myjyotish

6386786122

   whatsapp

8595527218

Whatsup
  • Login

  • Cart

  • wallet

    Wallet

Home ›   Blogs Hindi ›   Jyotish Sanket: Rahu Mangal Yuti's Yoga Signals Big Changes

Jyotish Sanket: राहु मंगल युति का योग देता है बड़े बदलावों का संकेत

Myjyotish Expert Updated 30 Jun 2022 01:56 PM IST
राहु मंगल युति का योग देता है बड़े बदलावों का संकेत   
राहु मंगल युति का योग देता है बड़े बदलावों का संकेत    - फोटो : google

राहु मंगल युति का योग देता है बड़े बदलावों का संकेत   


राहु और मंगल का युति योग इस समय काफी बड़े बदलावों के संकेत के रुप में दिखाई दे सकता है. गोचर में राहु ओर मंगल का मेष राशि में एक साथ होना स्थिति को गंभीर एवं जटिल बना सकता है. दोनों ही ग्रह पाप ग्रह की श्रेणी में स्थान पाते हैं और ज्योतिष अनुसार दोनों का एक साथ युति में होना शुभता में कमी ओर अशुभ फलों में वृद्धि का सूचक बन जाता है. इस गोचर के समय पर इन दोनों ग्रहों का प्रभाव विस्फोटक स्थिति का निर्माण करने जैसा होगा.

मंगल की आक्रामकता अग्नि का असर राहु जल्द ग्रहण करता है और उसी के अनुरुप परिणाम देने में अग्रसर होता है. इस समय पर मेष राशि ओर तुला राशि पर इस योग का असर अधिक रहने वाला है क्योंकि ये दोनों ग्रह इन्हीं दो राशियों को अधिक प्रभावित करने वाले हैं.

ग्रह नक्षत्रों से जुड़ी परेशानियों का मिलेगा समाधान, आज ही बात करें प्रसिद्ध ज्योतिषियों से 

मंगल ग्रह को भूमि कारक माना जाता है. वहीं राहु ग्रह विदेशी भूमि का प्रतीक है. जब ये ग्रह एक साथ आते हैं, तो यह जातक को उनके घर से दूर ले जा सकता है.वर्तमान समय में इन दोनों का योग एक साथ बन रहा है जो 10 अगस्त तक बना रहेगा. इसी बीच दोनों का एक नक्षत्र समान डिग्री योग भी काफी विशेष रहेगा. साथ ही यह युति व्यक्ति में कठोरता, चिड़चिड़ापन और जिद्दी रवैये का कारक है.

परिवार के सदस्यों के साथ एक खराब संबंध, विवाहेतर संबंध, बेईमानी की आदतें, समस्याग्रस्त प्रेम जीवन, खराब विवाह, जबरन वसूली और अवैध व्यवहार, व्यापार नारा, हिंसक प्रवृत्ति और हत्याओं सहित भयानक कार्य, आदि राहु और मंगल के काफी प्रभाव हैं. इन दोनों का एक साथ आना खराब योगो के निर्माण का समय होता है जो वैश्विक स्तर पर असर डालने वाला होता है. 

जन्मकुंडली ज्योतिषीय क्षेत्रों में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है

राहु मंगल योग देश दुनिया पर होगा असर

यह योग किसी व्यक्ति की कुंडली अथवा देशों की कुंडली दोनों को ही प्रभावित करता है. आइए जानें कि इन दोनों के एक साथ आने पर क्या परिणाम हो सकते हैं और राहु और मंगल का प्रभाव किसी के जीवन को कैसे बदल देता है. मंगल, राहु दोनों 17 जुलाई से 05 अगस्त तक एक ही नक्षत्र भरणी में गोचर होगा दोनों 01 से 02 अगस्त में एक ही डिग्री पर दिखाई देंगे. ऎसे में ये समय बदलाव के संकेत देता है. ये तिथियां महत्वपूर्ण हैं क्योंकि मेष राशि में राहु मंगल का एक साथ होना कुछ न कुछ परेशानी का कारण बनता ही है.

मेदिन ज्योतिष अनुसार यूरोप और भारत के लिए ये समय व्यवस्था में बदलावों वाला रह सकता है. राहु का गोचर और मंगल के साथ ग्रह युति आगे चलकर ईंधन में वृद्धि, अग्नि के कार्यों में तेजी, विर्द्रोह, विस्फोट, विवाद को दिखा सकती है. सकारात्मक पहलुओं की अगर बात करें तो साहस, ऊर्जा, आक्रामकता, प्रतिरक्षा, पहल करने की इच्छा, लीडर होना इसमें शामिल हो सकता है. जो इस योग के कुछ बेहतर परिणाम भी होंगे. देश और दुनिया में होने वाले कुछ विस्फोटक परिणाम इसी युति के परिणाम स्वरुप देखने को मिलेंगे. यह राजनीति, धर्म, प्रकृति सभी पर अपना असर डालेंगे ओर उग्रता का परिणाम अधिक दिखाएंगे.
 

ये भी पढ़ें


जन्मकुंडली ज्योतिषीय क्षेत्रों में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है
  • 100% Authentic
  • Payment Protection
  • Privacy Protection
  • Help & Support


फ्री टूल्स

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms and Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
X