myjyotish

6386786122

   whatsapp

8595527218

Whatsup
  • Login

  • Cart

  • wallet

    Wallet

Home ›   Blogs Hindi ›   Mangla Teras Vrat: The Mangala Teras Puja of ashadha month gets the blessing of good fortune

Mangla Teras Vrat: आषाढ़ माह की मंगला तेरस पूजा से मिलता है सौभाग्य का आशीर्वाद

MyJyotish Expert Updated 12 Jul 2022 03:48 PM IST
आषाढ़ माह की मंगला तेरस पूजा से मिलता है सौभाग्य का आशीर्वाद 
आषाढ़ माह की मंगला तेरस पूजा से मिलता है सौभाग्य का आशीर्वाद  - फोटो : Google

आषाढ़ माह की मंगला तेरस पूजा से मिलता है सौभाग्य का आशीर्वाद 


आषाढ़ माह के शुक्ल पक्ष की त्रयोदशी तिथि को मंगल तेरस का व्रत किया जाता है. यह व्रत सौभाग्य एवं दांपत्य जीवन को सुखमय बनाने हेतु किया जाता है. इस दिन देवी पार्वती का पूजन होता है. देवी पार्वती सौभाग्य का प्रतीक हैं अत: इनकी पूजा द्वारा वैवाहिक जीवन का सुख प्राप्त होता है. किसी भी प्रकार की विवाह समस्या के समाधान के लिए यह व्रत उत्तम माना गया है.  

हिंदू धर्म के अनुसार ऐसा माना जाता है कि मंगला तेरस पूजा योग्य वर की प्राप्ति एवं सुखमय वैवाहिक जीवन के लिए की जाती हैं जिस प्रकार तीज , करवा चौथ इत्यादि का पूजन होता है उसी प्रकार इस पूजन द्वारा भी सुख की प्राप्ति होती है. आर्थिक सुख समृद्धि को प्रदान करने में भी मंगला तेरस व्रत अत्यंत फलदायी माना गया है.

मात्र रु99/- में पाएं देश के जानें - माने ज्योतिषियों से अपनी समस्त परेशानियों का हल 

मंगला तेरस व्रत और पूजा विधि

मंगला तेरस व्रत के दिन प्रात:काल स्नान करने के बाद पूजा विधि का आरंभ होता है. सबसे पहले, माता पार्वती एवं भगवान शिव की मूर्ति अथवा प्रतिमाओं को सजाया जाता है. लकड़ी के पटरे पर लाल वस्त्र बिधा कर प्रतिमा को रखा जाता है.  धूप, दीप, दूध, दही, रोली, सुगंध, चंदन, सिंदूर, मेंहदी और काजल, चूड़ियाँ, मेवा, सुपारी और लौंग को इस पूजा सामग्री के रुप में उपयोग किया जाता है.

मंगला तेरस पूजन में भगवान शिव और माता पार्वती के पूजन में आरती, मंत्र जाप एवं शिवपुराण कथा का श्रवण एवं पठन करना अत्यंत शुभ होता है.  ''ऊँ पार्वत्यै नमः के साथ ऊँ नम: शिवाय मंत्र का जाप करना उत्तम होता है. पूजा के बाद भगवान को भोग अर्पित किया जाता है तथा सभी को प्रसाद रुप में बांटा जाता हैं. 

मंगला तेरस व्रत विवाहित महिलाएं अपने पति की लंबी उम्र के लिए रखती हैं और अविवाहित लड़कियां अच्छा पति पाने के लिए यह व्रत कर सकती हैं. आषाढ़ माह का अंतिम मंगलवार इस व्रत के लिए होता है. ऐसा कहा जाता है कि माता पार्वती ने भगवान शिव को पति रुप में पाने के लिए असंख्य व्रत रखे थे जिस प्रकार उन्हें अपने जीवन साथी की प्राप्ति हुई उसी प्रकार आज के दिन किए जाने वाले व्रत पूजन से सभी को अपने लिए मनोकूल साथी प्राप्त होता है. 

जन्मकुंडली ज्योतिषीय क्षेत्रों में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है

मंगला तेरस पूजा के लाभ 

आप विवाह से संबंधित कठिनाइयों का सामना कर रहे हैं जैसे कि आपकी शादी में देरी हो रही है, आपके और आपके साथी के बीच वैवाहिक विवाद और मंगल दोष है, तो इन समस्याओं को हल करने के लिए यह सबसे प्रमुख पूजाओं में से एक है. यदि महिलाओं को विवाह में देरी का सामना करना पड़ रहा है तो यह पूजा आपको शुभ फल देने में सहायक होती है ओर योग्य जिवन साथी की प्राप्ति होती है.

यह पूजा वैवाहिक मुद्दों को सुलझाने में बहुत मददगार है. यदि किसी की कुंडली में मंगल या मांगलिक दोष का निर्माण होता है तो इस पूजा द्वारा सभी दोष को दूर करने में मदद मिलती है. संतान के सुख को प्रदान करने में भी यह व्रत अत्यंत उत्तम होता है. घरेलू कलह कलेश की शांति होती है. जीवन में बाधाएं समाप्त होती हैं ओर सुख का आगमन होता है. 
 

ये भी पढ़ें

  • 100% Authentic
  • Payment Protection
  • Privacy Protection
  • Help & Support


फ्री टूल्स

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms and Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
X