myjyotish

7678508643

   whatsapp

8595527218

Whatsup
  • Login

  • Cart

  • wallet

    Wallet

Home ›   Blogs Hindi ›   pitr dosh tips and tricks by planting these specific plants

पितृ दोष से चाहिए मुक्ति तो अमावस्या के दिन लगाएं ये पौधे

myjyotish expert Updated 07 Jul 2021 11:25 PM IST
पितृ दोष
पितृ दोष - फोटो : google
हिंदू धर्म में अमावस्या की तिथि को बहुत महत्वपूर्ण माना जाता है। ख़ासतौर से पितरों की पूजा के लिए ये दिन बहुत शुभ बताया गया है। अगर आप इस दिन अपने पितरों की पूजा करते हैं तो आपको उनका विशेष आशीर्वाद मिलता है और साथ ही उनकी आत्मा को शांति मिलती है। अगर आपकी कुंडली में पितृ दोष है फिर तो ये पूजा आपके लिए और भी आवश्यक और लाभदायक है।

इस दिन विधिवत रूप से पितरों कि पूजा की जाती है। इसके पश्चात गंगा नदी में स्नान किया जाता है। अगर कोई व्यक्ति गंगा नदी में स्नान करने नहीं जा सकता तो वो किसी अन्य नदी या सरोवर के तट पर भी जा सकता है। अगर इसकी भी संभावना ना हो तो इंसान गंगाजल को पानी में मिलाकर भी स्नान कर सकता है। 

शनि की कुदृष्टि से बचने के लिए जानें उनके जीवन के अनजाने तथ्य, क्लिक करें
 

कई लोग इस दिन व्रत रखते हैं और फलाहार वाला भोजन ही ग्रहण करते हैं। इसके अतिरिक्त इस दिन दान-पुण्य का काम करना भी काफ़ी शुभ होता है। आपको अपनी आर्थिक स्थिति के अनुसार जो भी ठीक लगे वो आप किसी गरीब को दान कर सकते हैं। 

इन सब के अलावा एक और चीज़ है जिसे करने से आप अपने पितरों को प्रसन्न कर सकते हैं। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार कुछ खास वृक्ष हैं जिन्हें अमावस्या के दिन लगाना बहुत ही शुभ माना जाता है और इससे पितरों को खुशी मिलती है। इनमें निम्नलिखित पौधे शामिल हैं:
 

बेल का वृक्ष

अमावस्या के दिन शिव जी की पूजा की पूजा का बहुत महत्व होता है। इससे सिर्फ भगवान शिव ही नहीं बल्कि चन्द्र देव भी प्रसन्न होते हैं। ऐसी मान्यता है कि बेल का पेड़ शिव जी को बहुत प्रिय है। इसलिए अगर आप बेल का वृक्ष लगाते हैं तो ये पुण्यदायी माना जाता है। इससे पितरों की आत्मा को शांति मिलती है। 


बरगद का वृक्ष

शास्त्रों और वेदों के अनुसार बरगद को मोक्ष देने वाला वृक्ष माना गया है। अमावस्या के दिन बरगद का पौधा लगाने से पितरों कि आत्मा को बहुत शांति मिलती है। व्यक्ति के परिवार में सबको इसका लाभ मिलता है और सभी सदस्यों की आयु लम्बी होती है। इसके अतिरिक्त आप बरगद के पेड़ के नीचे बैठकर शिव जी की आराधना करें और फिर पेड़ की तीन बार परिक्रमा करें तो इसे भी काफ़ी शुभ माना जाता है। 


पीपल का वृक्ष

हमारे हिन्दू धर्म में पीपल के वृक्ष की बहुत मान्यता होती है। ऐसा कहा जाता है कि पीपल का पेड़ भगवान कृष्ण का प्रतिनिधित्व करता है। पीपल का पौधा अगर अमावस्या के दिन लगाया जाए तो पितरों को बहुत शांति मिलती है। पौधा लगाने के अतिरिक्त आप पीपल के पेड़ के नीचे बैठकर सरसों के तेल का दीया भी अवश्य जलाएं।


तुलसी का पौधा

ऐसी मान्यता है कि तुलसी के पौधे से बैकुंठ पहुंचा जा सकता है। तुलसी के पौधे का हमारे धर्म में ऐसे भी महत्वपूर्ण स्थान है। अगर आप अमावस्या के दिन अपने पितरों के नाम पर तुलसी का पौधा लगाते हैं तो इससे पितरों को मुक्ति मिलती है। और अगर ये काम पितृ पक्ष के दौरान किया जाए तो उसे और भी शुभ माना जाता है। कहते हैं घर में अगर तुलसी का पौधा हो तो सभी वास्तु दोषों का निवारण होता है। इसके साथ ही ये परिवार के प्रत्येक व्यक्ति को अकाल मृत्यु से बचाता है।

ध्यान रहे केवल इन पौधों को लगाकर छोड़ना नहीं है। जब तक ये बड़े ना हो जाए इनकी अच्छे से देखरेख करनी होगी। कहते हैं जैसे-जैसे ये पौधे बड़े होते हैं और वृक्ष में परिवर्तित होते जाते हैं, वैसे वैसे ही आपके जीवन से सारी समस्याएं दूर होती जाती हैं।


ये भी पढ़ें:

 

बुध गोचर 2021: आज बुध ने बदली अपनी राशि, इन 4 राशियों पर बरसेगी अपार खुशियां

जानें किस पेड़ की नियमित रूप से पूजा करने से दूर होती है गरीबी और बना रहता है धन का आगमन

Brihaspativar Vrat Katha – बृहस्पतिवार गुरुवार व्रत कथा एवं पूजा विधि, यहाँ क्लिक करें

  • 100% Authentic
  • Payment Protection
  • Privacy Protection
  • Help & Support


फ्री टूल्स

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms and Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
X