myjyotish

6386786122

   whatsapp

6386786122

Whatsup
  • Login

  • Cart

  • wallet

    Wallet

विज्ञापन
विज्ञापन
Home ›   Blogs Hindi ›   Varuthini ekadashi 2021 shubh muhurat puja vidhi auspicious timings date

Varuthini Ekadashi 2021: जानें क्या है वरुथिनी एकादशी? जानें इसकी पूजन विधि और शुभ मुहूर्त

Myjyotish Expert Updated 04 May 2021 02:25 PM IST
ekadashi
ekadashi - फोटो : Google
विज्ञापन
विज्ञापन

वरुथिनी एकादशी के दिन भगवान के मधुसूदन स्वरूप की उपासना की जाती है। जब कोई व्यक्ति रात्रि में जागरण करके इनकी उपासना करता है, तो जीवन में खुशहाली प्रेम और दुखों से छुटकारा मिलता है। जीवन में सब कुछ मंगल ही मंगल होता है। इस दिन श्री वल्लभाचार्य का जन्म भी हुआ था। पुष्टिमार्गीय वैष्णव के लिए यह दिन बहुत ही महत्वपूर्ण है।

एकादशी व्रत से चंद्रमा के हर बुरे प्रभाव को रोका जा सकता है। यहां तक कि ग्रहों के बुरे प्रभावों को भी काफी हद तक कम किया जा सकता है। क्योंकि एकादशी व्रत का प्रभाव सीधा हमारे मन और शरीर दोनों पर पड़ता है। व्रतों में प्रमुख हैं-  नवरात्रि, पूर्णिमा, अमावस्या और एकादशी इनमें सबसे बड़ा व्रत एकादशी को मानते हैं। एकादशी के व्रत से अशुभ संकेतों को भी खत्म किया जा सकता है। वरुथिनी एकादशी का व्रत रखने से व्यक्ति के जीवन में हमेशा सुख समृद्धि तथा सौभाग्य की प्राप्ति होती है। इस बार यह एकादशी 7 मई 2021 को मनाई जा रही है,आइए जानते हैं इसकी पूजन कैसे करें।

शनि त्रियोदशी पर कोकिलावन शनि धाम में चढ़ाएं 11 किलों तेल और पाएं अष्टम शनि ,शनि की ढैय्या एवं साढ़े - साती के प्रकोप से छुटकारा : 08 मई 2021 | Sade Sati Nivaran Puja

इस दिन व्रत रखना बहुत ही शुभ होता है। अगर उपवास न रख पाएं। किसी कारण से तो इस दिन अन्य न खाएं। भगवान कृष्ण के मधुसूदन स्वरूप की उपासना करें। फल और पंचामृत का भोग लगाएं। उनके सामने मधुराष्टक का पाठ करें। इसके अगले दिन प्रातः अन्न का दान करें। इसके बाद अपने व्रत का पारण करें।

शुभ मुहूर्त- एकादशी तिथि गुरुवार, 6 मई 2021 को दोपहर 02 बजकर 10 मिनट से प्रारंभ होकर शुक्रवार,07 मई 2021 को शाम 03 बजकर 32 मिनट पर समाप्त होगी। एकादशी व्रत पारण मुहूर्त शनिवार 08 मई 2021 को सुबह 05 बजकर 35 मिनट से सुबह 08 बजकर 16 मिनट तक रहेगा।

ये भी पढ़े :

हनुमान के वो गुण जिससे कर सकते हैं आप अपने व्यक्तित्व का विकास

क्या कोरोना वायरस का कहर कम होने वाला है? जानें ज्योतिष शास्त्र के अनुसार

कौन थी माता पार्वती और भगवान शिव की तीन बेटियां, जानिए इसकी कथा

  • 100% Authentic
  • Payment Protection
  • Privacy Protection
  • Help & Support
विज्ञापन
विज्ञापन


फ्री टूल्स

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
X