myjyotish

6386786122

   whatsapp

6386786122

Whatsup
  • Login

  • Cart

  • wallet

    Wallet

विज्ञापन
विज्ञापन
Home ›   Blogs Hindi ›   Shravan 2023: Worship Shivling made of clay on Sawan, there will always be happiness and prosperity in the hou

Shravan 2023: सावन पर मिट्टी से बने शिवलिंग की करें पूजा, घर में हमेशा बनी रहेगी सुख-समृद्धि

my jyotish expert Updated 19 Aug 2023 11:48 AM IST
Shravan 2023: सावन पर मिट्टी से बने शिवलिंग की करें पूजा, घर में हमेशा बनी रहेगी सुख-समृद्धि
Shravan 2023: सावन पर मिट्टी से बने शिवलिंग की करें पूजा, घर में हमेशा बनी रहेगी सुख-समृद्धि - फोटो : google
विज्ञापन
विज्ञापन
इस साल सावन की तृतीया एवं पंचमी पर शिव पूजन का विशेष महत्व रहने वाला है. इस तृतीया को श्रावणी तीज भी कहा जाता है और पंचमी को नाग पंचमी के रुप में जाना जाता है. भक्तों के लिए इन दिनों का विशेष महत्व है. तृतीया पर महिलाएं सोलह श्रृंगार करके माता पार्वती और भोलेनाथ की पूजा करती हैं. भगवान का पूजन एवं व्रत उपवास करते हुए जीवन की मंगलकामनाओं का आशीर्वाद पाती हैं. इस शुभ दिन पर भगवान का अभिषेक किया जाता है. महादेव के साथ देवी गौरी का पूजन होता है. इस दिन पर शिवलिंग का पूजन कई रुपों में होता
है. इसी में भगवान का मिट्टी से बना शिवलिंग पूजन करने का विशेष महत्व प्राप्त होता है. 

नाग पंचमी पर परिवार मे सुख एवं समृद्धि प्राप्ति करने का एक मात्र उत्तम दिन, घर बैठे कराएं पूजा नागवासुकि मंदिर, प्रयागराज - 21 अगस्त 2023

भगवान के अभिषेक के साथ ही घी, चीनी और आटे से बना प्रसाद चढ़ाया जाता है. भोग के बाद धूप-दीप से भोलेनाथ की आरती की जाती है और यह प्रसाद सभी को वितरित किया जाता है. माना जाता है कि ऐसा करने से भगवान शिव प्रसन्न होते हैं और आपकी सभी परेशानियां दूर कर देते हैं. 

सौभाग्य पूर्ण श्रावण माह के सावन पर समस्त इच्छाओं की पूर्ति हेतु त्र्यंबकेश्वर ज्योतिर्लिंगं में कराए रूद्र अभिषेक - 31 जुलाई से 31 अगस्त 2023

पौराणिक मान्यताएं एवं शिव पूजन 
सावन के माह की शुक्ल पक्ष तृतीया और पंचमी का महत्व बहुत विशेष रहा है. इसे धर्म शास्त्रों में विशेष माना गया है. पौराणिक मान्यताओं के अनुसार, श्रावणी तीज के दिन तथा पंचमी के दिन मिट्टी से बने शिवलिंग की पूजा करने से व्यक्ति पर भगवान शंकर की कृपा सदैव बनी रहती है. श्रावणी तीज श्रावण मास के शुक्ल पक्ष की तृतीया को आती है. इस दिन परिवार की सुख-समृद्धि और धन-संपत्ति के लिए भगवान शिव और पार्वती का व्रत और पूजन किया जाता है. यह पूजा रात्रि में की जाती है. इस दिन महिलाएं अखंड सौभाग्य और पति की लंबी उम्र की कामना के लिए व्रत रखती हैं.

सावन शिवरात्रि पर 11 ब्राह्मणों द्वारा 11 विशेष वस्तुओं से कराएं महाकाल का सामूहिक महारुद्राभिषेक एवं रुद्री पाठ 2023

सावन के महीने में भोलेनाथ की कृपा पाने के लिए शिव भक्त तरह-तरह के उपाय करते हैं इसी में से एक उपाय इस तृतीया तिथि के दिन किया जाता है. ऐसा माना जाता है कि अगर सच्ची श्रद्धा से शिव की पूजा की जाए तो भगवान शंकर प्रसन्न होते हैं और भक्तों की सभी मनोकामनाएं पूरी करते हैं. सावन माह में श्रावणी तीज पर शिवलिंग की पूजा का विशेष महत्व है. इस शुभ दिन पर मिट्टी को शुद्ध करना चाहिए और उस पर पार्थिव शिवलिंग बनाकर पूजा करनी चाहिए. इस शिवलिंग की पूजा करने से व्यक्ति पर भगवान शंकर की कृपा सदैव बनी रहती है. रात्रि में जागकर माता पार्वती और महादेव की पूजा करना.
  • 100% Authentic
  • Payment Protection
  • Privacy Protection
  • Help & Support
विज्ञापन
विज्ञापन


फ्री टूल्स

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms and Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
X