myjyotish

6386786122

   whatsapp

8595527218

Whatsup
  • Login

  • Cart

  • wallet

    Wallet

Home ›   Blogs Hindi ›   Pokhu Devta temple of uttarakhand where devotees worship facing backside to god

Pokhu Devta: ऐसा मंदिर जहाँ भक्त भगवान की तरफ पीठ करके करते है पूजा

Myjyotish Expert Updated 24 Mar 2022 05:34 PM IST
ऐसा मंदिर जहाँ भक्त भगवान की तरफ पीठ करके करते है पूजा
ऐसा मंदिर जहाँ भक्त भगवान की तरफ पीठ करके करते है पूजा - फोटो : google

ऐसा मंदिर जहाँ भक्त भगवान की तरफ पीठ करके करते है पूजा


भारत मे कई बड़े मंदिर है जहाँ भक्त भगवान के दर्शन करने के लिए दूर दूर से आते है। कई मंदिर तो ऐसे भी है जहां भक्त विदेश से भी आते है। लेकिन क्या आपने कभी देखा या सुना है ऐसे मंदिर के बारे में जहाँ भक्त भगवान की ओर पीठ करके उनकी पूजा करते है। सुनने में हैं ना यह अजीब। आज हम आपको ऐसे ही मंदिर के बारे में बताएंगे जहाँ भक्त भगवान की ओर नही देखते हैं।

देवभूमि कहा जाने वाला उत्तराखंड हिंदू धर्म के अनुयायियों के बीच काफी प्रसिद्ध है। उत्तराखंड के अलग अलग राज्यों में अनेक प्रसिद्ध मंदिर है। उत्तरकाशी के नेटवाड़ कस्बे में ऐसा ही एक अनोखा मंदिर है। यह मंदिर न्याय के देवता भगवान पोखूवीर का मंदिर है। भक्तों के बीच भगवान की काफी मान्यता है। इस मंदिर को सबसे अनोखा बनाती है यहाँ पर भक्तों द्वारा पूजा करने की विधि।

इस नवरात्रि कराएं कामाख्या बगलामुखी कवच का पाठ व हवन। 

इस मंदिर में भक्त भगवान की तरफ नहीं देखते हैं वह उनसे पीठ करके उनकी पूजा अर्चना करते हैं। पोखूवीर मंदिर में भगवान का कमर से नीचे का हिस्सा मौजूद है और उनका मुँह पाताल में है। कहते है उनका कमर से नीचे का हिस्सा अर्धनंगन अवस्था में है इसी कारण से उनको इस रूप में देखना अशिष्टता है। इसी कारण से मंदिर के पुजारी और भक्त देवता की ओर पीठ करके पूजा करते हैं।

भगवान पोखूवीर न्याय के देवता हैं। भक्तों का मानना है कि जो भी व्यक्ति इस मंदिर में हाजिरी लगाता है उसे अविलंब न्याय की प्राप्ति होती है। यह विश्वास भक्तों के बीच सदियों से चला आ रहा है। भक्त बताते हैं कि जो कोई भी भगवान से न्याय की याचना करता है उससे बिल्कुल सही और निष्पक्ष न्याय मिलता है।

भगवान पोखूवीर से कई मान्यताएँ जुड़ी हैं। भगवान पोखूवीर को कर्ण का प्रतिनिधि और भगवान शिव का सेवक माना जाता है। कहते हैं भगवान अपने अनुयायियों के प्रति कठोर स्वभाव रखते हैं और उनका स्वरूप भी डरावना है।

भगवान पोखूवीर से भक्तों की आस्था सदियों से जुड़ी हुई है। पुराने समय में जब भी किसी व्यक्ति को न्याय पाना होता था तो वह निष्पक्ष न्याय के लिए भगवान से प्रार्थना करता था। भगवान निष्पक्ष न्याय कर जो कोई भी अपराधी होता है उसे किसी न किसी रूप में दंड अवश्य देते हैं।

नवरात्रि स्पेशल - 7 दिन, 7 शक्तिपीठ में कराएं श्रृंगार पूजा।

भगवान पोखूवीर से जुड़ी एक कहानी सबसे प्रचलित कथा है जिसका संबंध महाभारत काल से मिलता है। कहते है कि भगवान पोखूवीर महाभारत काल मे वभ्रुवाहन था। जिसका वध भगवान श्रीकृष्ण ने महाभारत के युद्ध से पहले शीश काटकर किया था।

यह क्षेत्र एक ऐसा क्षेत्र है जहाँ कौरवों की पूजा की जाती है। यहाँ पर आपको दुर्योधन के साथ साथ  कर्ण का मंदिर में मिलेगा।
न्याय के देवता पोखूवीर का क्षेत्रवासियों में इतना खौफ है कि यहाँ पर आज भी लोग चोरी व अपराध करने से डरते हैं। साथ ही यहाँ के लोगों की भगवान मे इतनी श्रद्धा भी है कि जब किसी भी प्रकार की विपत्तियां या संकट आता है तो वह पोखू देवता से ही मदद की गुहार लगाते हैं।

अधिक जानकारी के लिए, हमसे instagram पर जुड़ें ।

अधिक जानकारी के लिए आप Myjyotish के अनुभवी ज्योतिषियों से बात करें।
 
  • 100% Authentic
  • Payment Protection
  • Privacy Protection
  • Help & Support


फ्री टूल्स

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms and Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
X