myjyotish

6386786122

   whatsapp

8595527218

Whatsup
  • Login

  • Cart

  • wallet

    Wallet

Home ›   Blogs Hindi ›   Mahashivaratri 2022: Do Rudrabhishek and Shiva Path According to Rashi

महाशिवरात्रि 2022 : राशिनुसार करें रुद्राभिषेक एवं शिव पाठ

Myjyotish Expert Updated 23 Feb 2022 03:59 PM IST
Shiv abhishek
Shiv abhishek - फोटो : Myjyotish
जो भी किसी भी असाध्ये रोग से पीड़ित है इस अवसर का लाभ ले सकते है ।
जिन भी लड़की व लडको की शादी में अड़चन आ रही हो वो भी इस अवसर का लाभ ले ।
जिस किसी पर भी राहु की शनि की दशा व साढ़े साती चल रही हो वो भी इस अवसर का लाभ ले सकते हैं।
इस वर्ष महाशिवरात्रि का शुभ पर्व 1 मार्च 2022 को है। 

आइए जानते हैं कैसे करें महादेव को प्रसन्न करें 
अपनी राशि के अनुसार
  • मेष - गुड़ के जल से अभिषेक करें। लाल मिठाई का भोग लगाएं। लाल चंदन व कनेर की फूल से पूजा करें । मंत्र - ॐ नमः शिवाय
  • वृष - दही से अभिषेक करें। शक्कर, चावल, सफेद चंदन सफेद फूल से पूजा करें। मंत्र - ॐ मृत्युंजयाय नमः
  • मिथुन - गन्ने के रस से भगवान का अभिषेक करें। मुंग, दूब और कुशा से पूजा करें। मंत्र - ॐ ओमकाराय नमः
  • कर्क - घी से अभिषेक कर चावल, कच्चा दूध, सफेद आक व शखपुष्पी से शिवलिंग की पूजा करें। मंत्र - ॐ महाकालाय नमः
  • सिंह - गुड़ के जल से अभिषेक कर गुड़ व चावल से बनी खीर का भोग लगाकर मंदार के फूल से पूजा करें। मंत्र - ॐ त्रयंबकाय नमः
  • कन्या - गन्ने के रस से शिवलिंग का अभिषेक करें। भगवान शंकर को भांग, दूब व पान अर्पित करें। मंत्र - ॐ उमापतयै नमः
विवाह संबंधी दोषों को दूर करने के लिए शिवरात्रि पर मल्लिकार्जुन ज्योतिर्लिंग में कराएं रुद्राभिषेक : 1 मार्च 2022
  • तुला - सुगंधित तेल या इत्र से भगवान का अभिषेक कर दही, मधुरस व श्रीखंड का भोग लगाएं। सफेद फूल से भगवान की पूजा करें। मंत्र - ॐ वृषभध्वजाय नमः
  • वृश्चिक - पंचामृत से अभिषक करे। लाल फूल से भगवान की पूजा करें। मंत्र - ॐ चन्द्रमौलिने नमः
  • धनु - हल्दी युक्त दूध से अभिषेक कर बेसन से बनी मिठाई से भगवान का भोग लगाएं। गेंदे के फूल से उनकी पूजा करें। मंत्र - ॐ पिनाकपाणिने नमः
  • मकर - नारियल पानी से अभिषेक कर उड़द से बनी मिठाई का भगवान को भोग लगाएं। नीलकमल के फूल से उनकी पूजा करें। मंत्र - ॐ सद्य़ोजाताय नमः
  • कुंभ - तिल के तेल से अभिषेक कर उड़द से बनी मिठाई का भोग लगाएं। शमी के फूल से भगवान की पूजा करें। मंत्र - ॐ हरिहराय नमः
  • मीन - केसरयुक्त दूध से भगवान का अभिषेक कर दही भात का भोग लगाएं। पीली सरसों और नागकेसर से भगवान की पूजा करें।
यह भी पढ़ें :- 

बीमारियों से बचाव के लिए भवन वास्तु के कुछ खास उपाय !  

क्यों मनाई जाती हैं कुम्भ संक्रांति ? जानें इससे जुड़ा यह ख़ास तथ्य !

जानिए किस माला के जाप का क्या फल मिलता है
  • 100% Authentic
  • Payment Protection
  • Privacy Protection
  • Help & Support


फ्री टूल्स

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms and Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
X