myjyotish

9873405862

   whatsapp

8595527218

Whatsup
  • Login

  • Cart

  • wallet

    Wallet

Home ›   Blogs Hindi ›   Wednesday Fast Ganesha Puja Vidhi Budhwar Ganesh Ki Vrat Katha Significance

जानें श्री गणेश पूजा से जुड़ी ये पौराणिक कथा एवं उसका महत्व

Myjyotish Expert Updated 16 Mar 2021 04:32 PM IST
Wednesday Fast
Wednesday Fast - फोटो : Myjyotish
बहुत समय पहले की बात है कि, रामू नामक एक आदमी अपनी ससुराल मेहमानी के लिए आचा और मेमान बनकर रहने लगा। जब इस प्रकार रहते हुए उसे बहुत दिन व्यतीत हो गये तो एक बुधवार के दिन उसने अपने ससुर से बिदाई माँगी और कहा कि मैंने आपके यहा इतने दिन मेहमान के रूप में व्यतीत किये अतः अब आप मुझे सपत्नी घर जाने की आज्ञा दें। परन्तु उसके  ससुर ने कहा- हम आज कैसे भेज दें, आज तो बुधवार  है इसलिए आज भगवान का व्रत एवम् पूजा होती है अतः आज तो बिदाई नहीं हो सकती। हाँ, कल अवश्य कर देंगे। फिर तो ससुर की ऐसी बातों को सुनकर भी उसने न माना और जबरदस्ती बार-बार आग्रह करने लगा। तब ससुर ने दामाद रामू को पुत्री सहित बिदा कर दिया। इस प्रकार बुधवार के दिन ससुराल से बिदाई लेकर चला और रास्ते में कुछ ही दूर पहुँचा था कि उसकी स्त्री को प्यास लगी और वह स्त्री के लिए रथ से उतर कर पानी लेने चल पड़ा और जब थोड़ी देर में पानी लेकर आया तो देखता क्या है कि उस स्थान पर उसी शक्ल का तथा वैसे ही स्वरूप धारण किये हुए एक अन्य पुरुष बैठा है।

क्या आपको चाहिए अनुभवी एक्सपर्ट की सलाह ?

SUBMIT


फिर तो उस अजनबी पुरुष को अपने ही समान पा वह बड़ा चकित हुआ और विचार करने लगा कि, मेरे ही स्वरूप का यह कौन व्यक्ति है ? ऐसा विचार कर क्रुद्ध होते हुए रामू ने उस व्यक्ति से पूछा कि तुम कौन व्यक्ति हो, जो मेरी अनुपस्थिति में मेरी पत्नी के समीप रथ में बैठे हो? परन्तु वह व्यक्ति बोला कि पहले यह तो बताओ कि तुम कौन हो ? तुम मुझसे क्यों पूछ रहे हो और यदि पूछते हो तो मैं बताता हूँ कि यह मेरी स्त्री है। मैं इसे अपनी ससुराल से बिदाकर ला रहा हूँ और रथ में बैठा हूँ।

विनायक चतुर्थी पर कराएं मुंबई के सिद्धि विनायक में पूजा, विघ्नहर्ता हरेंगे सारे विघ्न : 17 मार्च 2021 - Vinayaka Chaturthi Puja Online

इस उन दोनों में परस्पर वाद-विवाद होने लगा, बहुत से आदमी एकत्र हो गये परन्तु कोई भी उन दोनों के झगड़े का निर्णय न कर सका और वह स्त्री भी दो पुरुषों को तो एक ही स्वरूप तथा वस्त्रो वाला देखकर चकित रह गयी तथा वह जान न सकी कि इसमें मेरा पति कौन है। इसी बीच राजा को इस झगड़े का समाचार मिला और उन्होंने अपने सिपाहियों को जाँच के लिए भेजा फिर तो राजा के सिपाहियों ने रामू को पकड़ लिया और राजा के पास ले चले।

सिपाहियों द्वारा पकड़े जाने पर रामू अत्यन्त दुःखी हुआ और रोते हुए विलाप करने लगा कि भगवन् ! यह सब क्या है, कौन झूठ है तथा कौन सच है ऐसा कहकर रामू रोने तथा भगवान् कि दुहाई देने लगा। उसी समय आकाशवाणी हुई कि रामू नाम का यह व्यक्ति जबर्दस्ती से अपने ससुर का कहना न मानकर पत्नी को के दिन लेकर चला, जिसका यह फल है। बुधवार बुधवार को विदाई लेकर चलने के कारण ही इसे यह दुःख प्राप्त हुआ है। ऐसा कह आकाशवाणी चुप हो गयी। पश्चात् भगवान् बुधजी अन्तर्धान हो गये फिर तो रामू ने भगवान् बुध की आराधना का, जिसके कारण वह राजा के सिपाहियों द्वारा मुक्त हो गया और भगवान् बुध की स्तुति करता हुआ स्त्री-सहित घर आया और भगवान् बुध के प्रसन्नार्थ व्रत इत्यादि करने लगा। जो मनुष्य इस बुधवार-व्रत को करता अथवा केवल कथा ही श्रवण करता या पठन-पाठन करता है, उसको बुधवार के दिन गमन करने पर कोई भी कष्ट नहीं पड़ता।

 यह भी पढ़े :-       

विनायक चतुर्थी पर कैसे करें पूजन, जानें तिथि महत्व एवं पूजन विधि

मीन संक्रांति-तन, मन और आत्मा को शक्ति प्रदान करता है। ज्योतिषाचार्या स्वाति सक्सेना

मीन सक्रांति आखिर क्यों मनायी जाती है

  • 100% Authentic
  • Payment Protection
  • Privacy Protection
  • Help & Support


फ्री टूल्स

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms and Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
X