myjyotish

6386786122

   whatsapp

8595527218

Whatsup
  • Login

  • Cart

  • wallet

    Wallet

Home ›   Blogs Hindi ›   Planets Astrology: In these emotions, the moon is weak, can give mental dissatisfaction

Planets Astrology: इन भावों में चंद्रमा होता है कमजोर, दे सकता है मानसिक असंतोष

MyJyotish Expert Updated 27 May 2022 11:39 AM IST
इन भावों में चंद्रमा होता है कमजोर दे सकता है मानसिक असंतोष
इन भावों में चंद्रमा होता है कमजोर दे सकता है मानसिक असंतोष - फोटो : google

इन भावों में चंद्रमा होता है कमजोर दे सकता है मानसिक असंतोष 


ज्योतिष शास्त्र में चंद्रमा की स्थिति बहुत प्रभाव रखती है. चंद्र के असर के द्वारा ही व्यक्ति के संपूर्ण मन:स्थिति को समझ पाना अत्यंत सहज हो सकता है. चंद्रमा मन का कारक होता है ओर इसलिए चंद्रमा की स्थिति सीधे व्यक्ति के मानसिक स्वास्थ्य को प्रभावित करने वाली होती है. जन्म कुंडली में मौजूद 12 भावों में चंद्रमा का अलग अलग महत्व बताया गया है. इन सभी भावों में से कुछ विशेष भाव स्थान भी होते हैं जहाम चंद्रमा की स्थिति को शुभता में कमी के रुप में भी देखा जाता है.

जन्म कुंडली में मौजूद मजबूत चंद्रमा ही व्यक्ति के आत्मविश्वास और उसके चरिते को निर्धारित करने में बहुत सार्थक भूमिका निभाता है वहीं दूसरी और कमजोर चंद्रमा का असर जातक को कई मामलों में विपरित स्थितितों से प्रभावित करने वाला भी होता है. आईये जानें वे कौन से भाव है जहाम चंद्रमा कमजोर बन जाता है तथा अपनी शुभता को पूर्णरुप से नहीं दे पाता है. 

छठे भाव में चंद्रमा

छठे का चंद्रमा अनुकूल नहीं माना जाता है. चंद्रमा माता का प्रतिनिधित्व करता है इसलिए मातृ कारक से संबंधित समस्या हो सकती है. चंद्रमा रक्त, छाती और फेफड़ों को दर्शाता है, ऎसे में रक्त की अशुद्धता, पथरी, खांसी और सर्दी या कुछ लंबी और लाइलाज बीमारी जैसे पक्षाघात, हृदय और नींद की कमी की समस्या हो सकती है. चंद्रमा मुख्य रूप से मन को नियंत्रित करता है, छठे भाव में जातक नकारात्मक भावनाओं से भरा हो सकता है. जातक विभिन्न प्रकार के ऋणों और बीमारियों का शिकार हो सकता है जिससे अवसाद की स्थिति उत्पन्न हो जाती है. कार्यस्थल एक और क्षेत्र हो सकता है जहाँ जातक को समस्या हो सकती है.

प्रसिद्ध ज्योतिषियों से जानिए आपकी हर समस्या का समाधान, बस एक क्लिक से 

यदि चंद्रमा के साथ बृहस्पति या शुक्र जैसे अन्य नरम ग्रह हों, तो यह मदद कर सकता है. नियमित जीवन में इन लोगों का दिमाग चुनौतियों को हल करने, बाधाओं को दूर करने, दूसरों के मुद्दों को दूर करने, आलोचनात्मक, विश्लेषणात्मक होने और उन सभी कार्यों के विवरण पर केंद्रित होता है जो वे हाथ में लेते हैं. इन अनुभवों के कारण ये लोग अच्छे इलाज और समस्या हल करने वाले होते हैं. डॉक्टर, नर्स, वकील आदि बन सकते हैं. पहली बार में यह इतना अच्छा स्थान नहीं लग सकता है, लेकिन जब तक ये लोग अपने जीवन में समस्याओं का सामना करने के विशेषज्ञ बन जाते हैं और इसका अधिक सामना करने में सक्षम बन जाते हैं. 

