myjyotish

9873405862

   whatsapp

8595527218

Whatsup
  • Login

  • Cart

  • wallet

    Wallet

Home ›   Blogs Hindi ›   Sun Transit 2021 in Aries Date, Timings, Surya Gochar in Mesha Rashi Effects

सूर्य मेष राशि में 14 अप्रैल से प्रवेश लेंगे, जानें किन राशियों को होगा बड़ा लाभ

Myjyotish Expert Updated 13 Apr 2021 10:10 AM IST
Astrology
Astrology - फोटो : Myjyotish

सौरमंडल के अधिष्ठाता सूर्य देव ग्रहों के राजा कहे जाने वाले अपनी उच्च राशि मंगल की राशि मेष में 14 अप्रैल यानी की बुधवार को रात्रि 2 बजकर 30 मिनट पर प्रवेश कर लेंगे। वे एक माह तक इस राशि में रहेंगे। सूर्यदेव का यह संचरण सभी राशियों पर गहरा प्रभाव डालेगा और उसके बाद वृक्ष राशि में प्रवेश कर लेगें। कहा जाता है कि जब सूरज देवता इस राशि में प्रवेश करते है तो उस समय ये बहुत ही शक्तिशाली हो जाते है और लोगों के कई गुणा फल में वृद्धि होती है। ऐसे मनुष्य धनी, मानी और यशस्वी होते हैं। वे जहां भी जाते है अपनी एक खूबसूरती की छाप छोड़ देते हैं।

क्या आपको चाहिए अनुभवी एक्सपर्ट की सलाह ?

SUBMIT

फलित ज्योतिष के अनुसार मेष राशि और सिंह राशि में सूर्य सर्वाधिक बलवान माने गए हैं क्योंकि ये दोनों राशियां उनकी उच्च और स्वगृही हैं। मेष राशि पर इनके गोचर काल में सभी राशियों पर कैसा प्रभाव पड़ेगा इसका ज्योतिषीय विश्लेषण कुछ इस तरह करते हैं।

मेष राशि

मेष राशि में गोचर करते समय सूर्य देव की उपस्थिति मनोबल और आत्मबल बढ़ाएगी। सर्वोत्तम कार्य करने के लिए प्रेरणा मिलेगी जिससे आप के हर काम पूरे हो सकें। प्रशासनिक मामले भी आप को सहायता मिलेगी। लोकप्रियता और प्रभाव बढ़ेगा तथा निसंकोच आगे बढ़ें हर बिगड़े काम बने कि समभावना है।

वृषभ राशि

इस राशि पर सूर्य देव का प्रभाव काफी मिला-जुला रहेगा। कहीं बाहर जाने के संयोग बनेगें। फिजूल खर्चों से बचे नहीं तो आर्थिक तंगी का सामना करना पड़ सकता है। शारीरिक बीमारी से बचें शरीर में हलचल हो तो तुरंत अपने डॉक्टर को दिखाएं। मनमुटाव हुए  रिश्ते संवरेगें। अदालत के मामलों को से दूर ही रहें।

मिथुन राशि

इस राशि के लिए गोचर किसी अमृत से कम नहीं है। आप को हर काम में सफलता मिलेगीं। परंतु पारिवारिक मतभेद ना होने दें। शिक्षा-प्रतियोगिता में अच्छी सफलता मिलेगी।
सरकारी विभागों में प्रतीक्षित कार्य पूरे होंगे। अपनी योजनाओं को तब तक गोपनीय रखें जब तक उसे लक्ष्य तक ना पहुंच जाए।

कर्क राशि

इस राशि के लिए सूर्य दशम भाव का गोचर सर्वाधिक प्रभावशाली रहेगा। आप के हर मान-सम्मान और गरिमा में वृद्धि होने की संभावना है। नौकरी मिलने के योग और उच्च अधिकारियों से सहयोग मिलेगा और पिता से पूरी मदद मिलेगी। पारिवारिक सुख में भी लाभ प्राप्ति मिलने के योग है।

सिंह राशि

आप भाग्य के हर फल में सफल होंगे और धार्मिक कार्य में सबसे पहले आगे रहेंगे। संपत्ति में वृद्धि होगी तथा संचार संपर्क में लाभ होगा।

कन्या राशि

सूर्य देव कन्या राशि के लिए लाभदायक होंगे।  हर खोज में आप को सफलता मिलेंगी। अपने काम पर ध्यान लगाकर रखें नहीं तो हानि का सामना करना पड़ सकता है।

इस नवरात्रि कराएं कामाख्या बगलामुखी कवच का पाठ व हवन : 13 से 21 अप्रैल 2021 - Kamakhya Bagalamukhi Kavach Paath Online

तुला राशि

इस राशि में गोचर प्रवेश करते समय सूर्य का प्रभाव कई मामलों में अच्छा रहेगा परंतु पारिवारिक मामले में मतभेद पैदा हो सकते है। सभी प्रकार के सरकारी कामों में सफलता मिलेंगी।

वृश्चिक राशि

 इस राशि में पेशेवरता में सफलता होगी। शत्रु शांत होने की संभावना। अवरोधों में कमी आएगी। फिजूल खर्च पर नियंत्रण रखने में सफल होंगे। हर तरह की जिम्मेदारी निभाने में आगे रहेंगे।

धनु राशि
 
इस राशि के लोग परीक्षा में सफलता का परचम लहराएंगे। बौद्धिक प्रयासों में आगे बढ़ेंगे। हर तरह के लाभ में सफल रहेगा। प्रेम विश्वास और साहस में सफल रहेंगे।

मकर राशि

इस राशि में सूर्य का प्रभाव अधिक उतार-चढ़ाव बना रहेगा। भौतिक सुविधाओं में वृद्धि होने की संभावना। भवन वाहन और भूमि संबंधी मामले में अवश्य सफल होंगे। घर के बुजुर्गों की सलाह लेने से हर काम में सफल होंगे। स्थानांतरण संभव है। धैर्य भी बढ़ाएं।

कुंभ राशि

कुंभ राशि के लिए यह किसी  वरदान से कम नहीं है। साहस पराक्रम से हर सफलता को पा सकते हैं। भाई-बहन में मतभेद न पैदा होने दें। सुचना का संचार में बेहतर सफलता मिलेगी। छोटे कामकाज के लिए दूरी की  यात्रा में संभव होंगे।

मीन राशि

 इस राशि के लिए घर परिवार में सुख-समृद्धि में बढ़ोत्तरी होगी। आर्थिक पक्ष में मजबूती होगी। शुभ समाचार मिलेंगे। बोल चाल में व्यवहार उच्च स्तर पर स्पष्टता रहेगा। मेहमानों को मान- सम्मान देंगे।

ये भी पढ़े :

नवरात्रि 2021 : नवदुर्गा से जुड़े ये ख़ास तथ्य नहीं जानते होंगे आप

जानें नवरात्रि के पहले दिन कैसे करें कलश स्थापना क्या है इसके लिए शुभ मुहूर्त

जानें कुम्भ काल में महाभद्रा क्यों बन जाती है गंगा ?

  • 100% Authentic
  • Payment Protection
  • Privacy Protection
  • Help & Support


फ्री टूल्स

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms and Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
X