myjyotish

8595527216

   whatsapp

8595527218

Whatsup
  • Login

  • Cart

  • wallet

    Wallet

Home ›   Blogs Hindi ›   Lord Shiva Kedarnath Temple Pooja Timings Kedarnath Dham Importance

महादेव का केदारनाथ धाम क्यों कहलाता है इतना ख़ास ? जानें महत्व एवं समय सारणी

Myjyotish Expert Updated 03 Mar 2021 06:23 PM IST
Kedarnath Jyotirling
Kedarnath Jyotirling - फोटो : Myjyotish
केदारनाथ मंदिर के चार धामों में से ही एक पवित्र धाम है सभी भक्तजन इस मंदिर के बारे में अच्छे से जानते हैं क्योंकि यह भारत के उत्तराखंड जैसे खूबसूरत राज्य में स्थित है यह उत्तराखंड के रुद्रप्रयाग जिले में स्थित है यह भी उन 12 ज्योतिर्लिंगों में से एक लिंग है जिसमे  भगवान शिव जी की आराधना और पूजा की जाती है इसे पंच केदार भी कहा जाता है यह मंदिर केवल अप्रैल से नवंबर माह के मध्य दर्शन के लिए खुलता है कहा जाता है इसका निर्माण पांडव वंश के जन्मेजय  ने कराया था

क्या आपको चाहिए अनुभवी एक्सपर्ट की सलाह ?

SUBMIT


इस मंदिर के बारे में सब लोगों इसलिए भी जानते हैं क्योंकि इस पर एक फिल्म भी बन चुकी है जून २०१३ के दौरान भारत के उत्तराखण्ड और हिमाचल प्रदेश राज्यों में अचानक आई बाढ़ और भूस्खलन के कारण केदारनाथ सबसे अधिक प्रभावित क्षेत्र रहा।
 
पौराणिक कथा:
पांडवों के महाभारत के युद्ध में विजयी होने के बाद भाइयों की हत्या से पाप से मुक्ति पाना चाहते थे। इसके लिए उन्हें भगवान शंकर का आशीर्वाद चाहिए थे। शिव शंकर के दर्शन हेतू पांडवों ने काशी की तरफ कूच किया। लेकिन शंकर जी उन्हें नहीं मिले। इसके बाद पांडव उन्हें ढूंढते हुए हिमालय पहुंच गए। लेकिन भगवान शंकर पांडवों को दर्शन नहीं देना चाहते थे। ऐसे में वो अंतध्र्यान होकर केदार में बस गए। लेकिन पांडवों ने भी शंकर जी का पीछा केदार तक किया। क्योंकि वो सभी मन के पक्के थे।

इस महाशिवरात्रि अपार धन ,वैभव एवं संपदा प्राप्ति हेतु ओंकारेश्वर ज्योतिर्लिंग में कराएं रूद्राभिषेक : 11 मार्च 2021
 

पांडवों के पहुंचने के बाद भगवान शंकर ने बैल का रूप ले लिया और बाकी पशुओं के साथ शामिल हो गए। इस पर पांडवों को कुछ शक हुआ। अत: भीम ने अपना विशाल रूप धारण किया। फिर अपने पैरों को दो पहाड़ों के बीच में फैला लिया। सभी गाय-बैल उनके नीचे से निकल गए लेकिन शिव जी बैल के रूप में उनके नीचे से निकलने को तैयार नहीं थे। फिर भी पूरी ताकत के साथ बैल पर झपटे लेकिन बैल यानी शिव शंकर भूमि में अंतध्र्यान होने लगे। फिर भीम ने बैल की पीठ का त्रिकोण हिस्सा पकड़ लिया। इससे भगवान शंकर बेहद प्रसन्न हुए क्योंकि पांडवों में भक्ती और दृढ़ संकल्प साफ नजर आ रहा था। इसके बाद शिवजी ने पांडवों को दर्शन देकर पाप से मुक्त किया। तब से शंकर जी बैल की पीठ की आकृति-पिंड के रूप में श्री केदारनाथ में पूजे जाते हैं।

एक मान्यता है कि सच्चे मन जो भी बाबा केदारनाथ का स्मरण करता है उसकी मनोकामनाएं पूर्ण होती हैं. सावन के महीने में केदारानाथ के दर्शन बहुत ही शुभ माने जाते हैं.
 
समय सारणी:
दर्शन का समय- प्रातः 6:00 बजे खुलता है, विशेष पूजा  3:00 से 6:00 बजे होती है
पूरा शाम 5:00 बजे द्वार खोले जाते हैं पूजा के लिए,  पांच मुख वाले भगवान शिव  की आरती 7:30 से 8:30 बजे तक होती है,  8:30 बजे मंदिर बंद कर दिया जाता है
 
पूजा का क्रम:
भगवान की पूजाओं के क्रम में प्रात:कालिक पूजा, महाभिषेक पूजा, अभिषेक, लघु रुद्राभिषेक, षोडशोपचार पूजन, अष्टोपचार पूजन, सम्पूर्ण आरती, पाण्डव पूजा, गणेश पूजा, श्री भैरव पूजा, पार्वती जी की पूजा, शिव सहस्त्रनाम आदि प्रमुख हैं।
यह भी पढ़ें :     

बीमारियों से बचाव के लिए भवन वास्तु के कुछ खास उपाय !  

क्यों मनाई जाती हैं कुम्भ संक्रांति ? जानें इससे जुड़ा यह ख़ास तथ्य !

जानिए किस माला के जाप का क्या फल मिलता है

  • 100% Authentic
  • Payment Protection
  • Privacy Protection
  • Help & Support


फ्री टूल्स

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms and Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
X