myjyotish

6386786122

   whatsapp

8595527218

Whatsup
  • Login

  • Cart

  • wallet

    Wallet

Home ›   Blogs Hindi ›   Sawan 2022: All manoraths are completed by the Kanwar Pilgrimage in Sawan gets the blessings of God

Sawan 2022: सावन में कांवड़ तीर्थ यात्रा से पूरे होते हैं सभी मनोरथ मिलता है भगवान का आशीर्वाद

MyJyotish Expert Updated 15 Jul 2022 10:53 AM IST
सावन में कांवड़ तीर्थ यात्रा
सावन में कांवड़ तीर्थ यात्रा - फोटो : google

सावन में कांवड़ तीर्थ यात्रा से पूरे होते हैं सभी मनोरथ मिलता है भगवान का आशीर्वाद 


कांवड़ तीर्थयात्रा, जो सावन माह से आरंभ होती है ओर सावन शिवरतरि पर पूर्ण होती है. हिंदू पंचांग अनुसार श्रावण (सावन) माह में आरंभ होने वाली विशेष धार्मिक यात्रा है. जिसमें भगवाधारी शिव भक्त गंगा के पवित्र जल के घड़े के साथ नंगे पैर चलते हैं. कांवड़ कंधों पर उठा भक्ति ओर श्रद्धा के साथ भगवान के अभिषेक हेतु गंगा जल को एकत्रित करने की यात्रा आरंभ करते हैं तथा शिव अभिषेक के साथ इस यात्रा की समाप्ति होती है. तीर्थयात्रियों द्वारा कांवड़ में भरे जल का उपयोग किसी के गांव या शहर में महत्वपूर्ण मंदिरों में शिवलिंग की पूजा करने के लिए किया जाता है.

गंगा के आसपास के क्षेत्रों में शिव पूजा के इस रूप का विशेष महत्व है. उत्तर भारत में कांवर यात्रा के समान ही, एक अन्य महत्वपूर्ण त्योहार, जिसे कावड़ी उत्सव कहा जाता है, तमिलनाडु में मनाया जाता है जिसमें भगवान मुरगन की पूजा की जाती है. सावन माह के दौरान इस यात्रा में वृद्ध और युवा, बच्चे, महिला, पुरुष सभी भग लेते हैं. गंगा के पवित्र स्थलों जैसे गंगोत्री, गौमुख और हरिद्वार, पवित्र नदियों के संगम के स्थानों से गंगाजल एकत्रित करते हैं. इस कठिन यात्रा करने के पीछे कोई भी विचार हो सकता है जिसके मध्य में विश्वास एवं आस्था का की मजबूत डोर बंधी दिखाई देती है. 

मात्र रु99/- में पाएं देश के जानें - माने ज्योतिषियों से अपनी समस्त परेशानियों का हल 

कांवड़ यात्रा का इतिहास 

कांवड़ अनुष्ठान की कथा समुद्र मंथन से जुड़ी है, जो हिंदू पौराणिक कथाओं अनुसार समुद्र मंथन के दौरान, कई दिव्य वस्तुएं निकलती हैं. इन सभी वस्तुओं में हलाहल अर्थात विष भी निकलता है. इस विष से जीवों को बचाने के लिए भगवान शिव इसको ग्रहण करते हैं. विष के प्रभाव से शिव का गला नीला हो जाता है जिससे उनका नाम नीलकंठ कहलाया. इस जहर का असर बहुत अधिक होता है विष के प्रभाव को कम करने के लिए सभी देवी देवता शिव को जल अर्पित करते हैं ओर इस जलन को शांत करते हैं तब से यह प्रथा शुरू हुई और आज भी भक्त भगवान को अपनी श्रद्धा अर्पित करने हेतु कांवड़ यात्रा का आरंभ करते हैं.  

कुछ स्त्रोत में कांवर यात्रा की कथा भगवान परशुराम से संबंधित भी मानी जाती है.  कथा अनुसार पहली कांवर यात्रा परशुराम द्वारा की गई थी. वर्तमान उत्तर प्रदेश में 'पुरा' नामक स्थान से गुजरते समय, उन्हें वहां एक शिव मंदिर की नींव रखने की इच्छा हुई थी. कहा जाता है कि वह श्रावण मास के प्रत्येक सोमवार को शिव की पूजा के लिए गंगाजल लाते थे तब से इस कांवड़ के आरंभ की बात कही जाती है तो कुछ रावड़ और श्री राम के युग समय से इस कांवड़ यात्रा को जोड़ते देखे जा सकते हैं. 

जन्मकुंडली ज्योतिषीय क्षेत्रों में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है

कांवड के विभिन्न नाम 

कांवड़ यात्रा में कांवड़ के भी कई तरह के नाम सुनने में आते हैं जिसमें सामान्य कांवड़, खड़ी कांवड़, डाक कांवड़ झांकी कांवड़ इत्यादि प्रमुख हैं. इन सभी कांवड़ यात्रा का अर्थ भगवान के प्रति श्रद्धा को दर्शाने के साथ साथ ईष्ट का आशीर्वाद पाना भी होता है. कांवड़ यात्रा भक्त की सभी मनोकामनाओं को पूरा करने वाली तीर्थयात्रा भी होती है. 
जीवन की समस्याओं से निजात पाने एवं मनोकुल फलों को पाने हेतु कांवड़ यात्रा अवश्य करते देखे जा सकते हैं. 
 

ये भी पढ़ें

  • 100% Authentic
  • Payment Protection
  • Privacy Protection
  • Help & Support


फ्री टूल्स

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms and Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
X