myjyotish

6386786122

   whatsapp

8595527218

Whatsup
  • Login

  • Cart

  • wallet

    Wallet

Home ›   Blogs Hindi ›   worship of peepal tree why to worship story and history

Peepal Tree Worship: जानें क्यों की जाती है पीपल के पेड़ की पूजा।

Myjyotish Expert Updated 02 Mar 2022 01:16 PM IST
जानें क्यों की जाती है पीपल के पेड़ की पूजा। 
जानें क्यों की जाती है पीपल के पेड़ की पूजा।  - फोटो : google

जानें क्यों की जाती है पीपल के पेड़ की पूजा। 


एक पौराणिक कथा के अनुसार माता लक्ष्मी और उनकी छोटी बहन दरिद्र भगवान विष्णु के पास गए और उनसे प्रार्थना करने लगे की "हे ! प्रभु हम कहाँ रहें?" यह बात सुन कर भगवान विष्णु ने माता लक्ष्मी और उनकी बहन को पीपल के पेड़ पर रहने की अनुमति देदी। और इसके बाद वह दोनों पीपल के पेड़ पर रहने लगीं। 

भगवान विष्णु की तरफ से उन्हें ये वरदान मिला की जो व्यक्ति शनिवार के दिन पीपल के पेड़ की पूजा करेगा उससे शनि गृह के प्रभाव एवं प्रकोप से मुक्ति मिलेगी और उस व्यक्ति पर माता लक्ष्मी की अपार कृपा रहेगी। कहा जाता है की शनि के प्रकोप से ही घर का ऐश्वर्या नष्ट एवं बर्बाद होता है और जो व्यक्ति पीपल के पेड़ की पूजा हर शनिवार करता है उसपे शनि देव और माता लक्ष्मी की कृपा सदैव रहती है।  

Falgun Amawasya: फाल्गुन अमावस्या, दूर होंगे सभी पितृदोष और मिलेगा सुख सौभाग्य का वरदान

धर्म शास्त्र के अनुसार पीपल का पेड़ भगवान विष्णु का गृह निवास होता है। इसी लोक विश्वास और आस्था के आधार पर लोग आज भी पीपल के पेड़ को काटने से डरते हैं। परन्तु यह भी कथन है की यदि पीपल के पेड़ को काटना आवश्यक हो तो उससे रविवार के दिन काटा जा सकता है। गीता में पीपल की तुलना मानव के देह से की गयी है। 

वैज्ञानिक दृष्टि से पीपल प्राणवायु का केंद्र है। अथार्त पीपल का पेड़ पर्याप्त मात्रा में कार्बन डाइऑक्साइड ग्रहण करता है और ऑक्सीजन छोड़ता है। संस्कृत में पीपल को चलदलतरू कहते हैं। 'पात सरिस मन डोला' शायद थोड़ी सी हवा के हिलने की वजह से तुलसीदास ने मन की चंचलता की तुलना पीपल के पत्ते के हिलने से हुए। 

Mahashivratri 2022: महाशिवरात्रि पर दान करें ये चीज़ें होंगी सभी मनोकामनाएं पूरी।

पद्मपुराण के अनुसार पीपल की परिकर्मा करके प्रणाम करने से आयु में वृद्धि होती है। शनि की सादे सती और ढैया काल में पीपल की परिकर्मा और पूजन करने से साढ़े सती और और ढैया का प्रकोप कम होता है। धर्मशास्त्रों के अनुसार पीपल में पितरों का वास होने के साथ ही देवताओं का भी वास होता है। 

संकद पुराण के अनुसार पीपल की जड़ में श्री विष्णु, तन में केशव, शाखाओं में नारायण, पत्तों में भगवान श्री हरी और फल में सब देवताओं से युक्त भगवान का अच्युत स्थान है। इसलिए पीपल के पेड़ की पूजा की जाती है।  

अधिक जानकारी के लिए, हमसे instagram पर जुड़ें ।

अधिक जानकारी के लिए आप Myjyotish के अनुभवी ज्योतिषियों से बात करें।

 
  • 100% Authentic
  • Payment Protection
  • Privacy Protection
  • Help & Support


फ्री टूल्स

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms and Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
X