myjyotish

6386786122

   whatsapp

6386786122

Whatsup
  • Login

  • Cart

  • wallet

    Wallet

विज्ञापन
विज्ञापन
Home ›   Blogs Hindi ›   The last Mangla Gauri Vrat of Sawan, worship Goddess Parvati with this method, every crisis will go away

Mangla Gauri Vrat 2023: सावन का आखिरी मंगला गौरी व्रत, इस विधि से करें माता पार्वती की पूजा, दूर होगा हर संकट

Myyotish Expert Updated 28 Aug 2023 03:43 PM IST
9th Mangla Gauri fast, gauri puja
9th Mangla Gauri fast, gauri puja - फोटो : Myjyotish
विज्ञापन
विज्ञापन
सावन के प्रत्येक मंगलवार के दिन  मंगला गौरी का व्रत रखा जाता है. इस व्रत में मां गौरी यानी पार्वती जी की पूजा की जाती है. यह व्रत विवाह के सुख एवं संतान के सुख हेतु उत्तम फलों को देने वाला होता है. अपने नाम अनुरुप ही यह व्रत मंगल सुख प्रदान करता है. जिसके कारण इस व्रत को मंगला गौरी व्रत कहा जाता है.

लंबी आयु और अच्छी सेहत के लिए इस सावन सोमवार उज्जैन महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग में कराएं रुद्राभिषेक 04 जुलाई से 31अगस्त 2023

मंगला गौरी व्रत को मोरकट व्रत के नाम से भी जाना जाता है. सावन माह में पड़ने वाले सभी मंगलवारों को मंगला गौरी व्रत करने का विधान है. पुराणों के अनुसार श्रावण मास भगवान शिव और माता पार्वती को अत्यंत प्रिय है, इसीलिए श्रावण मास के सोमवार को भगवान शिव और मंगलवार को देवी गौरी एवं महदेव की पूजा अत्यंत शुभ और मंगलकारी बताई गई है. 
 
सावन का अंतिम मंगला गौरी कब है? 
इस बार सावन की समाप्ति के साथ ही सावन का अंतिम मंगला गौरी व्रत 29 अगस्त के दिन रखा जाएगा. इस दिन पर सोम प्रदोष व्रत का पारण होगा तथा साथ ही ऋगवेदिय उपाक्रम भी इस समय पर किए जा सकेंगे. मंगला गौरी का व्रत करने से हर संकट का निवारण होता है. विधि विधान के साथ मंगलागौरी की पूजा द्वारा भक्तों को मनोवांछित फलों की प्राप्ति होती है.

सौभाग्य पूर्ण श्रावण माह के सावन पर समस्त इच्छाओं की पूर्ति हेतु त्र्यंबकेश्वर ज्योतिर्लिंगं में कराए रूद्र अभिषेक - 31 जुलाई से 31 अगस्त 2023

माता पार्वती की पूजा, से परिवार पर आने वाला हर संकट दूर हो जाता है. सावन के प्रत्येक मंगलवार को मंगला गौरी व्रत करने का विधान है. इस व्रत को करने से संतान सुख की प्राप्ति होती है. साथ ही जीवनसाथी की उम्र लंबी होती है. आइए जानते हैं क्या है मंगला गौरी व्रत की पूजा विधि और कैसे करें देवी माता का पूजन 

मंगला गौरी व्रत पूजा विधि
इस दिन व्रत धारक को नित्यकर्मों से निवृत्त होकर व्रत का संकल्प लेना चाहिए. संतान, सौभाग्य और सुख की प्राप्ति के लिए मंगला गौरी व्रत का अनुष्ठान करना चाहिए,. नहा-धोकर एक चौकी पर लाल कपड़ा बिछाकर उस पर मां की प्रतिमा और तस्वीर को स्थापित करके पूजा करनी चाहिए.

 अब हर समस्या का मिलेगा समाधान, बस एक क्लिक से करें प्रसिद्ध ज्योतिषियों से बात 

दीपक बनाकर उसमें सोलह बत्तियां जलानी चाहिए. इसके बाद सोलह लड्डू, सोलह फल, सोलह पान, सोलह लौंग और इलायची सहित सामग्री और मिठाई माता के सामने रखनी चाहिए. माता के मंत्र का जाप करना चाहिए " कुंकुमागुरुलिप्तंगा सर्वाभरणभूषितम्. नीलकंठप्रिया गौरी वन्देहं मंगलह्वयम्" इस प्रकार विधि विधान से पूजा द्वारा भक्त को माता का आशीर्वाद प्राप्त होता है.  
 
  • 100% Authentic
  • Payment Protection
  • Privacy Protection
  • Help & Support
विज्ञापन
विज्ञापन


फ्री टूल्स

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms and Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
X