myjyotish

6386786122

   whatsapp

6386786122

Whatsup
  • Login

  • Cart

  • wallet

    Wallet

विज्ञापन
विज्ञापन
Home ›   Blogs Hindi ›   Panch Kedar: Lord Shiva resides in the land of gods in the form of Panch Kedar

Panch Kedar : भगवान शिव पंच केदार के रूप में देवभूमि में निवास करते हैं

Myjyotish Expert Updated 04 Apr 2023 11:47 AM IST
Panch Kedar : भगवान शिव पंच केदार के रूप में देवभूमि में निवास करते हैं
Panch Kedar : भगवान शिव पंच केदार के रूप में देवभूमि में निवास करते हैं - फोटो : google
विज्ञापन
विज्ञापन

भगवान शिव पंच केदार के रूप में देवभूमि में निवास करते हैं


उत्तराखंड देवभूमि हिमालय एक ऎसा स्थल है जिन्हें भगवान के वास के रुप में जाना जाता है. मान्यता है कि यहां भगवान शिव का वास है. केदारनाथ धाम उत्तराखंड के गढ़वाल मंडल के रुद्रप्रयाग जिले में हिमालय की चोटियों पर स्थित बारह ज्योतिर्लिंगों में से एक है. वहीं केदारनाथ धाम के साथ ही भगवान शिव अपने पांच विशेष रूपों में भक्तों को दर्शन देते हैं और भगवान शंकर के इन विशेष रूपों को 'पंच केदार' कहा जाता है.

रुद्रनाथ महादेव भगवान शिव के केदारनाथ और तुंगनाथ रूपों के बाद पंच केदार का तीसरा मंदिर है. इन पांच मंदिरों में भगवान शिव अपने अलग-अलग नामों से पंच केदार के रूप में विराजमान हैं. पौराणिक मान्यता है कि इन पंच केदारों के दर्शन और स्मरण करने से भक्त शिव को प्राप्त होते हैं और मोक्ष की प्राप्ति होती है.

मात्र रु99/- में पाएं देश के जानें - माने ज्योतिषियों से अपनी समस्त परेशानियों

केदारनाथ धाम का अपना विशेष महत्व है. पंच केदारों में भगवान शिव के ये चारों स्थान केदारनाथ का ही हिस्सा हैं. ऐसा माना जाता है कि हिमालय क्षेत्र में स्वर्गारोहण पर गए पांडवों को महादेव दर्शन नहीं देना चाहते थे.

जब पांडव महादेव की खोज में केदारनाथ पहुंचे तो महादेव भैंसे के रूप में प्रकट हुए. पांडवों ने उन्हें पहचान लिया और इस तरह महादेव पंच केदार के अन्य चार पवित्र स्थानों में पांडवों को अलग-अलग रूपों में प्रकट हुए. पंच केदार के इन विभिन्न रूपों को देखने के बाद, भगवान शिव अपने पूर्ण रूप में पांडवों के सामने प्रकट हुए और उन्हें वरदान दिया. इसके बाद उनकी स्वर्गारोहण की यात्रा पूरी होती है और जो भक्त इन पांच केदारों की पवित्र तीर्थयात्रा करते हैं, वे सीधे शिवलोक को प्राप्त होते हैं.

केदारनाथ महादेव मंदिर
केदारनाथ धाम में स्थित केदारनाथ महादेव मंदिर पंच केदार मंदिरों में सबसे पहले आता है, जो द्वादश ज्योतिर्लिंग में शामिल है. ऐसा माना जाता है कि स्वर्गारोहण के लिए निकले पांडवों ने केदारनाथ मंदिर का निर्माण किया था. 

तुंगनाथ महादेव मंदिर
तुंगनाथ महादेव मंदिर दुनिया के सबसे ऊंचे शिव मंदिरों में से एक है साथ ही तुंगनाथ महादेव मंदिर पंच केदारों में भी सबसे ऊंचा है. यह पवित्र पवित्र स्थान है, यहाँ भगवान शिव की कृपा से, भगवान शिव के हाथ नंदी बैल के रूप में प्रकट हुए, शिव के इस रूप को देखकर पांडवों ने तुंगनाथ मंदिर का निर्माण करवाया.ऐसा माना जाता है कि भगवान राम ने यहां स्थित चंद्रशिला शिखर पर तपस्या की थी, जो तुंगनाथ के करीब है. तुंगनाथ महादेव मंदिर के दर्शन करने से भक्तों को एक साथ शिव और नारायण के दर्शन होते हैं .

जन्मकुंडली ज्योतिषीय क्षेत्रों में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है

रुद्रनाथ महादेव मंदिर
रुद्रनाथ महादेव भगवान शिव के केदारनाथ और तुंगनाथ रूपों के बाद पंच केदार का तीसरा मंदिर है. यह मंदिर हिमालय की चोटियों पर स्थित घने जंगलों से घिरा हुआ है. ऐसा माना जाता है कि वन देवी इस क्षेत्र की रक्षा करती हैं, इसीलिए रुद्रनाथ महादेव की पूजा से पहले इस स्थान पर वन देवी की पूजा करने की परंपरा है. 

मध्यमहेश्वर मंदिर
मध्यमहेश्वर उत्तराखंड के गढ़वाल में हिमालय के गौंडर नामक गांव में स्थित है. इस मंदिर में भगवान शिव के मध्य भाग या नाभि की पूजा की जाती है. इस पौराणिक मंदिर के गर्भगृह में नाभि के आकार का शिवलिंग मौजूद है. जहां भगवान शिव की आराधना कर भक्त शिवलोक को प्राप्त करते हैं. 

कल्पेश्वर महादेव मंदिर
पौराणिक मान्यता है कि कल्पेश्वर वह पवित्र स्थान है जहां पांडवों ने भगवान शिव के सिर और बालों के दिव्य दर्शन किए थे. कल्पेश्वर महादेव मंदिर में शिव को जटाधर या जटेश्वर के रूप में पूजा जाता है. भगवान शिव का यह पौराणिक मंदिर हिमालय की उद्गम घाटी में स्थित है, जो प्राकृतिक सौंदर्य की दृष्टि से समृद्ध माना जाता है.

 

ये भी पढ़ें

  • 100% Authentic
  • Payment Protection
  • Privacy Protection
  • Help & Support
विज्ञापन
विज्ञापन


फ्री टूल्स

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
X