myjyotish

6386786122

   whatsapp

6386786122

Whatsup
  • Login

  • Cart

  • wallet

    Wallet

Home ›   Astrology Services ›   Puja ›  

Maa Lakshmi Sri Suktam Path Havan Mahalaxmi Ambabai Temple Kolhapur

अक्षय तृतीया पर कराएं मां लक्ष्मी का 108 श्री सूक्तम पाठ एवं हवन, होगी अच्छे स्वास्थ्य और समृद्धि की प्राप्ति - 22 अप्रैल 2023

By: Myjyotish Expert

Rs. 4,500
Buy Now

पूजा के शुभ फल : 

  • दीर्घायु, स्वास्थ्य, धन और समृद्धि की प्राप्ति होती है। 
  • सभी बाधाओं को दूर करने में सहायता प्राप्त होती है । 
  • व्यापार में विकास होता है। 
  • प्रगति के मार्ग प्रशस्त होते है। 

अक्षय तृतीया, वैशाख के महीने में चंद्र चरण का तीसरा दिन  यानि की इस वर्ष 22 अप्रैल 2023 को  है। इसके महत्व के साथ, यह रोहिणी नक्षत्र के साथ आता है, जो शास्त्रों के अनुसार एक भाग्यशाली सितारा माना जाता है।

अक्षय तृतीया को कुछ भी नया शुरू करने के लिए एक बेहद आशाजनक दिन माना जाता है। लोग घर पर विशेष प्रार्थना करते हैं और सोना, चांदी और कीमती सामान भी खरीदते हैं क्योंकि यह माना जाता है की ऐसा करने से सौभाग्य आता है। 

संस्कृत शब्द अक्षय का अर्थ है 'अंतहीन'। हिंदू धर्म ग्रंथों में अक्षय तृतीया के संदर्भ हैं। कुछ अच्छी पुस्तकों का मानना है कि सत युग और त्रेता युग की शुरुआत इसी दिन हुई थी।

भगवान गणेश ने इस दिन महाकाव्य 'महाभारत' की रचना शुरू की। अक्षय तृतीया के दिन, भगवान कृष्ण ने अपने मित्र सुदामा को समृद्धि और धन के साथ इश्वर्य लाभ दिया। यह दिन भगवान विष्णु के छठे अवतार भगवान परशुराम की जयंती भी है। इस दिन पृथ्वी पर पवित्र नदी गंगा का अवतरण भी हुआ।

अक्षय तृतीया पर शुभ योग और मुहूर्त
अक्षय तृतीया 22 अप्रैल को है इस दिन उच्च के चंद्रमा होंगे वृष राशि में होंगे। साथ ही इस दिन आयुष्मान योग होगा, शुभ कृतिका नक्षत्र रहेगा (नक्षत्र स्वामी सूर्य है), सर्वार्थ सिद्धि योग, रवि योग, अमृत सिद्धि योग और त्रिपुष्कर योग रहेगा। अक्षय तृतीया तिथि का आरंभ 22 अप्रैल को सुबह 7 बजकर 50 मिनट से आरंभ होगी और 23 तारीख को सुबह 7 बजकर 48 मिनट तक रहेगी।
अक्षय तृतीया का महत्व
अक्षय तृतीया के दिन से ही चार धाम की यात्रा भी आरंभ होती है। धार्मिक दृष्टि से देखा जाए तो इस दिन किया गया कार्य का फल अक्षय होता है। यानी उसका कभी नाश नहीं होता है। धार्मिक दृष्टि से देखे तो अक्षय तृतीया के दिन दान पुण्य के कार्य करने चाहिए। साथ ही इस दिन सोना खरीदना भी शुभ माना जाता है।

हमारी सेवाएं :-

हमारे पंडित जी द्वारा अनुष्ठान से पहले संकल्प के लिए आपको फोन किया जाएगा तथा अनुष्ठान पूर्ण होने के बाद प्रसाद भी भिजवाया जाएगा ।

प्रसाद :

कुमकुम
अभिमंत्रित श्रीयंत्र
कलावा

जानिये हमारे पंडित जी के बारे में

पिछली पूजा की तस्वीरें और वीडियो

FAQ

 हिंदू पंचांग के अनुसार, वैशाख मास के शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि को अक्षय तृतीया का पर्व मनाया जाता है। शास्त्रों में अक्षय तृतीय को युगादि तिथि कहा गया है। इस दिन से कई युगों का आरंभ हुआ है और भगवान विष्णु के कई अवतार भी हुए हैं। इस दिन सतयुग और त्रेतायुग का आरंभ हुआ है। अक्षय तृतीया के दिन भगवान परशुराम का भी अवतार हुआ है। इसलिए अक्षय तृतीया का धार्मिक दृष्टि से बड़ा महत्व है। इस साल अक्षय तृतीया का पर्व 22 अप्रैल को है। इस बार अक्षय तृतीया बेहद खास मानी जा रही है। दरअसल, इस साल अक्षय तृतीया पर सात शुभ योग बन रहे हैं।


ये भी पढ़ें




Ratings and Feedbacks


अस्वीकरण : myjyotish.com न तो मंदिर प्राधिकरण और उससे जुड़े ट्रस्ट का प्रतिनिधित्व करता है और न ही प्रसाद उत्पादों का निर्माता/विक्रेता है। यह केवल एक ऐसा मंच है, जो आपको कुछ ऐसे व्यक्तियों से जोड़ता है, जो आपकी ओर से पूजा और दान जैसी सेवाएं देंगे।

X