myjyotish

8595527216

   whatsapp

8595527218

Whatsup
  • Login

  • Cart

  • wallet

    Wallet

Home ›   Blogs Hindi ›   Baba Baidyanath Dham Jyotirlinga Shivling Histroy & Significance

बाबा बैद्यनाथ धाम, यहाँ दर्शन मात्र से पूर्ण हो जाती हैं समस्त कामनाएं

Myjyotish Expert Updated 04 Mar 2021 04:41 PM IST
Baba Baidhyanath jyotirling
Baba Baidhyanath jyotirling - फोटो : Myjyotish
बाबा बैद्यनाथ मंदिर जिसे कामना लिंग भी कहते हैं इसे कामना लिंग  इसलिए कहते हैं क्योंकि ऐसा माना जाता है कि यहां पर सच्चे दिल से पूजा और आराधना करने से भक्तजन के सभी मनोकामनाएं पूर्ण होती है बाबा बैद्यनाथ मंदिर झारखंड में देवघर स्थान पर है देवघर अर्थात देवताओं का घर जिसमें सभी देवता रहते हैं बाबा बैद्यनाथ ज्योतिर्लिंग  को  भक्तजन धाम भी कहते हैं साथ ही साथ यह शक्ति  पीठ है पुराना तथा शास्त्रों में इस ज्योतिर्लिंग  का उल्लेख किया गया है... कि सतयुग में ही यहां का नामकरण हो गया था और स्वयं भगवान ब्रह्मा और विष्णु ने भगवान शिव अर्थात भैरव के नाम पर इस धाम का नाम बैद्यनाथ धाम रखा सभी को यह बात पता है कि सावन का महीना अर्थात शिव का महीना इसलिए  सावन के महीना आते ही सभी द्वादश ज्योतिर्लिंगों में भक्तजनों और श्रद्धालुओं का तांता उमड़ा रहता है ।

क्या आपको चाहिए अनुभवी एक्सपर्ट की सलाह ?

SUBMIT

 
पौराणिक कथा:
 
भगवान शिव के भक्त रावण और बाबा बैजनाथ की कहानी बड़ी निराली है. पौराणिक कथा के अनुसार दशानन रावण भगवान शंकर को प्रसन्न करने के लिए हिमालय पर तप कर रहा था. वह एक-एक करके अपने सिर काटकर शिवलिंग पर चढ़ा रहा था. 9 सिर चढ़ाने के बाद जब रावण 10वां सिर काटने वाला था तो भोलेनाथ ने प्रसन्न होकर उसे दर्शन दिए और उससे वर मांगने को कहा तब रावण ने 'कामना लिंग' को ही लंका ले जाने का वरदान मांग लिया. रावण के पास सोने की लंका के अलावा तीनों लोकों में शासन करने की शक्ति तो थी ही साथ ही उसने कई देवता, यक्ष और गंधर्वो को कैद कर के भी लंका में रखा हुआ था. इस वजह से रावण ने ये इच्छा जताई कि भगवान शिव कैलाश को छोड़ लंका में रहें ।

सारी इच्छाओं को पूरा करने के लिए इस शिवरात्रि बाबा बैद्यनाथ ज्योतिर्लिंग में कराएं रुद्राभिषेक : 11 मार्च 2021

महादेव ने उसकी इस मनोकामना को पूरा तो किया पर साथ ही एक शर्त भी रखी. उन्होंने कहा कि अगर तुमने शिवलिंग को रास्ते में कही भी रखा तो मैं फिर वहीं रह जाऊंगा और नहीं उठूंगा. रावण ने शर्त मान ली.इधर भगवान शिव की कैलाश छोड़ने की बात सुनते ही सभी देवता चिंतित हो गए. इस समस्या के समाधान के लिए सभी भगवान विष्णु के पास गए. तब श्री हरि ने लीला रची. भगवान विष्णु ने वरुण देव को आचमन के जरिए रावण के पेट में घुसने को कहा. इसलिए जब रावण आचमन करके शिवलिंग को लेकर श्रीलंका की ओर चला तो देवघर के पास उसे लघुशंका लगी ऐसे में रावण एक ग्वाले को शिवलिंग देकर लघुशंका करने चला गया. कहते हैं उस बैजू नाम के ग्वाले के रूप में भगवान विष्णु थे ।

इस वहज से भी यह तीर्थ स्थान बैद्यनाथ धाम और रावणेश्वर धाम दोनों नामों से विख्यात है. पौराणिक ग्रंथों के मुताबिक रावण कई घंटो तक लघुशंका करता रहा जो आज भी एक तालाब के रूप में देवघर में है. इधर बैजू ने शिवलिंग धरती पर रखकर को स्थापित कर दिया जब रावण लौट कर आया तो लाख कोशिश के बाद भी शिवलिंग को उठा नहीं पाया. तब उसे भी भगवान की यह लीला समझ में आ गई और वह क्रोधित शिवलिंग पर अपना अंगूठा गढ़ाकर चला गया. उसके बाद ब्रह्मा, विष्णु आदि देवताओं ने आकर उस शिवलिंग की पूजा की. शिवजी का दर्शन होते ही सभी देवी देवताओं ने शिवलिंग की उसी स्थान पर स्थापना कर दी और शिव-स्तुति करके वापस स्वर्ग को चले गए. तभी से महादेव 'कामना लिंग' के रूप में देवघर में विराजते हैं 
 
सभी द्वादश ज्योतिर्लिंग के मंदिरों के शीर्ष पर त्रिशूल लगा है मगर केवल एक  वैद्यनाथ धाम के  सभी मंदिरों के शीर्ष पर पंचशूल लगे हैं बाबा बैद्यनाथ (वैद्यनाथ) मंदिर की यात्रा तब तक पूरी नहीं होती जब तक भक्तजन वासुकीनाथ के दर्शन नहीं करते ।

यह भी पढ़ें : -

बीमारियों से बचाव के लिए भवन वास्तु के कुछ खास उपाय !  

क्यों मनाई जाती हैं कुम्भ संक्रांति ? जानें इससे जुड़ा यह ख़ास तथ्य !

जानिए किस माला के जाप का क्या फल मिलता है

  • 100% Authentic
  • Payment Protection
  • Privacy Protection
  • Help & Support


फ्री टूल्स

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms and Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
X