myjyotish

9818015458

   whatsapp

8595527216

Whatsup
  • Login

  • Cart

  • wallet

    Wallet

Home ›   Blogs Hindi ›   Gauri-Shankar is worshiped to get rid of fear

भय से मुक्ति पाने के लिए की जाती है गौरी-शंकर की उपासना

MyJyotish Expert Updated 08 May 2020 10:37 AM IST
Gauri-Shankar is worshiped to get rid of fear
हिन्दू धर्म की मान्यताओं के अनुसार अनेकों देवी-देवताओं का पूजन किया जाता है। प्रत्येक देवता के पूजन का अपना एक विशेष महत्व है तथा इनकी पूजा से विभिन्न आशीर्वाद की प्राप्ति होती है। पौराणिक कथनों के अनुसार शिव शंकर या महादेव संहार के देवता माने गए हैं। संसार के आदि से अनंत काल तक प्रत्येक वस्तु व प्राणी में उनका अंश समाया हुआ है।

इस कालाष्टमी प्राचीन कालभैरव मंदिर दिल्ली में पूजा और प्रसाद अर्पण से बनेगी बिगड़ी बात : 14 -मई - 2020

वह त्रिदेवों में से एक देव हैं जिन्होंने विभिन्न मनुष्य अवतारों में समय-समय पर धरती पर जन्म लिया है। देवी गौरी शंकर जी की अर्धांगिनीं हैं, वह स्वयं त्रिदेवियों में से एक हैं। वह संसार के कण-कण में भिन्न स्वरूप में वास करती हैं। जब-जब संसार में धर्म का नाश हुआ है, उन्होंने अवतार लिए हैं। वह माँ की ममता से लेकर, राक्षसों का संहार करने वाली देवी के रूपों का प्रतिनिधित्व करती है। 

गौरी शंकर की पूजा करने से व्यक्ति के जीवन से डर और डिप्रेशन जैसी समस्याएं दूर होती हैं। उनकी कृपा से व्यक्ति के मन के भीतर छुपा भय समाप्त होता है। गौरी शंकर के आशीर्वाद से उसे कर्मशक्ति की प्राप्ति होती है अर्थात उसे जो कोई भी कार्य को करने में असफलता का सामना करना पड़ रहा है या उसके कार्य में अड़चने आ रही हो तो यह सभी विपदाएं गौरी शंकर की पूजा से दूर हो जाती हैं।

डर या डिप्रेशन को दूर करने के लिए कराएं गौरी शंकर अनुष्ठान

एक खुशहाल जीवन व्यतीत करने के लिए यह बहुत आवश्यक है की व्यक्ति का मन भीतर से प्रसन्न हो व यदि वह किसी प्रकार के नकारात्मक विचार से घिरा रहेगा तो उसका जीवन सुख-सुविधाओं से परिपूर्ण होने के बाद भी सुखमय नहीं रहता है। गौरी शंकर आदि शक्ति का स्वरूप है, सच्चे मन से की गई उनकी उपासना कभी व्यर्थ नहीं जाती। शंकर अत्यंत ही भोले हैं वहीं माँ गौरी दयालु देवी है इसलिए यदि कोई व्यक्ति पूर्ण श्रद्धा से इनसे कुछ मांगता है तो गौरी शंकर उनकी कामनाओं की पूर्ति करते हैं।

गौरी शंकर की आराधना से भक्तों के दुःख - दर्द व कष्ट दूर हो जाते हैं। उनकी समस्त चिंताओं का भार ख़त्म हो जाता है। तथा उनकी कार्य कुशलता में वृद्धि होती है। उनके घर में सुख-समृद्धि का वास होता है तथा सकारात्मक विचारों का संचार होता है। इससे आस-पास का वातावरण सुखी रहता है और कार्य करने की इच्छा में वृद्धि होती है।

यह भी पढ़े :-

सर्व रोग निवारण के देव हैं शिव पुत्र गणपति

देवी छिन्नमस्तिका की पूजा से प्राप्त होती है आत्मबल व साहस की शक्ति

कमला महालक्ष्मी की कृपा से होती है व्यापार क्षेत्र में वृद्धि
 

  • 100% Authentic
  • Payment Protection
  • Privacy Protection
  • Help & Support

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms and Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
X