Know How A Person's Nature Changes With The Auspicious And Inauspicious Effects Of Rahu. - जानिए कैसे राहु के शुभ -अशुभ प्रभावों से बदलता है व्यक्ति का स्वभाव - Myjyotish News Live
myjyotish
हेल्पलाइन नंबर

9818015458

  • login

    Login

  • Cart

  • wallet

    Wallet

Home ›   Blogs Hindi ›   Know how a person's nature changes with the auspicious and inauspicious effects of Rahu.

जानिए कैसे राहु के शुभ -अशुभ प्रभावों से बदलता है व्यक्ति का स्वभाव

My Jyotish Expert Updated 13 Apr 2020 04:20 PM IST
Know how a person's nature changes with the auspicious and inauspicious effects of Rahu.
ज्योतिष शास्त्रों के अनुसार राहु असुर स्वरभानु का कटा हुआ शरीर है जो की ग्रहण के समय सूर्य व चन्द्रमा के समक्ष आकर उन्हें ढकता है अर्थात उनपर ग्रहण लगा देता है। इसे कलात्मक रूप में बिना धड़ वाले सर्प के स्वरुप में दिखाया जाता है। जिसमें यह रथ पर सवार है और वह रथ 8 श्याम वर्णी कुत्तों द्वारा खींचा जा रहा है। मान्यता है की राहु की दृष्टि बहुत कुरुर होती है यदि किसी पर इसके बुरे प्रभाव पड़ें तो उसका सुख-चैन सब छिन जाता है। वहीं इसके शुभ प्रभावों से उस व्यक्ति जैसा कोई वीर नहीं रहता। उसके पास हर प्रकार की सुख -सुविधाएं आ जाती हैं।

कथन अनुसार समुद्र मंथन के समय स्वरभानु नामक एक असुर ने धोखे से दिव्य अमृत की कुछ बूंदों को ग्रहण कर लिया था। परन्तु सूर्य और चंद्र ने उसे पहचान लिया और तुरन्तु मोहिनी अवतार धारण किए हुए भगवान विष्णु को बता दिया। इससे पहले कि अमृत उस असुर के गले से नीचे उतरता, विष्णु जी ने उसका गला सुदर्शन चक्र से काट कर अलग कर दिया। परन्तु तब तक उसका सिर अमर हो चुका था। देवताओं से इस द्वेष के कारण ही उस असुर का गला राहु व उसका धड़ केतु बने जो सूर्य व चंद्र पर ग्रहण लगाते हैं।

राहु के शुभ प्रभाव से जातक की वाक् पटुता (हाजिरजवाबी) बहुत अच्छी होती है। इसके शुभ प्रभाव से व्यक्ति अपने बड़े से बड़े शत्रु को मित्र बनाने की क्षमता रखता है। उनकी विकट परिस्थिति से बाहर निकलने की प्रबल क्षमता तथा युक्तिबल काफी अच्छी होती है। राहु के शुभ-प्रभाव से जातक को विदेशों में नौकरी करने तथा राजनीति में सफलता के गुण प्राप्त होते हैं। राहु के शुभ प्रभाव से अथक परिश्रम से जातक को थकान नहीं होती है। वह भाग्यशाली व बलशाली कहलाता है।

वही दूसरी ओर राहु के अशुभ प्रभाव से जातक बहुत अधिक झूठा (मक्कार) हो जाता है। उसके मन में बेवजह, काल्पनिक भय उत्पन्न हो जाता है। कई बार तो व्यक्ति को राहु के दुष्प्रभाव से अपयश और कलंक का भागी होना पड़ता है। अशुभ राहु के असर से धोखाधड़ी और छल, कपट की प्रवृत्ति प्रबल होती है। राहु के अशुभ प्रभाव से  व्यक्ति नशे के कार्य में ज्यादा रूचि लेता है। तथा व्यक्ति निष्ठाहीन हो जाता है एवं अपने नैतिक जिम्मेदारी से भटक जाता है | वह विश्वास का पात्र नहीं रह जाता है। उनकी वाणी में कठोरता उत्पन्न होती है। व्यक्ति के जीवन पर राहु के शुभ -अशुभ प्रभावों का बहुत ही गहरा असर होता है।

यह भी पढ़े :-

जानिए कल्पवृक्ष से कैसे प्राप्त होगी सभी मनोकामनाओं को पूर्ण करने की शक्ति

जानिए क्या महत्व है महादेव के शक्तिशाली तिलक का

माँ काली की आराधना से दूर हो जाएंगे सारे कष्ट
 

  • 100% Authentic
  • Payment Protection
  • Privacy Protection
  • Help & Support

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
X