myjyotish

6386786122

   whatsapp

8595527218

Whatsup
  • Login

  • Cart

  • wallet

    Wallet

Home ›   Blogs Hindi ›   Nagchandreshwar temple of Ujjain is very special, only once a year is seen

Nag Panchami Vishesh:बहुत खास है उज्जैन का नागचंद्रेश्वर मंदिर, साल में बस एक बार होता हैं दर्शन

Myjyotish Expert Updated 01 Aug 2022 02:44 PM IST
बहुत खास है उज्जैन का नागचंद्रेश्वर मंदिर, साल में बस एक बार होता हैं दर्शन
बहुत खास है उज्जैन का नागचंद्रेश्वर मंदिर, साल में बस एक बार होता हैं दर्शन - फोटो : google

बहुत खास है उज्जैन का नागचंद्रेश्वर मंदिर, साल में बस एक बार होता हैं दर्शन


नाग पंचमी श्रावण मास के शुक्ल पक्ष की पंचमी को मनाया जाएगा। नाग पंचमी हिंदू धर्म नागों की पूजा करने का बहुत ही पवित्र त्योहार माना जाता है।नाग पंचमी के दिन नाग देव की पूजा तो की ही जाति साथ ही शिव जी की भी पूजा अर्चना की जाती है। नाग पंचमी के दिन नागों की पूजा की जाती है हिंदू धर्म में इसको लेकर एक अपनी अलग आस्था रखते है। आध्यात्मिक के दृष्टि से देखे तो इस दिन नाग की पूजा करने से आध्यात्मिक शक्ति और मनोवांछित फल मिलता हैं।इस साल 2022 में नाग पंचमी 2 अगस्त को पड़ा है। इसी नाग पंचमी में उज्जैन का नागचंद्रेश्वर मंदिर साल में बस एक बार खुलता है,आइए हम जानते है की क्यों ऐसा किया जाता है।

नाग पंचमी को प्रसिद्ध तीर्थ नैमिषारण्य में करें नाग देवता का अभिषेक, होगी अक्षय पुण्य की प्राप्ति

नागचंद्रेश्वर मंदिर उज्जैन

नागचंद्रेश्वर मंदिर 11 शताब्दी की एक अद्भुत प्रतिमा है। ये मंदिर प्रसिद्ध महाकाल के तीसरी मंजिल पर है। मंदिर  इस मंदिर में माता पार्वती और महादेव दोनों की नाग फैलाए हुए बैठे है। इस मंदिर एक सबसे खास बात यह है की ये साल में बस एक बार ही नाग पंचमी के दिन खुलता है। उसी दिन महादेव के भक्त  इस दिन दर्शन कर सकते है।मान्यता है की इस मंदिर में स्वयं नागराज तक्षक रहते है। इस मंदिर में आपको महादेव के पूरे परिवार के दर्शन करने को मिलेंगे। माता पार्वती और महादेव ,श्री गणेश साथ में दसमुखी सर्प सया पर विराजित है। यहां पर जो शिव जी की मूर्ति है वैसी मूर्ति दुनिया भर में कही नही है। महादेव के गले में और भुजाओं में गुजांग लिपटे हुए है। सुनने में आया है की ये मूर्ति नेपाल से लाई गई है। दुनिया में ऐसी कही और नहीं मिलती है मूर्ति। क्योंकि यहाँ पर विष्णु जी नहीं बल्कि महादेव शेष नाग पर विराजमान है। ये मंदिर अपने आप में अद्भुत है।

आज ही करें बात देश के जानें - माने ज्योतिषियों से और पाएं अपनीहर परेशानी का हल

कितना प्राचीन है मंदिर
कहा जाता है की ये मंदिर अति प्राचीन है।मान्यता है की  परमार राजा भोज ने 1050 ईसवी के लगभग इस मंदिर का निर्माण करवाया। इसके बाद इस मंदिर का जीर्णोद्धार सिंधिया घराने के महाराजा राणोजी सिंधिया ने 1732 में करवाया। यहां के लोगों की यही कामना होती है की बस एक बार नागराज महादेव अपने दर्शन दे देते है। महादेव के सारे भक्त एक ही दिन को अपने शिव शम्भू के दर्शन करते है।

पौराणिक मान्यता 
इस मंदिर में तक्षक राज की कहानी मिलती है। कथा मिलती है की तक्षक महादेव को प्रसन्न करने के लिए घोर तपस्या की थी। तपस्या से प्रसन्न होकर महादेव ने तक्षक को सर्पों का देवता बना दिया साथ ही तक्षक को अमरत्व का वरदान दिया। इसके बाद नागराज तक्षक महादेव के साथ ही रहने लगे। लेकिन महाकाल में निवास करने से पूर्व उनकी एक मनसा थी की जब वो एकांत वास में हो तो उनको कोई विघ्न ना डालें। तभी से ये परम्परा चली आ रही है की साल में बस एक बार नागचंद्रेश्वर मंदिर का द्वार खुलता है। नागपंचमी के दिन ही महादेव के भक्त उनके इस अद्भुत स्वरूप के दर्शन होते है। दर्शन करने के बाद इंसान पर लगा काल सर्प दोष खत्म हो जाता है।इस वजह से इस मंदिर में नाग पंचमी के दिन बहुत लंबी कतार लगी रहती हैं।

ये भी पढ़ें

  • 100% Authentic
  • Payment Protection
  • Privacy Protection
  • Help & Support


फ्री टूल्स

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms and Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
X