myjyotish

7678508643

   whatsapp

8595527218

Whatsup
  • Login

  • Cart

  • wallet

    Wallet

Home ›   Blogs Hindi ›   Masik Durga Ashtami date from January to December in the year 2022

मासिक दुर्गा अष्टमी का है विशेष महत्व, जाने साल 2022 में जनवरी से दिसंबर तक कब है तिथि

My Jyotish Expert Updated 08 Jan 2022 06:41 PM IST
मासिक दु्र्गाष्टमी 2022
मासिक दु्र्गाष्टमी 2022 - फोटो : google
पौराणिक मान्यताओं के मुताबिक मां दुर्गा ने अष्टमी तिथि को ही असुर महिषासुर का संघार किया था। ऐसा माना जाता है कि देवी का ससुर के साथ ही युद्ध कुल नौ दिनों तक चला था। इसलिए नवरात्रि में पड़ने वाली अष्टमी तिथि को महा अष्टमी के रूप में मनाया जाता है। इसके साथ ही प्रत्येक माह में शुक्ल पक्ष की अष्टमी तिथि को मासिक दुर्गा अष्टमी की व्रत के रूप में भी किया जाता है। मान्यता है कि मासिक दुर्गा अष्टमी का व्रत एवं पूजन करने से मां अंबिका की कृपा प्राप्त होती है। इस दिन व्रत को करने से मां दुर्गा अपने भक्तों की रक्षा करती हैं। इससे जीवन में धन समृद्धि और खुशहाली का आगमन होता है। मां दुर्गा पापियों के लिए बड़ी ही विकराल एवं अपने श्रद्धालु भक्तों के ऊपर अपना दिव्य आशीर्वाद बनाएं रखने वाली देवी है।

मासिक दुर्गा अष्टमी का महत्व

यह व्रत शक्ति की उपासना का पर्व है एवं माता की कृपादृष्टि को प्राप्त करने के लिए भक्तजन इस पर्व को बड़े ही दिल से करते हैं। मां दुर्गा अपने भक्तों के सभी कष्टों का निवारण करती हैं एवं दुष्टों का क्षण भर में विनाश कर देती हैं। दुर्गा अष्टमी के दिन स्त्रियां अपने दांपत्य जीवन में खुशियां एवं सौभाग्य लाने के लिए मां दुर्गा को सिंदूर भी चढ़ाती हैं। कहते हैं कि इस व्रत को पूरे समर्पण के साथ करने से सभी मनोकामनाओ की पूर्ति होती है। इस दिन देवी के कई मंत्रों का जप करना और दुर्गा चालीसा का पाठ किया जाता है। इसके पश्चात ब्राह्मणों को भोजन एवं दान दक्षिणा भी दिया जाता है।

दुर्गा अष्टमी व्रत को भारत के उत्तर एवम् पश्चिम के कई हिस्सों में मनाया है। दुर्गा अष्टमी को आंध्र प्रदेश के कुछ क्षेत्रों में बाथुकम्मा पांडुगा के नाम से भी जाना जाता है। यह पर्व जो शाक्त परंपरा मानने वाले हैं उनके लिए काफ़ी महत्त्वपूर्ण होता है। इस समय देवी शक्ति का पूजन तंत्र -मंत्र के द्वारा भी किया जाता है।

मासिक दुर्गा अष्टमी पूजन की विधि -  

भक्त दुर्गा अष्टमी के दिन मां देवी की पूजा अर्चना करते हैं। प्रातकाल उठकर स्नानादि से निवृत होकर देवी की प्रतिमा या तस्वीर स्थापित करें। उन्हें लाल चुनरी चढ़ाए। साथ ही माता रानी को श्रृंगार की चीज़े भी अर्पित करें। फिर फूल, चंदन, धूप दीप नैवेद्य आदि अर्पित कर देवी का ध्यान करें। देवी का नाम एवम् मंत्रोच्चारण कर पाठ करें। पूजा में हुए भूल जेड चूक की मां से माफ़ी मांगे। कुछ स्थानों पर इस दिन कुमारी कन्याओं को भी खाना खिलाया जाता है। मान्यता है कि कन्याओं का पूजन एवं भोजन उन्हीं नौ देवियों के स्वरूप को मानकर किया जाता है। जिससे सभी कष्टों का निवारण होता है एवं व्रत सफल हो जाता है। देवियों के रूप में 12 वर्ष तक की कन्याओं का पूजन किया जाता है। मां दुर्गा को भोग लगाने के लिए इस दिन तरह-तरह के व्यंजन भी बनाए जाते हैं। इस व्रत को श्रद्धालु बिना भोजन किए करते हैं। भक्त केवल फल खाकर या दूध पीकर ही इस कठोर साधना को करके मां शक्ति को प्रसन्न करते हैं। यह व्रत स्त्री पुरुष दोनों ही कर सकते हैं। दुर्गा अष्टमी व्रत अध्यात्मिक उन्नति एवं मां दुर्गा का शुभ आशीर्वाद प्राप्त करने के लिए किया जाता है।

मासिक दुर्गा अष्टमी 2022 तिथि -

 

10 जनवरी 2022, दिन सोमवार
08 फरवरी 2022, दिन मंगलवार
10 मार्च 2022, दिन बृहस्पतिवार
 09 अप्रैल 2022, दिन शनिवार
 09 मई 2022, दिन सोमवार
 08 जून 2022, दिन बुधवार 
07 जुलाई 2022, दिन बृहस्पतिवार
 05 अगस्त 2022, दिन शुक्रवार
 04 अगस्त 2022, दिन रविवार
 03 अक्टूबर 2022, दिन सोमवार
 01 नवंबर 2022, दिन मंगलवार
 30 नवंबर 2022, दिन बुधवार 
30 दिसंबर 2022, दिन शुक्रवार।

भगवान भैरव की पूजा से दूर होंगे ग्रहों के दोष और मिलेगी शत्रुओं पर विजय
  • 100% Authentic
  • Payment Protection
  • Privacy Protection
  • Help & Support


फ्री टूल्स

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms and Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
banner-image
X