myjyotish

9873405862

   whatsapp

8595527218

Whatsup
  • Login

  • Cart

  • wallet

    Wallet

Home ›   Blogs Hindi ›   Pitra paksha 2020 : Tripindi shradh meaning significance

Shradh Puja: क्या है त्रिपिंडी श्राद्ध जानें अर्थ एवं महत्व  

Myjyotish Expert Updated 10 Sep 2020 02:01 PM IST
Tripindi Shradh
Tripindi Shradh - फोटो : Myjyotish
त्रिपिंडी श्राद्ध का अर्थ है पिछली तीन पीढ़ियों के हमारे पूर्वजों का पिंड दान करना। अगर पिछली तीन पीढ़ियों से परिवार में किसी का भी बहुत कम उम्र या बुढ़ापे में निधन हो गया हो तो उनका श्राद्ध करना बहुत जरुरी होता है।  उन लोगों को मुक्त अथवा उनकी आत्मा की शांति के लिए त्रिपिंडी श्राद्ध करना पड़ता है। प्रियजनों की याद में त्रिपिंडी श्राद्ध एक योगदान माना जाता है । ऐसा माना जाता है की यदि लगातार तीन वर्षों तक यह योगदान नहीं किया गया तो वह  प्रियजन (मृतक) क्रोधित हो जाते है । इसलिए उन्हें शांत करने के लिए यह योगदान किए जाते हैं।

क्या आपको चाहिए अनुभवी एक्सपर्ट की सलाह ?

SUBMIT


घर बैठें श्राद्ध माह में कराएं विशेष पूजा, मिलेगा समस्त पूर्वजों का आशीर्वाद 

अधिकांश लोगों का विचार है कि त्रिपिंडी का अर्थ है 3 पीढ़ी के पूर्वजों (पिता-माता, दादाजी-दादी और परदादा- परदादी ) को संतुष्ट करना । लेकिन यह 3 पीढ़ियों के साथ प्रकट नहीं होता है। अपितु वह तीन  ‘अस्मदकुले’, ‘मातमहा’, भ्राता  पक्ष , ससुराल पक्ष और शिक्षक पक्ष का संकेत देते हैं।

कोई भी आत्मा जो अपने जीवन में शांत नहीं है और शरीर छोड़ चुकी है, भविष्य की पीढ़ियों को परेशान करती है। ऐसी आत्मा को ‘त्रिपिंडी श्राद्ध’ की सहायता से मोक्ष की प्राप्ति करवाई जा सकती  है। श्राद्ध का उद्देश्य पूर्वजों के लिए उनके अपने वंशजों द्वारा ईमानदारी से किया गया अनुष्ठान है।

त्रिपिंडी श्राद्ध में ब्रह्मा, विष्णु और महेश इनकी प्रतिमाए उनका प्राण प्रतिष्ठा पूर्वक पूजन किया जाता है| हमे सताने वाला, परेशान करने वाला पिशाच्च योनिप्राप्त जीवात्मा रहता है उसका नाम एवं गोत्र हमे द्न्यात नहीं होने से उसके लिए “अनादिष्ट गोत्र” का शब्दप्रयोग किया जाता है। अंत : इसके प्रेतयोनि प्राप्त उस जीव आत्मा को संबोधित करते हुए यह श्राद्ध किया जाता है। त्रिपिंडी श्राद्ध जीवनभर दरिद्रता अनेक प्रकार से परेशानियां श्राद्ध कर्म, और्ध्ववैदिक क्रिया शास्त्र के विधी के अनुसार न किए जाने के कारण भूत , प्रेत , गंधर्व , राक्षस , शाकिणी – डाकिणी , रेवती , जंबूस आदि द्वारा बाधा उत्पन्न होती है ।

इस पितृ पक्ष गया में कराएं श्राद्ध पूजा, मिलेगी पितृ दोषों से मुक्ति : 01 सितम्बर - 17 सितम्बर 2020

त्रिपिंडी और पंच पिंडी श्राद्ध एक ही होता है परंतु त्रिपिंडी में तीन स्थानों पर पिंड स्थापित होते हैं पहला होता है भगवान का , दूसरा पितृ का , तीसरा स्थान प्रेत का। इसलिए ही इसको त्रिपिंडी श्राद्ध कहते हैं क्योंकि इसमें तीन पिंड स्थापित होते हैं और पिंडों की पूजा होती है।

यह भी पढ़े :-  

Shradh 2020 Dates- जानें श्राद्ध प्रारम्भ तिथि एवं महत्व 


श्राद्ध पूजा 2020 : क्या है विशेष, जानें मान्यता

श्राद्ध 2020 : कब से प्रारम्भ हो रहें है श्राद्ध, जानें महत्वपूर्ण तिथियाँ

  • 100% Authentic
  • Payment Protection
  • Privacy Protection
  • Help & Support


फ्री टूल्स

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms and Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
X