myjyotish

6386786122

   whatsapp

6386786122

Whatsup
  • Login

  • Cart

  • wallet

    Wallet

विज्ञापन
विज्ञापन
Home ›   Blogs Hindi ›   Adhikamas 2023: Why is Adhikamas so dear to Shri Vishnu that he gave it his name

अधिकमास 2023: क्यों है श्री विष्णु को इतना प्रिय अधिकमास कि इसे दिया अपना नाम

my jyotish expert Updated 21 Jul 2023 11:21 AM IST
अधिकमास 2023: क्यों है श्री विष्णु को इतना प्रिय अधिकमास कि इसे दिया अपना नाम
अधिकमास 2023: क्यों है श्री विष्णु को इतना प्रिय अधिकमास कि इसे दिया अपना नाम - फोटो : google
विज्ञापन
विज्ञापन
धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, अधिकमास के अधिपति भगवान विष्णु हैं और पुरुषोत्तम भगवान विष्णु का ही एक नाम है.  पंचांग गणना के लिए उपयोग होने वाला अधिकमास कई मायनों में बेहद खास समय होता है. यह समय कई मायनों से विशेष होता है. समय के अंतर को हर तीसरे साल इसी अधिकमास के द्वारा देखा जाता है.

सावन माह पर सरसों के तेल का अभिषेक दिलाएगा कर्ज मुक्ति, शत्रु विनाश और मुकदमों में जीत 04 जुलाई से 31अगस्त 2023

काल गणना के अंतर को दूर करने के लिए हर तीसरे साल अधिक मास या अधिक मास लगता है. इतना ही नहीं अधिकमास को पुरूषोत्तम मास के नाम से भी जाना जाता है. धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, अधिकमास के अधिपति भगवान विष्णु हैं और पुरुषोत्तम भगवान विष्णु का ही एक नाम है. ऎसे में इस नाम के साथ जुड़ने पर इस माह के समय विष्णु पूजन को विशेष माना गया है. 

सावन शिवरात्रि पर 11 ब्राह्मणों द्वारा 11 विशेष वस्तुओं से कराएं महाकाल का सामूहिक महारुद्राभिषेक एवं रुद्री पाठ 2023

अधिक मास का जीवन पर प्रभाव 
अधिक मास के प्रभाव का असर जीवन पर विशेष रुप से होता है. पौराणिक कथाओं के अनुसार भगवान विष्णु ने जिस प्रकार सभी के कष्टों को दूर किया उसी प्रकार उन्होंने इस समय के कष्ट को भी दूर किया. इस मास को अपना अधिकार प्रदान किया. अधिकमास अधिकमास और पुरूषोत्तम मास भगवान विष्णु को समर्पित है. यही कारण है कि इस माह को पुरूषोत्तम मास के नाम से भी जाना जाता है. इस समय पर किया जाने वाला पूजन भक्तों के पापों का शमन कर देने वाला होता है. धार्मिक पुराणों में इस संबंध में अनेक कथाएं प्रचलित हैं.
 
मात्र रु99/- में पाएं देश के जानें - माने ज्योतिषियों से अपनी समस्त परेशानियों 

अधिकमास पर किए जाने वाले अनुष्ठान  
पौराणिक कथाओं के अनुसार अधिकमास लगने के कारण इस माह का स्वामी कोई नहीं बन पा रहा था. तब सभी देवताओं ने उनकी मुक्ति के लिए भगवान विष्णु से प्रार्थना की तब इस तपस्या प्रार्थना से भगवान विष्णु प्रसन्न होते हैं और उन्होंने अपना सर्वोत्तम नाम पुरूषोत्तम इस अधिकमास को प्रदान किया. इसके अलावा भगवान विष्णु ने यह वरदान दिया है कि जो भी व्यक्ति इस माह में जप, दान, स्नान जैसे शुभ कार्यों को करते हैं तथा. आराधना और धार्मिक अनुष्ठान करेगा, उसे अच्छे कर्मों का फल मिलेगा. 

लंबी आयु और अच्छी सेहत के लिए इस सावन सोमवार उज्जैन महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग में कराएं रुद्राभिषेक 04 जुलाई से 31अगस्त 2023

पुरूषोत्तम मास को पूजा-पाठ और श्रीमद्भागवत कथा के लिए सबसे पवित्र माना जाता है. पुरूषोत्तम मास में माता भगवान श्रीहरि जगत्पति विष्णु की पूजा की जाती है. उनकी पूजा की जाती है. अगर व्यक्ति भगवान विष्णु के मंत्रों का जाप विधि-विधान से करता है तो उसे कई गुना फल मिलता है. पुरूषोत्तम काम को सबसे पवित्र महीना माना जाता है. इस समय पर हवन यज्ञ इत्यादि का आयोजन करना बेहद उत्तम फलों को प्रदान करने वाला समय होता है. 

  • 100% Authentic
  • Payment Protection
  • Privacy Protection
  • Help & Support
विज्ञापन
विज्ञापन


फ्री टूल्स

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
X