myjyotish

7678508643

   whatsapp

8595527218

Whatsup
  • Login

  • Cart

  • wallet

    Wallet

Home ›   Live ›   Blogs Hindi ›   Happy New Year 2022 Live Yearly Horoscope Astrology Prediction Transits Varshik Rashifal Zodiac Sign Bhavishya Upay Shubh Muhurat Updates in Hindi

Happy New Year 2022 Live : एक कदम आगे तो दो कदम पीछे, देश - दुनियां के लिए कुछ इस तरह रहा साल 2021

Myjyotish expert Updated 31 Dec 2021 08:06 PM IST
Happy New Year 2022 Live Yearly Horoscope Astrology Prediction Transits Varshik Rashifal Zodiac Sign Bhavishya Upay Shubh Muhurat Updates in Hindi
नया साल मुबारक हो 2022 भविष्यवाणियां - फोटो : google

खास बातें

Happy New Year 2022 Year Ender and Astrology Predictions Live  : आज 2021 का आख़री दिन है, तो बीते साल के बारे में ज्योतिषीय चर्चा करना बेहद ज़रूरी है। 2021 अपने साथ कई अच्छी-बुरी यादें लेकर आया था। 2020 के कोरोना क़हर के बाद 2021 का बड़ी उम्मीद से स्वागत किया गया था। कन्या लग्न और कर्क राशि में प्रारम्भ हुए इस साल की पहली तारीख़ को चंद्र, मंगल और शनि स्वयं की राशि में थे।

लाइव अपडेट

08:00 PM, 31-Dec-2021

तालिबान का अफ़ग़ानिस्तान पर क़ब्ज़ा (15 दिन में चन्द्र-सूर्य ग्रहण)

 

26 मई को चंद्र ग्रहण और इसके पंद्रह दिन के अंतराल में 10 जून को सूर्य ग्रहण हुआ। इस खगोलीय घटना का सीधा असर अफ़ग़ानिस्तान पर देखने को मिला। ज्योतिषी मानते हैं कि एक पाग अर्थात् पंद्रह दिनों के मध्य में दो ग्रहण पड़ना शासक और प्रजा दोनों के लिए अहितकारी परिणाम देता है।अफ़ग़ानिस्तान में तालिबानी क़ब्ज़ा इस साल की सबसे निन्दनीय घटना हुई। ग्रहणों के बाद बुध ग्रह के 9 अगस्त को सिंह राशि में गोचर करते ही, अफगानिस्तान के राष्ट्रपति अशरफ गनी 15 अगस्त को देश छोड़ने पर मजबूर हो गए और तालिबान द्वारा राष्ट्रपति भवन पर कब्जा कर लेने के साथ ही अफगानिस्तान पर फिर से तालिबान की वापसी हुई। इस घटना के बाद से ही तालिबान संचालित अफगानिस्तान की जनता ने तालिबानी शासन से भयातुर होकर अपना देश त्यागना ज़रूरी समझा और कई आम नागरिकों को अपनी जान गँवानी पड़ी।

06:35 PM, 31-Dec-2021
बंगाल हिंसा (शुक्र और सूर्य का मेष राशि में प्रवेश)

10 से 16 अप्रैल के दौरान चार बड़े *राशि परिवर्तन* हुए। जिसमें 10 अप्रैल को शुक्र ग्रह और 14 अप्रैल को सूर्य का गोचर मुख्य रहे। इन दोनों ग्रहों के मीन से मेष राशि में प्रवेश करने के प्रभाव से स्वास्थ्य और राजनीति में असर देखने को मिला। प. बंगाल में लगातार तीसरी बार ममता बनर्जी के नेतृत्व में तृणमूल काँग्रेस की जीत और भाजपा की हार के बाद पश्चिम बंगाल में भड़की हिंसा उक्त दोनों ग्रहों का ही प्रभाव है।
05:45 PM, 31-Dec-2021
इजराइल के प्रधानमंत्री नेतन्याहू का पद गँवाना (सूर्य का राशि परिवर्तन)

जून 2021 में सूर्य ने वृषभ से मिथुन राशि में प्रवेश किया। इसराइल की संसद द्वारा नई गठबंधन सरकार की के समर्थन में पूर्ण बहुमत दिया गया और 12 साल से इज़रायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू को तुला राशि में नीच के सूर्य ग्रह के प्रभाव से प्रधानमंत्री का पद त्यागना पड़ा।
05:15 PM, 31-Dec-2021
कोरोना टीकाकरण (बुध और मंगल का प्रभाव)

कोविड-19 की वैक्सीन के आ जाने से भारत समेत सभी देशों को सुकून मिला। चेचक या पोलियो आदि रोग के टीके बनने में जहाँ आमतौर पर दस-पंद्रह साल लग गए वहीं बुध के प्रभाव से कोविड का टीका एक साल के भीतर ही राहत बनकर तैयार हो गया। भारत में 16 जनवरी से प्रारम्भ हुए कोविड टीकाकरण ने मंगल का सानिध्य पाकर 31 दिसम्बर 2021 को प्रातः आठ बजे तक 1,44,54,16,714 का आँकड़ा छुआ।
04:45 PM, 31-Dec-2021
उत्तराखंड ग्लेशियर टूटने से मची तबाही (शनि-सूर्य ग्रह योग)

