Akshaya Tritiya 2020: Why Akshaya Tritiya Day Is Best For Worshiping Mother Vindhyavasini - क्यों है मां विंध्यवासिनी की पूजा हेतु अक्षय तृतीया का दिन सर्वोत्तम - Myjyotish News Live
myjyotish
हेल्पलाइन नंबर

9818015458

  • login

    Login

  • Cart

  • wallet

    Wallet

Home ›   Blogs Hindi ›   Akshaya Tritiya 2020: Why Akshaya Tritiya day is best for worshiping mother Vindhyavasini

क्यों है मां विंध्यवासिनी की पूजा हेतु अक्षय तृतीया का दिन सर्वोत्तम

MyJyotish Expert Updated 20 Apr 2020 01:27 PM IST
Akshaya Tritiya 2020: Why Akshaya Tritiya day is best for worshiping mother Vindhyavasini
हिंदू रीतियों के आधार पर किसी भी काम की शुरूआत शुभ मुहूर्त पर ही की जाती है । लेकिन साल में एक दिन ऐसा भी है जिसे सर्वसिद्ध मुहूर्त माना गया है । वो दिन है अक्षय तृतीया, जो कि बैशाख माह की शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि को पड़ती है । इस वर्ष अक्षय तृतीया रविवार 26 अप्रैल को पड़ रही है । ऐसी मान्यता है कि अक्षय तृतीया के दिन बिना पंचांग देखे कोई भी शुभ व मांगलिक कार्य जैसे विवाह, गृह प्रवेश, आभूषणों की खरीददारी अथवा प्रॉपर्टी या बिजनेस में निवेश आदि कार्य किए जा सकते हैं । साथ ही पुराणों के अनुसार अक्षय तृतीया अथवा आखा तीज के दिन किसी भी प्रकार का दान अथवा पूजा भी अक्षय फल प्रदान करती है ।

अक्षय तृतीया के दिन मां विंध्यवासिनी की श्रृंगार आरती कराने का अत्यंत महत्व है । मां विंध्यवासिनी देवी का मंदिर उत्तर प्रदेश के मिर्जापुर जिले में विंध्याचल नामक तीर्थ में स्थित है । ऐसा कहा जाता है कि यह मां जगदम्बा का निवास स्थान है, इसलिए यह एक जाग्रत शक्तिपीठ है जो कि मां दुर्गा के 51 शक्तिपीठों में से एक है । विंध्यवासिनी मंदिर को लेकर ढेरों मान्यताएं व्याप्त हैं । धर्मराज युधिष्ठिर ने मां विंध्यवासिनी की आराधना की थी, इसके अलावा कंस के वध की भविष्यवाणी करने की भी कथा काफी प्रचलित है ।


आज भी प्रतिदिन मां विंध्यवासिनी की दिन में चार बार आरती होती है । भोर में होने वाली आरती को मंगला आरती, दोपहर में मध्यमान आरती, सायं काल में होने वाली आरती को छोटी आरती व रात्रि में होने वाली आरती को बड़ी आरती कहा जाता है । अक्षय तृतीया के दिन मां विंध्यवासिनी की आरती का हिस्सा बनने के लिए व श्रृंगार दान के लिए हर वर्ष भक्तों की भारी भीड़ उमड़ती है । हालांकि इस वर्ष लॉकडाउन के कारण मंदिर भक्तों के लिए बंद है लेकिन पुजारियों के द्वारा मां विंध्यवासिनी की आरती सम्पन्न कराई जाती है ।

अगर आप भी अक्षय तृतीया के दिन मां विंध्सविनी की सामूहिक आरती का हिस्सा बनना चाहते हैं तो myjyotish.com  आपके लिए ला रहा है एक खास मौका । जिसमें आप घर से ही मां विध्यवासिनी की आरती का हिस्सा बन सकते हैं साथ ही श्रृंगार दान का शुभ फल भी प्राप्त कर सकते हैं । यह पूजा मंदिर के पुजारी द्वारा आपके नाम से पूरे विधि-विधान से कराई जाएगी । आरती शुरू होने से पहले पंडित जी द्वारा फोन पर आपका संकल्प कराया जाएगा तथा बाद में आपको प्रसाद भी भेजा जाएगा ।
 
अक्षय तृतीया के शुभ दिन पर माँ विंध्यवासिनी का श्रृंगार करवाने के लिए अभी क्लिक करे 

  • 100% Authentic
  • Payment Protection
  • Privacy Protection
  • Help & Support

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
X