myjyotish

6386786122

   whatsapp

8595527218

Whatsup
  • Login

  • Cart

  • wallet

    Wallet

Home ›   Blogs Hindi ›   Vastu Upay: In which direction the temple is most auspicious in the house, know the Vastu Remedy

Vastu Upay: घर में मंदिर कौन सी दिशा में होना सबसे शुभ, जानें वास्तु उपाय 

Myjyotish Expert Updated 03 May 2022 06:27 PM IST
घर में मंदिर कौन सी दिशा में होना सबसे शुभ, जानें वास्तु उपाय
घर में मंदिर कौन सी दिशा में होना सबसे शुभ, जानें वास्तु उपाय - फोटो : google

घर में मंदिर कौन सी दिशा में होना सबसे शुभ, जानें वास्तु उपाय 


घर में मंदिर, जिसे भारत में मंदिर भी कहा जाता है, एक पवित्र स्थान है जहां हम भगवान की पूजा करते हैं, तो, एक पूजा कक्ष वास्तु सकारात्मक ऊर्जा लाएगा और जगह को शांतिपूर्ण बना देता है घर और मंदिर क्षेत्र में मंदिर की दिशा, जब वास्तु शास्त्र के अनुसार रखी जाती है, तो घर और उसमें रहने वालों के लिए स्वास्थ्य, समृद्धि और खुशी ला सकती है. घर में मंदिर या मंदिर रखने की सबसे अच्छी दिशा उत्तर-पूर्व दिशा या ईशान कोण है, जिसे वास्तु शास्त्र के अनुसार शुभ माना जाता है. महानगरीय शहरों में दिशा का चयन हमेशा संभव नहीं होता है, जहां जगह की कमी होती है.

ऐसे घरों के लिए आप अपनी आवश्यकता के अनुसार दीवार पर चढ़े हुए मंदिर या छोटे कोने वाले मंदिर पर विचार कर सकते हैं.मंदिर क्षेत्र शांति का क्षेत्र होना चाहिए जो दिव्य ऊर्जा से भरा हो, यह एक ऐसा स्थान है जहाँ व्यक्ति शक्ति प्राप्त करता है. यदि किसी के पास मंदिर के लिए एक पूरा कमरा न दे पा रहे हैं तो वह घर के उत्तर-पूर्व क्षेत्र की ओर पूर्व की दीवार पर एक छोटी वेदी स्थापित कर सकते हैं. वास्तु के अनुसार मंदिर की दिशा का पालन करने से सकारात्मक प्रभाव पड़ता है. घर के दक्षिण, दक्षिण-पश्चिम या दक्षिण-पूर्व क्षेत्र में मंदिर की दिशा से बचना चाहिए. 

जन्मकुंडली ज्योतिषीय क्षेत्रों में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है

पूर्व दिशा में उगते सूर्य और भगवान इंद्र की दिशा है इसलिए पूर्व की ओर मुख करके प्रार्थना करने से सौभाग्य और वृद्धि होती है. 
पश्चिम की ओर मुख करके प्रार्थना करने से धन का आगमन होता है. 
 उत्तर की ओर मुख करने से अवसरों की प्राप्ति और सकारात्मकता घटनाओं का जीवन पर प्रभाव बढ़ता है. 
वास्तु के अनुसार मंदिर पूजा कक्ष की दिशा के अनुसार, प्रार्थना करते समय दक्षिण की ओर मुंह करना अच्छा नहीं है तो, मंदिर दक्षिण को छोड़कर घर में किसी भी दिशा के सम्मुख हो सकते हैं. 

पूजा कक्ष में भगवान का मुख किस दिशा में होना चाहिए
पूजा कक्ष वास्तु के अनुसार देवताओं के मुख को माला और फूलों से नहीं ढकना चाहिए.
हमेशा भगवान की ठोस मूर्ति रखें और मंदिर में खोखली मूर्ति रखने से बचना चाहिए. 
वास्तु में पूजा कक्ष में भगवान का मुंह किस दिशा में होना चाहिए इसके लिए इस बात को ध्यान में रखना चाहिए कि भगवान गणेश को लक्ष्मी की बाईं ओर और देवी सरस्वती को देवी लक्ष्मी के दाहिने तरफ रखा जाना चाहिए.

अक्षय तृतीया पर कराएं मां लक्ष्मी का 108 श्री सूक्तम पाठ एवं हवन, होगी अच्छे स्वास्थ्य और समृद्धि की प्राप्ति

शिवलिंग घर के उत्तरी भाग में रखा जाना चाहिए. 
वास्तु के अनुसार मंदिर या पूजा कक्ष में भगवान हनुमान की मूर्ति हमेशा दक्षिण दिशा की ओर होनी अच्छी होती है. 
जिन देवताओं की मूर्तियों को उत्तर दिशा में, दक्षिण दिशा की ओर मुख करके रखने की आवश्यकता होती है, वे हैं गणेश, दुर्गा और कुबेर. 

सूर्य, ब्रह्मा, विष्णु, महेश को पूर्व दिशा में पश्चिम की ओर मुंह करके रखना अनुकूल होता है.इसलिए, यह जांचना आवश्यक है कि पूजा कक्ष डिजाइन करते समय मंदिर में देवता घर में सही दिशा में हैं या नहीं. एक पिरामिड-संरचित छत जो मंदिर के गोपुर की तरह दिखती है, आपके पूजा कक्ष के लिए एक अच्छी डिजाइन हो सकती है. पिरामिड का आकार सकारात्मक ऊर्जा को आकर्षित करने के लिए जाना जाता है. 

अधिक जानकारी के लिए, हमसे instagram पर जुड़ें ।

अधिक जानकारी के लिए आप Myjyotish के अनुभवी ज्योतिषियों से बात करें।
  • 100% Authentic
  • Payment Protection
  • Privacy Protection
  • Help & Support


फ्री टूल्स

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms and Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
X