myjyotish

6386786122

   whatsapp

6386786122

Whatsup
  • Login

  • Cart

  • wallet

    Wallet

विज्ञापन
विज्ञापन
Home ›   Blogs Hindi ›   Surya Grahan 2023: Shadow of eclipse on Amavasya, know when Sutak is taking place?

Surya Grahan 2023: अमावस्या पर ग्रहण का साया, जानें कब लग रहा है सूतक ?

MyJyotish Expert Updated 09 Oct 2023 02:14 PM IST
amavasya grahan
amavasya grahan - फोटो : Myjyotish
विज्ञापन
विज्ञापन
इस बार आने वाली आश्विन अमावस्या के दिन ग्रहण की स्थिति का निर्माण होगा. यह सूर्य ग्रहण का समय होगा. 14 अक्टूबर को सर्वपितृमोक्ष अमावस्या पर सूर्य ग्रहण होगा लेकिन यह सूर्य ग्रहण भारत में दिखाई नहीं देगा, इसलिए न तो इसका सूतक भारत में मान्य होगा किंतु जिन स्थानों पर यह दिखाई देगा वहां इसका सूतक मान्य होगा. पितृ अमावस्या के दिन लगने वाला यह ग्रहण विशेष होगा. इस दिन सभी प्रकार के आयोजन निर्विघ्न किए जा सकते हैं. 
 
इस पितृ पक्ष द्वादशी, सन्यासियों का श्राद्ध हरिद्वार में कराएं पूजा, मिलेगी पितृ दोषों से मुक्ति : 11 अक्टूबर 2023

सूर्य ग्रहण समय 2023
सूर्य ग्रहण आश्विन मास के कृष्ण पक्ष की अमावस्या तिथि को लगेगा, ग्रहण रात्रि के करीब आरंभ होगा.  सूर्य ग्रहण रात 08:34 बजे शुरू होगा और 26:24 बजे समाप्त होगा. यह ग्रहण भारत में दृष्य नहीं देगा. ग्रहण से 12 घंटे पहले ही सूतक काल शुरू हो जाता है. सूर्य ग्रहण शुरू होने पर मानसिक जप करना बेहद शुभ माना जाता है. यह समय ग्रहण शांति से जुड़े कामों के लिए उचित होता है.

विंध्याचल में कराएं शारदीय नवरात्रि दुर्गा सहस्त्रनाम का पाठ पाएं अश्वमेघ यज्ञ के समान पुण्य : 15 अक्टूबर - 23 अक्टूबर 2023 - Durga Sahasranam Path Online

इस समय के दौरान स्नान दान इत्यादि से संबंधित कार्य किए जाते हैं. ग्रहण के समय मध्य काल में मंत्र जप करना सकारात्मक प्रभाव देने वाला होता है. इसी के साथ ग्रहण के मोक्ष काल समय पर दान करना चाहिए उत्तम होता है तथा ग्रहण समाप्त होने के बाद स्नान करना चाहिए. ऎसा करने से ग्रहण के दुष्प्रभावों से बचाव होता है तथा जीवन में ग्रहण की अशुभता का असर नहीं पड़ता है.
  
सर्वपितृ अमावस्या पर हरिद्वार में कराएं ब्राह्मण भोज, दूर होंगी पितृ दोष से उत्पन्न समस्त कष्ट - 14 अक्टूबर 2023 

सूर्य ग्रहण के दौरान क्या करें और क्या न करें 
सूर्य ग्रहण के समय जप और तप करने का विशेष महत्व माना गया है. इस समय भगवान सूर्य की पूजा कर सकते हैं, शिव मंत्रों का जाप कर सकते हैं इसके अलावा गायत्री मंत्र जाप किया जा सकता है. आप इस दौरान राशि अनुसार मंत्र जाप भी कर सकते हैं. भोजन इत्यादि में तुलसी दल या कुश मिलानाआवश्यक माना जाता है ताकि ग्रहण के कारण ये चीजें दूषित न हों. 

इस पितृ पक्ष गया में कराएं श्राद्ध पूजा, मिलेगी पितृ दोषों से मुक्ति : 29 सितम्बर - 14 अक्टूबर 2023

शास्त्रों में ग्रहण के समय पूजा-पाठ करना उचित नहीं माना गया है लेकिन मंत्र जाप करने से ग्रहण के प्रभाव को कम किया जा सकता है. इसके अलावा ग्रहण के दौरान भगवान की मूर्ति को छूना भी वर्जित है.

इस शारदीय नवरात्रि कराएं खेत्री, कलश स्थापना 9 दिन का अनुष्ठान , माँ दुर्गा के आशीर्वाद से होगी सभी मनोकामनाएं पूरी - 15 अक्टूबर- 23 अक्टूबर 2023

ग्रहण काल के दौरान भोजन नहीं करना चाहिए. सूर्य ग्रहण को नंगी आंखों से नहीं देखना चाहिए. इस समय के दौरान बाल या नाखून काटने से बचना चाहिए और ग्रहण के दौरान गर्भवती स्त्रियों को विशेष ध्यान रखना चाहिए.

कामाख्या देवी शक्ति पीठ में शारदीय नवरात्रि, सर्व सुख समृद्धि के लिए करवाएं दुर्गा सप्तशती का विशेष पाठ : 15 अक्टूबर- 23 अक्टूबर 2023 - Durga Saptashati Path Online
  • 100% Authentic
  • Payment Protection
  • Privacy Protection
  • Help & Support
विज्ञापन
विज्ञापन


फ्री टूल्स

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
X