myjyotish

6386786122

   whatsapp

8595527218

Whatsup
  • Login

  • Cart

  • wallet

    Wallet

Home ›   Blogs Hindi ›   Success Mantra : After all, how important it is to have luck with karma, read 5 mantras of success

Success Mantra : कर्म के साथ आखिर भाग्य का होना कितना जरूरी है, पढ़ें सफलता के 5 मंत्र

Myjyotish Expert Updated 08 Nov 2022 10:31 AM IST
Success Mantra : कर्म के साथ आखिर भाग्य का होना कितना जरूरी है, पढ़ें सफलता के 5 मंत्र
Success Mantra : कर्म के साथ आखिर भाग्य का होना कितना जरूरी है, पढ़ें सफलता के 5 मंत्र - फोटो : google

Success Mantra : कर्म के साथ आखिर भाग्य का होना कितना जरूरी है, पढ़ें सफलता के 5 मंत्र


व्यक्ति का कर्म उसके भाग्य को निर्धारित करता है। सफलता को पाने के लिए व्यक्ति अथक प्रयास करता है। लेकिन कई बार उसे सफलता मिल जाती और कई बार किए हुए कर्मों की वजह से सफलता नहीं मिलती है। फिर भी व्यक्ति कही न कही अपने भाग्य को लेकर कर्म करता रहता है। कुछ व्यक्ति को जब बार – बार असफलता मिलती है तो वह अपने भाग्य को ही कोसता है।

मात्र रु99/- में पाएं देश के जानें - माने ज्योतिषियों से अपनी समस्त परेशानियों 

लेकिन व्यक्ति को ये समझना चाहिए की सिर्फ भाग्य के भरोसे सफलता नहीं मिलती है। उसे एक सफल व्यक्ति बनने के लिए भाग्य के साथ कर्म की भी जरूरत होती है। एक विद्वान के अनुसार,  आपके जीवन से जुड़ा जो मरा हुआ अतीत है, उसे दफना दो क्योंकि अनंत भविष्य तुम्हारे सामने है।

हमेशा इस बात को ध्यान रखो कि प्रत्येक शब्द, विचार और कर्म तुम्हारे भाग्य का निर्माण करता है। ना की भाग्य तुमको बनाता है। स्पष्ट शब्दों में कहें तो व्यक्ति का कर्म ही उसका भाग्य बनाता है। आइए कर्म और भाग्य से जुड़े इस में को समझते है।

अगर व्यक्ति भाग्य के भरोसे बैठा रहेगा तो उसे कभी भी सफलता नहीं मिलेगी। कहते है की ऐसी व्यक्ति का भाग्य निश्चित रूप से सो जाता है। और आप जब अपने कर्म के साथ अपने भाग्य को लेकर चलते है तभी आपको सफलता मिलती है। 

जन्मकुंडली ज्योतिषीय क्षेत्रों में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है

व्यक्ति के जीवन में हर अच्छा बुरा समय आता है। उसे हर अच्छे बुरे समय के लिए तैयार रहना चाहिए। और उसके जीवन में जो भी जैसा समय आता है उसे स्वीकार करना चाहिए। क्योंकि कर्म से व्यक्ति का भाग बदल जाता है।

किसी महान व्यक्ति ने कहा है की जीवन में स्वयं के पुरुषार्थ द्वारा प्राप्त की गई सफलता और ऐश्वर्य ही आपका भाग्य है।

हर व्यक्ति के जीवन में एक बार जरूर भाग्य उदय होता है। उसे कैसे सदुपयोग करना है ये उस व्यक्ति के कर्म पर निर्भर करता है। इसलिए रहिए आप अपना कर्म करते ,तभी भाग्य भी  आपका साथ देगा।

व्यक्ति के जीवन में जो भी होता है , उसका जिम्मेदार वो स्वयं होता है। उसे कभी भी अपने भाग्य को नहीं कोसना चाहिए। कर्म करते रहो तभी भाग्य तुम्हारा साथ देगा।
 

ये भी पढ़ें

  • 100% Authentic
  • Payment Protection
  • Privacy Protection
  • Help & Support


फ्री टूल्स

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms and Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
X