मेदिनी ज्योतीष प्रकृति में हुए बदलावों और सभी प्रकार की प्राकृतिक आपदाओं को दर्शाने वाली होती है। 7 फरवरी के दिन मकर राशि में सूर्य बुध, शुक्र, गुरु शनि का योग तथा चंद्रमा की नीचस्थ स्थिति केतु के साथ होने पर उत्तराखंड में ग्लेशियर के टूटने से जुड़ी प्राकृतिक आपदा का कारण बनी और इस उत्तराखंड चमोली में ग्लेशियर के टूटने से मची तबाही में कई लोगों की जान चली गई।
03:15 PM, 31-Dec-2021
म्यांमार में तत्खतापलट (मंगल-शनि का प्रभाव)
मंगल शनि का स्वराशि गत होना और शनि-सूर्य का युति संबंध अचानक से होने वाले बदलाव और समाज और सत्ता के मध्य संघर्ष का मुख्य कारण बनता है। मंगल सेना का प्रतिक है और मेष राशि में मजबूत अवस्था में है और शनि जो समाज का और सूर्य राज्य का एक साथ होना परस्पर गतिरोधों का कारण बना। जिसके चलते 1 फ़रवरी को म्यांमार में सेना का सत्ता पर शासन हुआ और सत्ता में बदलाव की इस घटना ने देश भर को प्रभावित किया।
02:45 PM, 31-Dec-2021
26 जनवरी की हिंसा (वाणी व बुद्धि के कारक बुध ग्रह का गोचर करना)

25 जनवरी की शाम 04:19 पर मकर से कुंभ राशि में बुध के गोचर होने से इस राशि परिवर्तन का अशुभ प्रभाव पड़ा। केंद्र सरकार के कृषि क़ानूनों का विरोध कर रहे किसानों ने 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस के दिन दिल्ली में ट्रैक्टर मार्च के दौरान हजारों किसानों ने लाल किले की दीवारों पर चढ़कर तिरंगे के बगल से ही एक ध्वज फहरा दिया। यह देश के लिए सबसे दुर्भाग्यपूर्ण घटना मानी गई।
02:15 PM, 31-Dec-2021
अमेरिकी राष्ट्रपति बने जो बाइडन (ग्रहों के महायोग ने बनाया महाशक्तिशाली)

20 जनवरी, 2021 को चतुर्ग्रही योग में जो बाइडेन ने अमेरिका के 46वें राष्ट्रपति के रूप में शपथ ग्रहण ली। 78 वर्षीय बाइडेन अमेरिका के सबसे उम्रदराज राष्ट्रपति हैं और साथ ही सबसे कम उम्र में सीनेटर बनने का रिकॉर्ड भी इन्हीं के नाम है। कुंडली के महत्वपूर्ण योग ने इन्हें राज सुख का अधिकारी और साथ ही विश्व के सबसे शक्तिशाली देश का राष्ट्रपति बनाया।
01:45 PM, 31-Dec-2021
कैपिटल हिल हिंसा (डॉनल्ड ट्रम्प पर मंगल का प्रभाव)

कुंडली में नीच राशि के चंद्रमा और केतु की युति पर सूर्य की पूर्ण दृष्टि के कारण डॉनल्ड ट्रम्प राष्ट्रपति चुनाव में हार गए। जिसके बाद, अमेरिका के कैपिटल हिल में जनवरी की 6 तारीख़ को डोनाल्ड ट्रंप समर्थकों द्वारा हंगामा किया गया। केतु के साथ चंद्रमा की स्थिति ने ग्रहण दोष का निर्माण किया। 6 जनवरी को एक रैली में ट्रम्प ने विरोध हेतु आह्वान किया, जिसमें 5 लोग मारे गए। नौवें घर के स्वामी मंगल के चौथे स्थान पर योग बनाने के प्रभाव से ट्रम्प ने भड़काऊ भाषण दिए और विश्वभर में आलोचना के बाद उनका ट्विटर अकाउंट भी बैन हो गया था।
12:45 PM, 31-Dec-2021

Happy New Year 2022 Live : एक कदम आगे तो दो कदम पीछे, देश - दुनियां के लिए कुछ इस तरह रहा साल 2021

आज 2021 का आख़री दिन है, तो बीते साल के बारे में ज्योतिषीय चर्चा करना बेहद ज़रूरी है। 2021 अपने साथ कई अच्छी-बुरी यादें लेकर आया था। 2020 के कोरोना क़हर के बाद 2021 का बड़ी उम्मीद से स्वागत किया गया था। कन्या लग्न और कर्क राशि में प्रारम्भ हुए इस साल की पहली तारीख़ को चंद्र, मंगल और शनि स्वयं की राशि में थे। ग्रहण व ग्रह चाल, राशि-लग्न आदि ज्योतिषीय घटनाओं का शुभ और अशुभ प्रभाव जनता और उनके शासक व देशों पर भी पड़ता है। लेकिन, इस साल कुछ ऐसी घटनाएँ भी हुईं जिन्होंने विश्व स्तर पर लोगों को झकज़ोर दिया। कई देशों के तो सिंहासन तक हिल गए। आज वर्ष के अंतिम दिन हम जानेंगे 2021 की ख़ास घटनाओं के ज्योतिषीय कारण 
  • 100% Authentic
  • Payment Protection
  • Privacy Protection
  • Help & Support


फ्री टूल्स

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms and Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
banner-image
X