myjyotish

9873405862

   whatsapp

8595527218

Whatsup
  • Login

  • Cart

  • wallet

    Wallet

Home ›   Blogs Hindi ›   Holashtak 2021 Start Date and Time Kab Se Shuru Hai Kab Lagega

इस वर्ष होलाष्टक क्यों है ख़ास ? जानें इसका महत्व

Myjyotish Expert Updated 17 Mar 2021 01:08 PM IST
Holashtak
Holashtak - फोटो : Myjyotish
होलाष्टक की उत्पत्ति द़ो शब्दों से हुई है होली और अष्टक जिसमें होली रंगों का त्यौहार है अष्टक का तात्पर्य फाल्गुन माह की शुक्ल पक्ष की अष्टमी को मनायी जाती है 

क्या आपको चाहिए अनुभवी एक्सपर्ट की सलाह ?

SUBMIT

आज हम जानेगे इसके महत्व को

क्या है होलाष्टक

ये फाल्गुन माह की शुक्ल पक्ष की अष्टमी को मनायी जाती है क्योंकि ये होली से पहले मनायी जाने वाली अष्टमी होती है जिसके कारण वश इसे होलाष्टक कहा जाता है
ये होली के आठ दिन के पहले मनायी जाती है   इस साल 22 मार्च से 28 मार्च 2021 तक के बीच होलाष्टक  है
माना जाता है कि होलाष्टक पर शुभ काम, गृह प्रवेश मांगलिक कार्य करना अच्छा नहीं होता किन्तु
 फाल्गुन के माह में भगवान कृष्ण और शिव जी को समर्पित होता है, इसलिए होलाष्टक की अवधि में इनकी पूजा करना बहुत शुभ माना जाता है

होली के दिन, किए-कराए बुरी नजर आदि से मुक्ति के लिए कराएं कोलकाता में कालीघाट स्थित काली मंदिर में पूजा - 28 मार्च 2021

क्यों  है होलाष्टक के महत्व को  जानना जरूरी

होलाष्टक को कोई भी शुभ काम न करने के कुछ कारण है ज्योतिष इस पर कहते हैं इन दिनों वातावरण पूरी तरह से नकरात्मकता का प्रभाव रहता है साथ ही होलीष्टक की तिथि से लेकर पूर्णिमा तक सभी ग्रहो में नकरात्मकता का भाव रहता है जिसके चलते इस समय शुभ काम नहीं किए जाते हैं इनमें अष्टमी तिथि को चंद्रमा, नवमी को सूर्य, दशमी को शनि, एकादशी को शुक्र, द्वादशी को गुरु, त्रयोदशी को बुध, चुतर्दशी को मंगल तो पूर्णिमा को राहु की ऊर्जा काफी नकारात्मक रहती है इसी कारण यह भी कहा जाता है कि इन दिनों में जातकों के निर्णय लेने की क्षमता काफी कमजोर होती है जिससे वे कई बार गलत निर्णय भी कर लेते हैं जिससे हानि होती है होलाष्टक में भले ही शुभ कार्यों के करने की मनाही है लेकिन देवताओं की पूजा अर्चना कर सकते हैं

होलाष्टक जुड़ी हुई कहानी

पौराणिक कथाओं के अनुसार जब भगवान शिव सती के वियोग मे समाधि में लीन हो ग ए थे तब कामदेव ने उनको समाधि से उठाने के लिए  उन्हें भगवान शिव पर अपने   काम देव बल का उपयोग किया था जिससे भगवान शिव इतने क्रोधित हो गए है  कि उन्होंने कामदेव को भस्म कर दिया इसके पश्चात जब उनकी धर्म पत्नी रति ने भगवान शिव से उनके इस कृत्य के लिए क्षमा अर्चना की तब भगवान शिव कामदेव को पुनः जीवित किया.

दूसरी कथा अहंकारी राजा हिरण्यकश्यप की है जिसकी बहन होलिका ने अपने भाई की मदद करने के लिए भगवान विष्णु के सबसे बड़े भक्त प्रहलाद को फाल्गुन माह की शुक्ल पक्ष में उन्हें बहुत दुख दिया और अष्टमी को होलिका प्रहलाद को लेकर अग्नि में बैठी किन्तु होलिका का वरदान जो उसे भगवान ब्रह्मा से मिला था जिसके अनुसार उसे अग्नि नहीं छु सकती है वो उसके लिए अभिशाप बन गया और होलिका स्वयं उस अग्नि में जल गयी जबकि  विष्णु भगवान की असीम कृपा से प्रहलाद इसमें बच गया.

यह भी पढ़े :-       

आज का राशिफल 17/03/2021- आज का दिन इन पांच राशियों के लिए शुभ, जानें कैसा होगा आपका दिन

मीन संक्रांति-तन, मन और आत्मा को शक्ति प्रदान करता है। ज्योतिषाचार्या स्वाति सक्सेना

मीन सक्रांति आखिर क्यों मनायी जाती है

  • 100% Authentic
  • Payment Protection
  • Privacy Protection
  • Help & Support


फ्री टूल्स

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms and Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
X