर 11 साल में आयोजित किया जाता है। यह चार अलग-अलग स्थानों - प्रयागराज, उज्जैन, नासिक और हरिद्वार में आयोजित किया जता हैं।



अर्ध कुंभ मेला क्या है?

अर्ध कुंभ मेला एक ऐसा त्यौहार है जो भारत में प्रत्येक वर्ष मनाया जाता है। यह त्यौहार अत्यंत उत्साह के साथ मनाया जाता है और तब आयोजित किया जाता है जब सितारों की आकाशीय स्थिति को ठीक से आवंटित किया जाता है। जब बृहस्पति मेष राशि में होगा, सूर्य और चंद्रमा मकर राशि में; या बृहस्पति वृष में है और सूर्य मकर राशि में, तब अर्धकुम्भ मेला मनाया जाता हैं।



शाही स्नान क्या है?

कुंभ मेले की शुरुआत में निर्धारित दिनों पर अखाड़ों के संतों और उनके शिष्यों या तपस्वियों के स्नान को राजयोगी स्नान (शाही स्नान) कहा जाता है।कुंभ मेले का राजयोगी स्नान (शाही स्नान) सुबह 4 बजे शुरू होता है।शाही स्नान के लिए, अखाड़ों के तपस्वि और संत ने एक शस्त्र-जुलूस निकालते हैं। स्थानीय लोग बारात के मार्ग को पहले से अच्छी तरह से रंगोली और पंखुड़ियों से सजाते हैं।



12 साल बाद क्यों मनाया जाता है कुंभ?

कुंभ यानी देवताओं और राक्षसों के बीच पवित्र घड़े की लड़ाई 12 दिव्य दिनों तक जारी रही, जिसे मनुष्यों के लिए 12 साल तक लंबा माना जाता है। यही कारण है कि कुंभ मेला 12 साल में एक बार मनाया जाता है और उपर्युक्त भक्त पवित्र स्थानों या पवित्र स्थलों पर एकत्रित होता है।



पूजा कराने के लिए अभी व्हाट्सऐप करें: 8595527218
अथवा विजिट करें: www.myjyotish.com

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms and Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
X