myjyotish

6386786122

   whatsapp

8595527218

Whatsup
  • Login

  • Cart

  • wallet

    Wallet

Home ›   Blogs Hindi ›   Chanakya Neeti: These things can spoil the future of youth, stay away from them

Chanakya Neeti : युवाओं का भविष्य बिगाड़ सकती हैं ये चीजें, इनसे रहिए दूर

Myjyotish Expert Updated 26 Sep 2022 09:41 AM IST
Chanakya Neeti : युवाओं का भविष्य बिगाड़ सकती हैं ये चीजें, इनसे रहिए दूर
Chanakya Neeti : युवाओं का भविष्य बिगाड़ सकती हैं ये चीजें, इनसे रहिए दूर - फोटो : google

Chanakya Neeti : युवाओं का भविष्य बिगाड़ सकती हैं ये चीजें, इनसे रहिए दूर


आचार्य चाणक्य के नीति में युवाओं के भविष्य के बारे में विस्तार से बताया है। अगर आप युवा है तो कई ऐसी चीजें होती है जिसका हमे ज्ञान नहीं होता है। कई बार हम गलत चीजों के पीछे भागते है, लेकिन हमें पता नहीं होता की वो गलत है।

जन्मकुंडली ज्योतिषीय क्षेत्रों में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है

चाणक्य ने अपने नीति में बताया है की एक सफल व्यक्ति बनने के कई तरीके भी बताई है। चाणक्य एक बहुत बड़े राजनीतिज्ञ थे लेकिन बहुत बड़े धर्म ज्ञाता भी थे। चाणक्य नीति के मुताबिक युवाओं को हमेशा गलत सोच वालो लोग से दूर रहना चाहिए। आइए जानते है की आचार्य चाणक्य ने कौन सी ऐसी बात कही है जिससे युवाओं को दूर रहना चाहिए।

आलस
योवाओं का सबसे बड़ा दुश्मन आलस है। कभी भी युवाओं को आलस नहीं करना चाहिए। आलस युवा को एक सफल व्यक्ति बनने से रोक देता है। आलस की वजह से युवा हर जगह पीछे भी रह जाता है। व्यक्ति जितना अनुशासित होगा तरक्की उसके कदम चूमेगी।एक सफल व्यक्ति के लिए समय बहुत कीमती होती है इसलिए इसका हमेशा सदुपयोग करें।

मात्र रु99/- में पाएं देश के जानें - माने ज्योतिषियों से अपनी समस्त परेशानियों 

क्रोध
क्रोध करना किसी के लिए भी सही नहीं होता है और जब बात युवा की हो तो क्रोध उनका सबसे बड़ा शत्रु है। अगर युवा को एक सफल व्यक्ति बनना है तो वो अपने जीवन में क्रोध करना छोड़ दे।

क्रोध की वजह से व्यक्ति सफल मार्ग को असफल बना देगा। युवा हो या फिर बच्चा गुस्से में सभी का नुकसान होता है। चाणक्य कहते हैं कि क्रोध पर काबू करना सीखें वरना ये आपकी उन्नती में बाधा बनता है।

संगत
व्यक्ति की संगत अच्छी है या बुरी ये व्यक्ति पर ही निर्भर करता है। कई बार व्यक्ति को पता भी नहीं चलता है वो बुरी संगत में आ जाते है। गलत संगत की वजह से व्यक्ति की सोच भी गलत हो जाती है और जहा सोच गलत होती है वहां हर चीजे गलत ही होती है।नशा , कामवासना, लड़ाई-झगड़ा इन चीजों से जितना दूरी बनाकर रहेंगे सफलता करीब आती जाएगी। 

ईर्ष्या 
आचार्य चाणक्य का मानना  हैं कि क्रोध की तरह ईर्ष्या भी मनुष्य की सबसे बड़ा शत्रु है। ईर्ष्या कभी भी जीवन में व्यक्ति को आगे नहीं बढ़ने देता है। व्यक्ति के अंदर हमेशा  ईर्ष्या की भावना उससे कई ऐसे बुरे काम करवा देती ही जो उनको नहीं करना चाहिए।  ईर्ष्यालु इंसान हमेशा अपने और दूसरे के रास्ते में बाधा बनता है।
 

ये भी पढ़ें

  • 100% Authentic
  • Payment Protection
  • Privacy Protection
  • Help & Support


फ्री टूल्स

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms and Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
X