myjyotish

7678508643

   whatsapp

8595527218

Whatsup
  • Login

  • Cart

  • wallet

    Wallet

Home ›   Blogs Hindi ›   when Mercury will transit what will be the effect

जानिए जब बुध का होगा गोचर तो क्या दिखेंगे प्रभाव और क्या है उसके उपाय

My jyotish expert Updated 05 Jan 2022 04:55 PM IST
budh Gochar remedies
budh Gochar remedies - फोटो : google
बध ग्रह को राशि चक्र का एक चक्र पूरा करने में लगभग 12 महीने का समय लग जाता है, यह प्रत्येक राशि में लगभग 28 से 30 दिन तक का समय बिताता है, यह इस बात पर भी निर्भर करता है कि उसकी चाल सीधी है या वक्री. बुध को राजकुमार का स्थान प्राप्त है और यह एक राजसिक ग्रह है जो गुणों में भी इन लक्ष्णों को दर्शाता है. बुध के प्रभाव से जातक में तर्क कुशलता एवं बौद्धिकता का अच्छा विकास सक्षम हो सकता है. बुध की उत्तम स्थिति ही जातक को कुशल एवं गुणों से संपन्न बनाने में सहायक बनती है. बुध का प्रभाव बुद्धि, वाणी, त्वचा को अत्यधिक रुप से प्रभावित करता है. कुंडली में या गोचर में बुध की स्थिति पर किसी भी प्रकार का खराब प्रभाव बुध से संबंधित कारक तत्वों को काफी ज्यादा प्रभावित कर सकता है. बुध का प्रभाव अगर शुभ स्थिति में हो तो लोगों के मध्य एक अलग जगह बनाने में सफलता मिलती है. बुध को वार्तालाप में सबसे अधिक महत्वपूर्ण कारक मान अगया है संचार से जुड़े सभी कार्यों पर इसका अधिपत्य होता है. बुध का सभी राशियों के लिए गोचर बदलाव असरदायक होता है. 

इस मकरसंक्रांति नवग्रह सूर्य मंदिर कोणार्क में कराएं 108 बार आदित्य हृदय स्त्रोत का जाप, होगी मान सम्मान एवं यश में वृद्धि : 14-जनवरी-2022  

बुध का लग्न से द्वादश भाव फल 

बुध का गोचर प्रत्येक भाव अनुसार अपने फलों को दर्शाता है. प्रत्येक भाव में बुध की स्थिति उस भाव के कारक तत्वों के साथ मिलकर अपने फलों को देने में सहायक होती है. जन्म चंद्रमा से दूसरे, चौथे, छठे, आठवें, दसवें और ग्यारहवें भाव में हो तो बुध अपने सकारात्मक फलों को प्रदान करने वाला होता है. तृतीय, पंचम, सप्तम, नवम, द्वादश भाव में यह कुछ नकारात्मक प्रभाव ला सकता है. यहां इस बात का विस्तृत विवरण दिया गया है कि बुध का गोचर आपके जीवन को कैसे प्रभावित कर सकता है, जिसके आधार हम इससे संबंधित उपायों से इसके अशुभ फलों से मुक्ति प्राप्त करके शुभता को पाया जा सकता है. 

बुध के सरल लेकिन अचूक उपाय 

बुध ग्रह का स्वामित्व मिथुन और कन्या राशि को प्राप्त है. कन्या राशि में ही बुध उच्च स्थिति को प्राप्त करता है़ बुध की ये स्थिति जातक को रचनात्मक, हंसमुख मिलनसार बौद्धिक बनाती है. इसके प्रभाव से व्यक्ति का चातुर्य अदभुद होता है और उसकी सोच में जो दूरदर्शिता होती है वह देखते ही बनती हैं. मीन राशि में बुध कमजोर स्थिति को पाता है और इस के शुभ गुण कम होते हैं. इस तरह से बुध की पाप प्रभाव में स्थिति होने से भी शुभता अवश्य प्रभावित होती है. बुध के शुभ फलों को पाने के लिए यदि कुछ साधारण उपाय किए जाएं तो यह बुध से जुड़े शुभ फलों को दर्शाने वाला होता है. 

बुध को हरे रंग से संबंधित माना गया है अत: हरे रंग का उपयोग इसकी शुभता के लिए उपयोगी होता है. इसके अलावा विष्णु सहस्त्रनाम का पाठ करना बुध के शुभ फलों को प्राप्त करने हेतु अत्यंत ही उत्तम उपाय मान अगया है. 

- गाय को हरा चारा खिलाना बुधवार के दिन उत्तम फल प्रदान करता है. 
- छोटी इलायची का सेवन करना भी बुध के शुभ फलों को प्रदान करने में सहायक बनता है. 
- हरे पेड़-पौधे लगाना तथा नियमित रुप से देखभाल करना बुध की शुभता में वृद्धि देने में सहायक बनता है. 

विनायक चतुर्थी पर कराएं श्री गणेश पंचरत्नम स्रोत पाठ, बुद्धिमत्ता के साथ मिलेगा सुख समृद्धि एवं सफलता का आशीर्वाद - 06 जनवरी , 2022  
  • 100% Authentic
  • Payment Protection
  • Privacy Protection
  • Help & Support


फ्री टूल्स

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms and Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
banner-image
X