myjyotish

6386786122

   whatsapp

8595527218

Whatsup
  • Login

  • Cart

  • wallet

    Wallet

Home ›   Blogs Hindi ›   When to tie Rakhi in day or night, on 11th or 12th August, remove your confusion

Rakshabandhan: राखी कब बांधे दिन या रात में, दूर करें अपना कन्फ्यूजन

Myjyotish Expert Updated 12 Aug 2022 10:10 AM IST
राखी कब बांधे दिन या रात में, 11 या फिर 12 अगस्त को, दूर करें अपना कन्फ्यूजन
राखी कब बांधे दिन या रात में, 11 या फिर 12 अगस्त को, दूर करें अपना कन्फ्यूजन - फोटो : google

राखी कब बांधे दिन या रात में, दूर करें अपना कन्फ्यूजन


जब से सावन का महीना शुरू हुआ है तब से त्योहार भी शुरू हो गए है। हर एक त्योहार का एक शुभ मुहूर्त होता है। भाई के हाथ पर राखी बांधने का भी एक शुभ मुहूर्त है। उसी शुभ मुहूर्त में बहनें अपने भी की कलाई पर राखी बांधती हैं। रक्षाबंधन महापर्व पर इस बार भद्रा का साया है, जिसमें किसी भी शुभ कार्य को करने की मनाही होती है। अपने भाई को राखी किस दिन और किस समय बांधे। तो आइए देश के प्रमुख तीर्थ स्थानों से जुड़े विद्वानों की राय के माध्यम से उसका सही जवाब जानते हैं।

क्या कहते हैं काशी के पंडित

आज ही करें बात देश के जानें - माने ज्योतिषियों से और पाएं अपनीहर परेशानी का हल 

काशी विद्वत परिषद के अनुसार प्रातः 10:38 बजे से लेकर 08:26 मिनट तक भ्रदा रहेगी। रक्षाबंधन के पावन पर्व पर बहनों को अपने भाई की कलाई में रात्रि 08:26 से 12:00 के बीच में राखी बांध देना चाहिए। ध्यान रहे कि रात्रि 12:00 बजे के बाद बहनें राखी न बांधें। क्योंकि इसके बाद का समय में बहन अपने भाई के कलाई पर राखी नहीं बांध सकती है। ये मुहूर्त शुभ नहीं है। पंडित दीपक मालवीय के अनुसार धर्मसिंधु, निर्णयसिंधु आदि धर्मग्रंथों में दिए गए निर्देशों के आधार पर यह बात पूरी तरह से स्पष्ट है, कि इस साल 12 अगस्त 2022 को रक्षाबंधन का पर्व नहीं मनाया जा सकता है। 

उत्तराखंड के ज्योतिषियों की राय

उत्तराखंड ज्योतिष परिषद के अध्यक्ष पं. रमेश सेमवाल के अनुसार इस साल रक्षाबंधन पर्व 11 अगस्त 2022 को ही मनाया जाएगा क्योंकि अपराह्न व्यापिनी पूर्णिमा में भद्रा दोष बना हुआ है। 11 अगस्त  को सूर्योदय के साथ चतुर्दशी तिथि रहेगी और हरिद्वार के समय के अनुसार पूर्णिमा तिथि प्रात:काल 10:58 मिनट से आरंभ होगी। जिसके साथ ही भद्रा भी लग जा रहा है, जो कि इस दिन रात को 8:50 मिनट तक रहेगी।शास्त्रों में भद्राकाल में श्रावणी पर्व को मनाने की सख्त मनाही है, ऐसे में बहनों को अपने भाई के हाथ में रात्रि 8:50 के बाद ही राखी बांधना शुभ रहेगा।

Jyotish Remedies: भगवान शिव को भूलकर भी अर्पित न करें ये चीजें

भद्रा में भूलकर नहीं करने चाहिए ये काम

भद्रा काल में कोई भी शुभ कार्य नहीं किया जाता है।मान्यता है कि यदि भद्रा के समय श्रावणी या फिर रक्षाबंधन का पर्व मनाया जाता है , तो राजा की मृत्यु होती है और यदि भद्रा के समय होलिका दहन होता है तो खलिहान में रखी फसल को आग लगने का भय बना रहता है। भद्रा के बारे में कहा जाता है कि इसका बुरा असर वहीं पड़ता है, जहां पर इसका वास होता है। इस काल में तो विवाह, मुंडन, घर बनवाने की शुरुआत, गृह प्रवेश, यज्ञोपवीत, रक्षाबंधन, होलिकादहन आदि कार्य पूरी तरह से वर्जित होते हैं।

ये भी पढ़ें

  • 100% Authentic
  • Payment Protection
  • Privacy Protection
  • Help & Support


फ्री टूल्स

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms and Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
X