myjyotish

7678508643

   whatsapp

8595527218

Whatsup
  • Login

  • Cart

  • wallet

    Wallet

Home ›   Blogs Hindi ›   kunj bihari ki aarti lyrics in hindi krishna bhagwan ki aarti

Krishna Aarti: कुंज बिहारी जी की आरती

कुंज बिहारी जी की आरती Updated 29 Dec 2020 06:29 PM IST
भगवान कृष्ण की आरती
भगवान कृष्ण की आरती - फोटो : Myjyotish
हिन्दू धर्म में पूजा का बहुत ही महत्व होता है और पूजा के बाद आरती करना बहुत ही महत्वपूर्ण माना जाता है। कहा जाता है कि आरती के बिना पूजा अधूरी मानी जाती है।  पूजा के अंत में, पूजा में किसी भी त्रुटि के लिए भगवान से क्षमा और आरती की जाती है। आरती के बाद ही पूजा का पूर्ण फल प्राप्त होता है। जन्माष्टमी पर कुंजबिहारी की आरती का अपना महत्व है। भगवान श्री कृष्ण के साथ देवी राधा का यह आरती गीत वातावरण को आनंदित करता है।  

कुंज बिहारीजी की आरती  शंख, घंटी और करतल बजाते हुए परिवार के साथ भक्ति के साथ गाई जाती है |  भगवान कृष्ण ने भी महाभारत के युद्ध में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी।  उन्होंने महाभारत के युद्ध में अर्जुन के सारथी की भूमिका निभाई।  युद्ध में ही उन्होंने अर्जुन को गीता का उपदेश दिया था।  आज पूरी दुनिया गीता के उपदेशों को बहुत ध्यान से पढ़ती और समझती है।  कृष्ण जन्माष्टमी के अवसर पर, लोग अपने आस-पास के मंदिरों और घरों में कृष्ण की पालकी सजाते हैं और उनकी विधिवत पूजा और आरती करते हैं।  

नए वर्ष की करें शुभ शुरुआत, समस्त ग्रह दोषों को समाप्त करने हेतु कराएं नवग्रह पूजन - नवग्रह मंदिर, उज्जैन


भगवान कृष्ण की आरती


 आरती कुंज बिहारी की, श्री गिरधर कृष्ण मुरारी की
 गेल मीन बैजंती माला, बाजे मुरली मधुर बाला।
 श्रवण मीन कुंडल झलकल, नंद के आनंद नंदलाला।
 गगन सम अंग कंति कलि, राधिका चामक रहि आलि।
 लटन में ठाढ़े बनमाली;
 भ्रामर सी अलक, कस्तूरी तिलक, चंद्र सी झलक;
 
 ललित चावी श्यामा प्यारी की
 श्री गिरधर कृष्ण मुरारी की
 आरती कुंज बिहारी की
 श्री गिरधर कृष्ण मुरारी की
 
 कनकमय मोर मुकुट बिलसे, देवता दरसन को तरसे।
 गगन सो सुमन रासी बरसे;
 बाजे मुर्छांग, मधुर मृदंग, ग्वालिन सांग;
 अतुल रति गोप कुमारी की
 श्री गिरधर कृष्ण मुरारी की
 
 आरती कुंज बिहारी की
 श्री गिरधर कृष्ण मुरारी की
 
 जहाँ ते प्रगट भये गंगा, कलुष कलि हरिनि श्री गंगा।
 स्मरण ते गरम मोह भंग;
 बसी शिव शीश, जटा के बीच, हरे आघ कीच;
 चरण छवी श्री बनवारी की
 श्री गिरधर कृष्ण मुरारी की
 
 आरती कुंज बिहारी की
 श्री गिरधर कृष्ण मुरारी की
 
 चमकती उज्जवल तात रेनु, बाज रही वृंदावन बेनू।
 चहु दिसि गोपी ग्वाल धेनु;
 हँसत मृदु मंड, चंदानी चंद्र, कटत भव फंद;
 टेर सन दीन भिखारी की
 श्री गिरधर कृष्ण मुरारी की
 
 आरती कुंज बिहारी की
 श्री गिरधर कृष्ण मुरारी की 
 आरती कुंज बिहारी की, श्री गिरधर कृष्ण मुरारी की
 आरती कुंज बिहारी की, श्री गिरधर कृष्ण मुरारी की

Shri Krishna Bhagwan Aarti Kunj Bihari Ki Lyrics in English

 
  • 100% Authentic
  • Payment Protection
  • Privacy Protection
  • Help & Support


फ्री टूल्स

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms and Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
X