myjyotish

6386786122

   whatsapp

8595527218

Whatsup
  • Login

  • Cart

  • wallet

    Wallet

Home ›   Blogs Hindi ›   Lord Narsinh: Where on this earth is the pillar from which Lord Narsinh appeared

Lord Narsinh: इस धरती पर कहां है वह खंभा जिसमें से प्रकट हुए थे भगवान नरसिंह

Myjyotish Expert Updated 19 Mar 2022 02:38 PM IST
इस धरती पर कहां है वह खंभा जिसमें से प्रकट हुए थे भगवान नरसिंह
इस धरती पर कहां है वह खंभा जिसमें से प्रकट हुए थे भगवान नरसिंह - फोटो : google

इस धरती पर कहां है वह खंभा जिसमें से प्रकट हुए थे भगवान नरसिंह


हिरण कश्यप को ब्रह्मा जी से वरदान मिला था कि उसे कोई भी ना धरती पर और ना आसमान में ,न भीतर और ना बाहर ,न सुबह और न रात में ,न देवता और असुर, न वानर और न मानव ,ना अस्त्र से और न शस्त्र से मार सकता है। इसी वरदान के चलते वह निरंकुश हो चला था।

वह खुद को भगवान मानता था लेकिन उसका पुत्र प्रहलाद श्री हरि विष्णु का भक्त था। होलिका दहन के दिन बाद भी जब भक्त प्रहलाद की मौत नहीं हुई तो आखिरकार क्रोधित होकर हिरण कश्यप ने खुद ही प्रहलाद को मौत के घाट उतारने की ठानी।उसने 28 करते हुए कहा कि तू कहता है कि तेरा विष्णु सभी जगह है तो क्या इस खंभे में भी है? ऐसे कहते हुए हिरण कश्यप खंभे में एक लात मार देता है। तभी उस खंभे से विष्णु जी नरसिंह अवतार लेकर प्रकट होते हैं और उनका सब का वध कर देते हैं। लोक मान्यता है कि वह टूटा हुआ खंभा अभी भी मौजूद है।
 

अष्टमी पर माता वैष्णों को चढ़ाएं भेंट, प्रसाद पूरी होगी हर मुराद 


माणिक्य स्तंभ: कहते हैं कि बिहार के पूर्णिया जिले के बनमनखी प्रखंड के सिकलीगढ़ में वह स्थान मौजूद है जहां असुर हिरण कश्यप का वध हुआ था। हिरण्यकश्यप की सीट अलीगढ़ स्थित किले में भक्त प्रहलाद की रक्षा के लिए एक खंभे से भगवान विष्णु का नरसिंह अवतार हुआ था ।वह आज भी मौजूद है, जिसे माणिक्य स्तंभ कहा जाता है।

कहा जाता है कि इस स्तंभ को कई बार तोड़ने का प्रयास किया गया लेकिन वह चूक आ तो गया लेकिन टूटा नहीं। इस खंभे से कुछ दूर पर ही हिरण नामक नदी बहती है। कहते हैं कि नरसिंह स्थान के क्षेत्र में पत्थर डालने से वह पत्थर हिरण नदी में पहुंच जाता है। हालांकि अब ऐसा होता है या नहीं यह कोई नहीं जानता है। माणिक्य स्तंभ की देखरेख के लिए देखरेख के लिए यहां पर प्रहलाद स्थान विकास ट्रस्ट भी है। ।यहां के लोगों का कहना है कि इस स्थान का जिक्र भागवत पुराण के सप्तम असंध के अष्टम अध्याय में मिलता है।

ज्योतिषी से बात करें और पाएं अपनी हर समस्या का समाधान। 

इस स्थल की विशेषता है कि यहां राख और मिट्टी से होली खेली जाती है। कहते हैं कि जब होलिका जल गई और भक्त प्रहलाद चीता से सकुशल वापस निकल आए तब लोगों ने राख और मिट्टी एक दूसरे पर लगा लगा कर खुशियां मनाई थी ।इस क्षेत्र में मशहूर जाति की बोलता है जिनका उपनाम ऋषि देव है।

यहीं पर एक विशाल मंदिर है जिसे भीमेश्वर महादेव का मंदिर कहते हैं। यहीं पर हिरण कश्यप ने घोर तप किया था ।जनश्रुति के अनुसार हिरण कश्यप का भाई हिरण्याक्ष बड़ा क्षेत्र का राजा था यह क्षेत्र अब नेपाल में पड़ता है।

अधिक जानकारी के लिए, हमसे instagram पर जुड़ें ।

अधिक जानकारी के लिए आप Myjyotish के अनुभवी ज्योतिषियों से बात करें।

 
  • 100% Authentic
  • Payment Protection
  • Privacy Protection
  • Help & Support


फ्री टूल्स

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms and Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
X