myjyotish

9873405862

   whatsapp

8595527218

Whatsup
  • Login

  • Cart

  • wallet

    Wallet

Home ›   Blogs Hindi ›   Shani Pradosh Vrat 2021 Pradosh Vrat Poojan Vidhi Significance Importance And Puja Timings

Shani Pradosh Vrat 2021: जानें शनि प्रदोष की पूजन विधि और उसका महत्व

Myjyotish Expert Updated 04 May 2021 12:27 PM IST
Shani Dev
Shani Dev - फोटो : Google

धार्मिक मान्यताओं के मुताबिक, हर माह  की त्रयोदशी  मतलब की  तेरस को प्रदोष का व्रत रखा जाता है और इस दिन भगवान शिव की पूजा अर्चना भी की जाती है। जब त्रयोदशी तिथि शनिवार को पड़ती है तो यह  शनि प्रदोष के नाम से जानी जाती है ।

क्या आपको चाहिए अनुभवी एक्सपर्ट की सलाह ?

SUBMIT


 शनि प्रदोष क्यों अलग है बाकी प्रदोष से 

त्रयोदशी तिथि के साथ ही शनिवार का दिन भी है तो इसलिए  हम शनि प्रदोष का व्रत कर सकते हैं। माना जाता है कि शनि प्रदोष का व्रत करने से भगवान शिव के साथ ही शनिदेव भी प्रसन्न होते हैं और हमारे सभी कष्ट दूर करते हैं। 

प्रदोष व्रत का महत्व
प्रदोष व्रत की पूजा प्रदोष काल में यानी सूर्यास्त के बाद की जाती है, इसी वजह से प्रदोष व्रत शनिवार 24 अप्रैल को ही माना जा रहा है, क्योंकि आज ही शाम से त्रयोदशी तिथि लग रही है। मान्यता है कि शनि प्रदोष का व्रत रखने के बाद शनि से जुड़ी वस्तुओं का दान करना चाहिए। ऐसा करने से शनि की साढ़ेसाती और ढैय्या में आपको राहत मिलती है। वहीं कुछ लोग प्रदोष का व्रत संतान की प्राप्ति के लिए भी रखते हैं।

शनि त्रियोदशी पर कोकिलावन शनि धाम में चढ़ाएं 11 किलों तेल और पाएं अष्टम शनि ,शनि की ढैय्या एवं साढ़े - साती के प्रकोप से छुटकारा : 08 मई 2021 | Sade Sati Nivaran Puja

त्रयोदशी तिथि और पूजा मुहूर्त-
वैशाख त्रयोदशी तिथि आरंभ- 08 मई 2021 शाम 05 बजकर 20 मिनट से

वैशाख त्रयोदशी तिथि समाप्त- 09 मई 2021 शाम 07 बजकर 30 मिनट पर
पूजा समय- 08 मई शाम 07 बजकर रात 09 बजकर 07 मिनट तक

पूजा की कुल अवधि 02 घंटे 07 मिनट रहेगी।

प्रदोष व्रत की पूजा प्रदोष काल में की जाती है इसलिए प्रदोष व्रत 08 मई को किया जाएगा।

ऐसे रखें व्रत और पूजाविधि
शास्त्रों में शिवजी को शनिदेव का आराध्य माना गया है, इसलिए प्रदोष में शनि की पूजा करने से आपकी समस्त मनोकामनाएं पूर्ण होती है और शनि की दशा में भी राहत मिलती है। शनि प्रदोष में शनि स्त्रोत का पाठ करना भी जरूरी माना जाता है। 

1.प्रदोष व्रत के दिन सुबह शीघ्र स्नान करके स्वच्छ वस्त्र धारण करें और भगवान शंकर और माता पार्वती को स्नान करवाएं।
2 उसके बाद बेलपत्र, भांग, धतूरा, फूल, दीप और नैवेद्य अर्पित करें।
3 इसके साथ ही भगवान को लौंग, इलाइची, अक्षत, पान और सुपारी भी चढ़ाएं और इत्र भी अर्पित करें। 4प्रदोष अगर शनिवाार को पड़े तो स्टील की कटोरी में तिल का तेल डालिए और अपना चेहरा उसमें देखिए और शनिदेव का ध्यान कीजिए।
5 फिर इस तेल को डाकोत को दान कर दीजिए। इसके साथ ही आप काली उड़द, काले तिल और जौ भी दान कर सकते हैं। 
6इस दिन काली गाय और काले कुत्ते को तेल से चुपड़ी मीठी रोटी खिलाने से भी आपकी सोई किस्मत जाग जाती है।

ये भी पढ़े :

हनुमान के वो गुण जिससे कर सकते हैं आप अपने व्यक्तित्व का विकास

क्या कोरोना वायरस का कहर कम होने वाला है? जानें ज्योतिष शास्त्र के अनुसार

कौन थी माता पार्वती और भगवान शिव की तीन बेटियां, जानिए इसकी कथा

  • 100% Authentic
  • Payment Protection
  • Privacy Protection
  • Help & Support


फ्री टूल्स

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms and Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
X