myjyotish

9818015458

   whatsapp

8595527218

Whatsup
  • Login

  • Cart

  • wallet

    Wallet

Home ›   Blogs Hindi ›   shradh 2020 start dates in india calendar shradh paksha Pooja significance

Shradh 2020 Dates- जानें श्राद्ध प्रारम्भ तिथि एवं महत्व 

Myjyotish Expert Updated 27 Aug 2020 12:53 PM IST
श्राद्ध 2020 -  प्रारम्भ तिथि एवं महत्व 
श्राद्ध 2020 - प्रारम्भ तिथि एवं महत्व  - फोटो : Myjyotish
आश्विन माह के कृष्ण पक्ष के 15 दिन का समय श्राद्ध कहा जाता है । श्राद्ध का हिन्दू धर्म में बहुत महत्त्व हैं, ग्रंथों के अनुसार भगवान की पूजा से पहले पूर्वजों की पूजा आवश्यक मानी गयी हैं। कहा जाता है कि पूर्वज प्रसन्न तो भगवान प्रसन्न । यदि विधि अनुसार पितरों का तर्पण न हो तो उन्हें मुक्ति नही मिलती और उनकी आत्मा मृत्युलोक में भटकती रहती हैं। कहा जाता है कि जो श्राद्ध में अपने पितरों का तर्पण नहीं करते वो अपने जीवन सफल नहीं हो पातें है।  घर बैठें श्राद्ध माह में कराएं विशेष पूजा, मिलेगा समस्त पूर्वजों का आशीर्वाद 

श्राद्ध पूजन विधि  : 
श्राद्ध में सुबह उठकर स्नान कर अपने पितरों का पसंदीदा भोजन बनवाएं और तिल, चावल,जौ को विशेष रूप से सम्मलित करें। तिल अर्पित करें फिर पितरों के भोजन की पिंडी बनाकर उन्हें अर्पित करें । ब्राह्मण को भोजन कराकर उन्हें वस्त्र और दक्षिणा प्रदान करें । अंत में कौओ को भोजन कराएं क्योंकि श्राद्ध में  कौओ को पितरों का रूप माना जाता है ।

श्राद्ध भोजन :
जौ,सरसों और मटर का उपयोग अच्छा माना गया हैं । भोजन में तिल को बहुत महत्वपूर्ण माना गया है, तथा जो भोजन पितरों को पसंद हो उसकी खास विशेश्ता हैं। दुध,गंगाजल,शहद का उपयोग भोजन में आवश्यक माना गया हैं ।

इस पितृ पक्ष गया में कराएं श्राद्ध पूजा, मिलेगी पितृ दोषों से मुक्ति : 01 सितम्बर - 17 सितम्बर 2020
 

इस वर्ष श्राद्ध की महत्वपूर्ण तिथियाँ :

श्राद्ध इस वर्ष 1 सितंबर 2020 से 17 सितंबर 2020 तक हैं । 
  • पहला श्राद्ध (पूर्णिमा श्राद्ध) 1 सितंबर 2020
  • दूसरा श्राद्ध 2 सितंबर 2020
  • तीसरा श्राद्ध 3 सितंबर 2020
  • चौथा श्राद्ध 4 सितंबर 2020
  • पांचवा श्राद्ध 5 सितंबर 2020
  • छठा श्राद्ध 6 सितंबर 2020
  • सांतवा श्राद्ध 7 सितंबर 2020
  • आंठवा श्राद्ध 8 सितंबर 2020
  • नवां श्राद्ध 9 सितंबर 2020
  • दसवां श्राद्ध 10 सितंबर 2020
  • ग्यारहवां श्राद्ध 11 सितंबर 2020
  • बारहवां श्राद्ध 12 सितंबर 2020
  • तेरहवां श्राद्ध 13 सितंबर 2020
  • चौदहवां श्राद्ध 14 सितंबर 2020
  • पंद्रहवां श्राद्ध 15 सितंबर 2020
  • सौलवां श्राद्ध 16 सितंबर 2020
  • सत्रहवां श्राद्ध 17 सितंबर  2020 (सर्वपितृ अमावस्या).

श्राद्ध में तिथि का ज्ञान बहुत आवश्यक हैं , जिस तिथि पर पूर्वजो का देहावसान हुआ हो उसी तिथि पर श्राद्ध होना अच्छा होता है । अगर किसी कारणवश तिथि ज्ञात न हो तो पितृ अमावस को श्राद्ध कर सकते हैं।

इस साल श्राद्ध थोड़े अलग होंगे। इस साल नवरात्रि श्राद्ध के तुरंत बाद न होकर 1 महीने बाद शरू है , इसका कारण है अधिक मास । इस साल 2 महीने अधिकमास लग रहा हैं ।
 

यह भी पढ़े :-

वित्तीय समस्याओं को दूर करने के लिए ज्योतिष उपाय

अपनी राशिनुसार जाने सबसे उपयुक्त निवेश

ज्योतिष किस प्रकार आपकी सहायता करने योग्य है ?

  • 100% Authentic
  • Payment Protection
  • Privacy Protection
  • Help & Support

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms and Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
X