myjyotish

7678508643

   whatsapp

8595527218

Whatsup
  • Login

  • Cart

  • wallet

    Wallet

Home ›   Blogs Hindi ›   Last solar eclipse year 2021 surya grahan dos and don'ts

जानिए साल के आखिरी सूर्य ग्रहण के समय क्या करना उचित और क्या अनुचित

Aacharya Aditya Updated 04 Dec 2021 11:31 AM IST
Last solar eclipse
Last solar eclipse - फोटो : google
इस वर्ष का अंतिम सूर्य ग्रहण 04-12-21 को पड़ रहा है और इसी दिन शनि अमावस्या भी है । शनिवार को पड़ने वाली अमावस्या को शनि/शनेश्चर अमावस्या के नाम से जाना जाता है। शनि वर्तमान में मकर राशि में स्थित है जो कि स्वयं की राशि है और यह अभी आगे की गति बनाए हुए है। घटनाओं की ऐसी मण्डली मानव जीवन पर विभिन्न प्रभावों की ओर ले जा रही है। यह ग्रहण भारत में दिखाई नहीं देगा, लेकिन दुनिया भर में अलग-अलग डिग्री में इसके प्रभाव की उम्मीद की जानी चाहिए। यह पूरी तरह से केवल अंटार्कटिका में ही दिखाई देगा।

आगामी पूर्ण सूर्य ग्रहण चार घंटे आठ मिनट तक चलेगा, जो दोपहर 12:30 बजे से शुरू होकर दोपहर 1:03 बजे अपने चरम पर पहुंचेगा। कुल सूर्य ग्रहण दो आंशिक सूर्य ग्रहणों के बीच होगा, जिनमें से पहला सुबह 10:59 बजे शुरू होगा और दोपहर 12:30 बजे (IST) तक चलेगा, और निम्नलिखित एक दोपहर 01:33 बजे (IST) शुरू होगा। और 03:07 अपराह्न (IST) पर समाप्त होता है।

हम सभी जानते हैं कि शनि और सूर्य एक दूसरे के साथ नहीं चलते हैं और शनि के प्रतिकर्षण में होने वाला यह ग्रहण कुछ अजीबोगरीब घटनाओं का कारण बन सकता है। साथ ही यह भी याद रखना चाहिए कि ग्रहण से पहले और बाद में पंद्रह दिन का समय कष्टदायक होता है।
कोई अधिकार से कठोरता और कुछ हद तक समर्थन की कमी की उम्मीद कर सकता है। घर के मोर्चे पर माता-पिता से विशेष रूप से आपके पिता से जबरदस्ती की उम्मीद कर सकते हैं इसलिए सावधानी बरतें, सभी प्रकार के गर्म बहस और बहस से बचें। अवांछित आत्मनिरीक्षण और पूर्वनिरीक्षण के एपिसोड भी हो सकते हैं जो मानसिक अस्थिरता पैदा कर सकते हैं।

ग्रहण को पूजा के उद्देश्यों के लिए एक पुरस्कृत समय भी माना गया है। ग्रहण के समय त्याग, मंत्र जाप, सिद्धि आदि सर्वोत्तम सिद्ध होते हैं। सभी को सलाह दी जाती है कि वे अपनी मानसिक शक्तियों को परमात्मा पर केंद्रित करें और उनका आशीर्वाद लें।

ग्रहण में क्या करें और क्या न करें लागू नहीं होगा क्योंकि यह ग्रहण भारत में दिखाई नहीं दे रहा है।

इस दौरान लाभ प्राप्त करने के लिए निम्न कार्य करने का प्रयास करना चाहिए।
श्री विष्णु सहस्त्रनाम का पाठ करना वरदान है
श्री हरि स्तोत्र और विष्णु स्तोत्र का पाठ करना भी बहुत फलदायी होता है
श्री कनक धारा स्तोत्र का पाठ करना भी बहुत फलदायी होता है
सभी ग्रहों विशेषकर राहु-केतु के नवग्रह स्तोत्र और बीज मंत्र का जाप करना भी स्वभाव से बहुत फलदायी होता है।
कर्जदारों को श्री रीना मोचक मंगल स्तोत्र का पाठ करना चाहिए।
अपने आध्यात्मिक बोधक से त्याग/दीक्षा स्वीकार करना अपने आप में एक पूर्ण आशीर्वाद है।
  • 100% Authentic
  • Payment Protection
  • Privacy Protection
  • Help & Support


फ्री टूल्स

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms and Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
banner-image
X