myjyotish

6386786122

   whatsapp

8595527218

Whatsup
  • Login

  • Cart

  • wallet

    Wallet

Home ›   Blogs Hindi ›   Chanakya Niti: Acharya Chanakya has told these secrets of a happy life, they are mentioned in Chanakya

Chanakya Niti: आचार्य चाणक्य ने बताया है सुखी जीवन के ये रहस्य 

Jyotish expert Updated 10 Jun 2022 05:07 PM IST
आचार्य चाणक्य ने बताया है सुखी जीवन के ये रहस्य 
आचार्य चाणक्य ने बताया है सुखी जीवन के ये रहस्य  - फोटो : google

आचार्य चाणक्य ने बताया है सुखी जीवन के ये रहस्य 


चाणक्य जिन्हें विष्णु गुप्त और कौटिल्य के नाम से जाना जाता हैं। ये एक राजनेता,अर्थशास्त्री, दार्शनिक,शिक्षक और न्यायविद थे। चाणक्य ने पीढ़ी दर पीढ़ी अपने नीति से मार्ग दर्शन दिया। जो आज भी सही साबित होता है।चाणक्य ने अति प्राचीन ग्रंथ अर्थशास्त लिखा है।जिसका आज भी अनुसरण कुछ लोग करते है।

चाणक्य नीति शास्त्र के ज्ञाता थे। उनके द्वारा रचित ग्रंथ  नीति ग्रंथ है। इसमें इन्होंने सूत्रात्मक शैली में जीवन को सुखमय एवम उसको कैसे सफल बनाए ये समझाया है।
चाणक्य नीति में इन्होंने जीने के आदर्श तरीके बताए है। इसको बताने के लिए इन्होंने कठोर अध्यन किया है। इन्होंने ने अपने नीतियों में व्यवहारिक और शक्तिशाली नीतियों को बहुत ही सरलता से समझाया है।

अगर हम अपने जीवन में चाणक्य के नीति का अनुसरण करे तो हमारे जीवन में तरक्की निश्चित है।चाणक्य का मानना है की शिक्षा के माध्यम से जो कुछ भी हमने पाया है वह जीवन भर हमारे साथ ही रहेगा। उसको कोई हमसे नहीं ले सकता है। जीवन में सब साथ छोड़ देंगे लेकिन जो शिक्षा से हासिल किया है वो हमारे साथ ही रहेगी।जब भी शिक्षा की आवश्कता पड़ेगी तब आपकी मदद करेगी। आइए जानते हैं कि चाणक्य ने सुखी जीवन के लिए कौन सा मंत्र बताया है :–

इन राशियों के जातक रहें अगले 44 दिनों तक सावधान, आ सकती है आर्थिक तंगी

* आचार्य चाणक्य ने एक श्लोक में कहा है की बड़े लोग , नेताओं की आपको विनय का गुड़ लेना चाहिए। वो जैसे धीरा बोलते है और शिष्टाचार में रहते है वैसे रहे ताकि आपको नौकरी और बिजनेस में सफलता प्राप्त हो।

* अपने चंचल मन को स्थिर रखें। क्योंकि अगर आप स्थिर है तभी किसी और को भी शांत कर सकते है। जो लोग दूसरी के खुशी में दुःख प्रकट करते है। वो कभी भी खुश नहीं रह पाते है। इन सब बातों का जिक्र चाणक्य नीति के 13 वें अध्याय के 15 वें श्लोक में किया है। चाणक्य ने बात है की व्यक्ति के अंदर जब तक संतोष की भावना न आ जाए तब तक वह सुखी जीवन नहीं  बीता सकत ।

* चाणक्य ने क्रोध को खुद का सबसे बड़ा शत्रु बताया है। क्योंकि क्रोध में हम खुद के आपे में नहीं होते है।इस समय सही क्या है और गलत क्या है ये भी नहीं बता सकते है। 

* कभी भी अपने सबसे ज्यादा बड़ा रहस्य किसी से ना बताओं। क्योंकि कही न कही वो आपके विनाश का कारण है।चाणक्य ने बताया है की सबसे बड़ा दुश्मन हमारा सबसे करीबी व्यक्ति ही होते है।

हर परेशानी का एक ही हल, बात करें देश के प्रसिद्ध ज्योतिषियों से 

* हमको जो जीवन मिला है वो बहुत छोटा है। खुद की कई गलतियों  से ही हम कुछ सीखते है। इस लिए आप हमेशा चौकस रहे क्योंकि अपने आस पास की गलतोलियो से सीखने को मिलेगा। अगर अच्छे से समझे तो वास्तविक जीवन के अनुभवों से बेहतर और कुछ भी नहीं क्योंकि आप ने अपने आखों से देखा है।

* चाणक्य ने बताया है की हद से ज्यादा सीधा है तो आप को पूरी दुनिया बेवकूफ बना देगी। देखा भी है की हमेशा पहले सीधे पेड़ को ही काटा जा सकता है। इस लिए इतना मजबूत हो जाइए की आप अपने खुद का बचाव कर सकें।

*  कभी भी किसी व्यक्ति को लोभ की चपेट में नहीं आना चाहिए। अगर ऐसी धारणा है तो वो मनुष्य कभी सुखी नहीं रह पाता। इस स्थिति में वह गलत कदम भी उठा लेगा।

* अगर आपको जीवन के कुछ करना है ,सफलता की सीढ़ियों को पार करना है तो आप सबसे पहले अपना लक्ष्य निर्धारित करें।ऐसा करने से लक्ष्य ज्यादा दूर नहीं होता है।

ये भी पढ़ें

  • 100% Authentic
  • Payment Protection
  • Privacy Protection
  • Help & Support


फ्री टूल्स

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms and Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
X