myjyotish

9873405862

   whatsapp

8595527218

Whatsup
  • Login

  • Cart

  • wallet

    Wallet

Home ›   Blogs Hindi ›   Online dashrath krit shrot pathh hindi lyrics shani dasha

जानें कैसे शनि के प्रकोप से बचाता है दशरथ कृत शनि स्तोत्र

Myjyotish Expert Updated 03 May 2021 11:15 PM IST
Astrology
Astrology - फोटो : Myjyotish

शनिदेव भगवान को न्याय का देवता कहा जाता है। शनि देव सब लोगों को उनके कर्मों के अनुसार फल देते है। कहां जाता है कि अगर किसी शख्स पर शनिदेव की कृपा हो जाए तो उसके जीवन में मानों ऐसा होता है कि उसकी किस्मत चमक जाती है, लेकिन अगर इसी का उलटा हो जाए कि शनिदेव का प्रकोप हो तो उसका जीवन बर्बाद होने में देरी नहीं होती हैं।

क्या आपको चाहिए अनुभवी एक्सपर्ट की सलाह ?

SUBMIT


मान्यता है कि जब किसी व्यक्ति पर शनि की साढ़ेसाती, ढैया और अन्य महादशा चल रही होती है तो उसे शारीरिक, मानसिक और आर्थिक तीनों तरह से प्रताड़ना सहनी पड़ती है।

अगर आप शनिदेव के प्रकोप से बचना चाहते है तो उन्हें प्रसन्न करने के लिए हर शनिवार को दशरथकृत शनि स्तोत्र का पाठ जरूर करें। ऐसा करने से माना जाता है कि शनि की साढ़ेसाती, ढैया आदि किसी भी तरह की शनि संबन्धी पीड़ा से मुक्ति देते हैं।

तो आइए जानते हैं शनि स्तोत्र, इसका महत्व और पूजा विधि।

ये है शनि स्तोत्र
नमः कृष्णाय नीलाय शितिकण्ठ निभाय च
नमः कालाग्निरुपाय कृतान्ताय च वै नमः

नमो निर्मांस देहाय दीर्घश्मश्रुजटाय च
नमो विशालनेत्राय शुष्कोदर भयाकृते

नमः पुष्कलगात्राय स्थुलरोम्णेऽथ वै नमः
नमो दीर्घाय शुष्काय कालदंष्ट्र नमोऽस्तु ते

भौमवती अमावस्या पर गया में कराएं पितृ तर्पण, समस्त कर्ज एवं ऋण सम्बंधित कष्ट होंगे दूर : 11th May 2021

नमस्ते कोटराक्षाय दुर्नरीक्ष्याय वै नमः
नमो घोराय रौद्राय भीषणाय कपालिने

नमस्ते सर्वभक्षाय बलीमुख नमोऽस्तु ते
सूर्यपुत्र नमस्तेऽस्तु भास्करेऽभयदाय च

अधोदृष्टेः नमस्तेऽस्तु संवर्तक नमोऽस्तु ते
नमो मन्दगते तुभ्यं निस्त्रिंशाय नमोऽस्तु ते

तपसा दग्ध.देहाय नित्यं योगरताय च
नमो नित्यं क्षुधार्ताय अतृप्ताय च वै नमः

ज्ञानचक्षुर्नमस्तेऽस्तु कश्यपात्मज.सूनवे
तुष्टो ददासि वै राज्यं रूष्टो हरसि तत्क्षणात्

देवासुरमनुष्याश्र्च सिद्ध.विद्याधरोरगाः
त्वया विलोकिताः सर्वे नाशं यान्ति समूलतः

प्रसाद कुरु मे सौरे! वारदो भव भास्करे
एवं स्तुतस्तदा सौरिर्ग्रहराजो महाबलः

माना जाता है कि शनि स्तोत्र के रचयिता राजा दशरथ हैं। उन्होंने ही इस स्तुति से शनिदेव को प्रसन्न किया था। तब शनिदेव ने प्रसन्न होकर उनसे वर मांगने को कहा था। इसके बाद राजा दशरथ ने शनिदेव से विनती की कि वे देवता, असुर, मनुष्य, पशु-पक्षी किसी को भी पीड़ा न दिया करें। उनकी बात सुनकर शनिदेव बेहद प्रसन्न हुए और कहा कि आज के बाद जो भी इस दशरथकृत शनि स्तोत्र का पाठ करेगा, उसे शनि के प्रकोप से मुक्ति मिल जाएगी।

इस तरह करें शनि स्तोत्र
हर  शनिवार को सुबह जल्दी उठकर स्नान करके या शाम को इसका पाठ किया जा सकता है। इस दिन शनिदेव के मंदिर में उसके समक्ष सरसों के तेल का दीपक जलाएं। इसके बाद उन्हें सच्चे दिल से नमन करके दशरथ कृत शनि स्तोत्र का पाठ करें और अपने ऊपर आए  संकटों से मुक्ति की प्रार्थना करें। पूजा के बाद शनि देव के मंदिर में जाकर तिल का तेल या सरसों के तेल में काले तिल डालकर चढ़ाएं और अपनी इच्छा अनुसार जरूरतमंदों को सामर्थ्य के अनुसार दान करें।

ये भी पढ़े :

हनुमान के वो गुण जिससे कर सकते हैं आप अपने व्यक्तित्व का विकास

क्या कोरोना वायरस का कहर कम होने वाला है? जानें ज्योतिष शास्त्र के अनुसार

कौन थी माता पार्वती और भगवान शिव की तीन बेटियां, जानिए इसकी कथा


 
 
 
  • 100% Authentic
  • Payment Protection
  • Privacy Protection
  • Help & Support


फ्री टूल्स

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms and Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
X