Makar Sankranti : Why Do We Celebrate - क्यों मनाते हैं मकर संक्रांति, इस संक्रांति किन बातों का रखें विशेष ध्यान - Myjyotish News Live
myjyotish
  • login
Home ›   Blogs Hindi ›   Makar Sankranti : Why do we celebrate
Makar Sankranti : Why do we celebrate

क्यों मनाते हैं मकर संक्रांति, इस संक्रांति किन बातों का रखें विशेष ध्यान

Anurag VatsAnurag Vats Updated 14 Jan 2020 12:05 PM IST
पूरे भारत में संक्रांति के त्योहार को बहुत ही धूमधाम से मनाया जाता है। कहते हैं कि इस दिन किया गया कोई भी पुण्य सौ गुना फलदायक होता है। अलग-अलग राज्यों में इसे अपने तरीके से मनाया जाता है। इस दिन धार्मिक क्रियाकलापों का अपना ही महत्व होता है। तो आइए अब जानते हैं कि मकर संक्रांति क्यों मनाते हैं।

इस दिन सूर्य धनु राशि से मकर राशि में प्रवेश करते हैं, धनु से मकर में प्रवेश करने के दिन को ही मकर संक्रांति के रूप में मनाया जाता है। इस दिन दान, स्नान, श्राद्ध तर्पण का विशेष महत्व होता हैं। संक्रांति के दिन सूर्य के उत्तरायण साथ ही खरमास समाप्त हो जाता है। सभी शुभ कार्यों का शुभारंभ हो जाता है। मकर संक्रांति पर सूर्य के उत्तरायण होने से गरम मौसम की शुरुआत हो जाती है। माना जाता है कि इस दिन सभी देवी-देवता अपना रूप बदलकर गंगा यमुना आदि नदियों में स्नान करने आते हैं। यही कारण है कि इस दिन गंगा स्नान का विशेष महत्व माना गया है।

हर बार सूर्य धनु राशि से मकर राशि में 14 जनवरी को प्रवेश करते हैं, लेकिन इस बार 2020 की मकर संक्रांति की तिथि बदल गई है। जानिए 2020 की मकर संक्रांति का शुभ मुहूर्त... 

मकर संक्रांति के दिन करें ये कार्य-
  • संक्रांति के दिन गंगा स्नान का विशेष महत्व माना गया है । इस दिन किसी पवित्र नदी में स्नान अवश्य करें अगर किसी कारण से ये संभव नहीं हो तो नहाने के पानी में गंगा जल मिलाकर स्नान कर सकते हैं।
  • इस दिन भगवान सूर्य उत्तरायण होते हैं। इसलिए इस दिन, सूर्य देव को जल अवश्य अर्पित करें।
  • इस दिन सूर्य देव अपने पुत्र शनि की राशि से मकर राशि में प्रवेश करते हैं। इसलिए संक्रांति के दिन पिता का आशीर्वाद जरूर लें।
  • संक्रांति के दिन खिचड़ी दान करने और सेवन करने का बहुत महत्व माना गया है। पूरे परिवार के संग हो सके तो सामर्थ्य के अनुसार खिचड़ी का दान करें। साथ ही खिचड़ी और तिल की बनी चीजों का सेवन करें।
  • मकर संक्रांति के दिन गाय की सेवा भी करनी चाहिए। इस दिन किए गए कार्य का सौ गुना फल प्राप्त होता है।
  • इस दिन चौदह चीजों का दान करने का विशेष महत्व है, हो सके तो किसी मंदिर या किसी गरीब को दान जरूर करें।
संक्रांति के दिन क्या न करें-
  • संक्रांति के दिन फसल, पेड़-पौधो को भूल कर भी न तो उखाड़ना चाहिए न ही काटना चाहिए, इससे सूर्य देव नाराज होते हैं।
  • संक्रांति के दिन तुलसी को तोड़ना वर्जित माना गया है तो इस दिन भूलकर भी तुलसी न तोड़े।
  • घर हो या बाहर इस दिन भूलकर भी बड़ो का अनादर न करें। विशेष तौर पर अपने पिता का अपमान तो बिल्कुल भी न करें नहीं तो सूर्य देव के साथ शनि देव की कुदृष्टि का सामना भी करना पड़ेगा।
  • वैसे भी हमें कठोर वाणी का प्रयोग नहीं करना चाहिए लेकिन मकर संक्रांति के दिन इस बात का विशेष ध्यान रखे। नहीं तो इसका दुष्प्रभाव आपको जीवन भर झेलना पड़ सकता है।
  • संक्रांति के दिन शराब प्याज और लहसुन का सेवन नहीं करना चाहिए।
  • इस दिन झाड़ू खरीदी जाती है जिससे घर में लक्ष्मी का वास होता है इस कारण झाड़ू का दान बिल्कुल भी न करें। नहीं तो  आपको दरिद्रता का सामना करना पड़ सकता है।
मकर संक्रांति को सूर्य का त्योहार माना गया है। इस दिन भगवान सूर्य की पूजा से आप उनकी कृपा के पात्र बन सकते हैं। जिससे आपका मान-सम्मान बढ़ता है। सभी ग्रह मजबूत होते हैं। गृह क्लेश और अचानक आने वाली परेशानियों से मुक्ति के लिए कोर्णांक मंदिर में पूजा करवा सकते हैं।  आदित्य हृदय स्तोत्र का  पाठ कराने से सूर्य होंगे बलिष्ठ.






 
  • 100% Authentic
  • Payment Protection
  • Privacy Protection
  • Help & Support

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
X