आठवें घर में चंद्रमा

अष्टम भाव रहस्यमय चीजों का प्रतिनिधित्व करता है, जातक अज्ञात, रहस्यमय चीजों की ओर आकर्षित होता है चंद्र का यहां होना अनुकूलता में कमी को दर्शा सकता है. अपनी भावनाओं को दूसरों से छुपा सकता है. जातक अकेला और उदास महसूस कर सकता है. उनमें दूसरों के जीवन को देखने की मानसिक क्षमता हो सकती है. वहीं आठवें भाव में स्थित चंद्रमा प्यार, देखभाल करने वाला स्वभाव देता है और भावनात्मक जरूरतों वाले लोगों को आकर्षित कर सकता है. चंद्रमा यहां के जातक को विरासत या अप्रत्याशित लाभ के माध्यम से धनवान बनाता है. विवाह भी आर्थिक रूप से लाभकारी सिद्ध हो सकता है. 

ऐसे लोगों का करियर जैसे मनोरोग, मनोविज्ञान, चिकित्सा, अनुसंधान, आपराधिक कार्य, जासूसी कार्य, अंतिम संस्कार और मुर्दाघर से संबंधित क्षेत्र हो सकते हैं. सकारात्मक नोट पर, चंद्रमा यहां के जातक को विरासत या अप्रत्याशित लाभ के माध्यम से धनवान बनाता है. विवाह भी आर्थिक रूप से लाभकारी सिद्ध होगा क्योंकि साथी धनवान होगा या धन लाएगा, ससुराल वाले भी इसमें योगदान देंगे और सहायक भी होंगे. चंद्रमा रक्त, आंख, फेफड़े, छाती, पेट आदि से संबंधित कुछ स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं देगा. महिलाओं को मासिक धर्म और गर्भावस्था के दौरान समस्या महसूस हो सकती है.

शनि जयंती पर शनि शिंगणापुर मंदिर में कराएं तेल अभिषेक 

बारहवें भाव में चंद्रमा 

बारहवें भाव में चंद्रमा कमजोर माना जाता है. यहां चंद्रमा जातक को बहुत ही निजी और अक्सर अलग-थलग महसूस कराता है. जातक भावनात्मक रूप से भ्रमित होते हैं और किसी भी सलाह या आलोचना के प्रति अति संवेदनशील होते हैं. वे अन्य लोगों की प्रतिक्रिया के प्रति असुरक्षित महसूस करते हैं और उन्हें दैनिक आधार पर लोगों से निपटना कठिन लगता है. वे अपनी भावनाओं और जरूरतों को प्रकट करने में संकोच करते हैं और फ़ोबिया से पीड़ित भी हो सकते हैं. जातक अकेलेपन की भावना रखते हैं और असमर्थ महसूस कर सकते हैं, असहाय महसूस कर सकते हैं, जो द्वादश भाव के चंद्रमा के दुष्प्रभाव हैं. जातक लगातार चिंताओं और चिंताओं से तनावग्रस्त हो सकता है. सामान्य दिनचर्या के कामों में देरी होने की संभावना अधिक रह सकती है. इस तरह के व्यवहार में बचपन की यादें या अनुभव प्रमुख भूमिका निभाते हैं. 

चंद्रमा मां का कारक होता है और अक्सर एक ऐसे माता-पिता को दर्शाता है जो स्वास्थ्य संबंधी परेशानियों से प्रभावित रह सकते हैं. माता का सुख कमजोर हो सकता है. बारहवें भाव का चंद्रमा आंखों की समस्या दे सकता है. यदि चंद्रमा कष्ट या नकारात्मक पहलू से मुक्त हो तो वह विदेश में बस सकता है और सुखी जीवन व्यतीत कर सकता है. यदि केतु या गुरु जैसे ग्रह किसी तरह से चंद्रमा को प्रभावित कर रहे हैं तो जातक आध्यात्मिक और धार्मिक हो सकता है. महिलाओं के बहकावे में आने की संभावना है. बारहवें भाव में चंद्र वाले जातक बहुत अच्छे स्वभाव के होते हैं और दान पर भी अच्छी रकम खर्च करते हैं. जातक अपनी नौकरी या व्यवसाय से जल्दी सेवानिवृत्त हो सकता है.
 

ये भी पढ़ें


जन्मकुंडली ज्योतिषीय क्षेत्रों में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है
 
  • 100% Authentic
  • Payment Protection
  • Privacy Protection
  • Help & Support


फ्री टूल्स

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms and Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
X