myjyotish

6386786122

   whatsapp

6386786122

Whatsup
  • Login

  • Cart

  • wallet

    Wallet

विज्ञापन
विज्ञापन
Home ›   Blogs Hindi ›   Raksha Bandhan 2023: According to astrology, what things should be kept in mind on Rakshabandhan and why Bhadr

Raksha Bandhan 2023: ज्योतिष अनुसार रक्षाबंधन पर किन बातों का रखें ख्याल और क्यों किया जाता है भद्रा का विचार

Myyotish Expert Updated 31 Aug 2023 11:27 AM IST
Raksha Bandhan 2023: ज्योतिष अनुसार रक्षाबंधन पर किन बातों का रखें ख्याल और क्यों किया जाता है भद्रा का विचार
Raksha Bandhan 2023: ज्योतिष अनुसार रक्षाबंधन पर किन बातों का रखें ख्याल और क्यों किया जाता है भद्रा का विचार - फोटो : my jyotish
विज्ञापन
विज्ञापन
रक्षाबंधन का दिन भाई-बहन के लिए बेहद खास होता है. यह एक अत्यंत ही शुभ समय होता है. इस समय के दौरान हर चीज को यदि शुभता से किया जाए तो उसका प्रभाव कई गुना बढ़ जाता है. रक्षाबंधन का त्यौहार भाई-बहन के प्रेम और प्रगाढ़ रिश्ते को मनाने का त्यौहार है. श्रावण पूर्णिमा के दिन आने वाले इस पर्व पर ज्योतिषियों की निगाह भी रहती है. इस दिन पर हर साल राखी पर भद्रा का साया पड़ता है. लेकिन भद्रा के कारण इसकी चमक फीकी पड़ रही है. इस बार भी रक्षाबंधन पर पूरे दिन भद्रा का साया रहेगा और इस वजह से यह त्योहार रात में मनाया जाएगा जो काफी विशेष स्थिति पर होगा. 

जन्माष्टमी स्पेशल : वृन्दावन बिहारी जी का माखन मिश्री भोग - 06 सितम्बर 2023

भद्रा कौन है और उसे अशुभ क्यों माना जाता है. ज्योतिष में इस दिन को लेकर किन बातों का ध्यान रखते हुए कार्य करना अनुकूल होता है, आइये जानें इन सभी के विषय में विस्तार से और इसका शुभ प्रभाव कैसे बनाएगा हमारे जीवन को सफल. 

सौभाग्य पूर्ण श्रावण माह के सावन पर समस्त इच्छाओं की पूर्ति हेतु त्र्यंबकेश्वर ज्योतिर्लिंगं में कराए रूद्र अभिषेक - 31 जुलाई से 31 अगस्त 2023

ज्योतिष अनुसार पंचांग का एक अंग है भद्रा 
धार्मिक मान्यताओं और ज्योतिष शास्त्र के अनुसार भद्रा को भगवान सूर्य और छाया की पुत्री हैं तथा शनिदेव की बहन हैं. भद्रा का स्वभाव भी बहुत कठोर माना जाता है. जब सूर्यदेव ने भद्रा पर नियंत्रण पाने के लिए ब्रह्माजी से मदद मांगी. तब ब्रह्मा जी ने उन्हें पंचांग के एक अंग “ करण”  में स्थान दिया और तब से मुहूर्त निकालते समय भद्रा का विशेष विचार किया जाता है. 

भद्रा स्वभाव से अनियंत्रित थी, इसलिए भद्रा काल के दौरान कोई भी शुभ करना अनुकूल नहीं माना गया है. इस समय किए जाने वाले शुभ कामों में कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है. ज्योतिष अनुसार भद्रा जिस लोक में रहती है वहीं पर उसका असर सबसे अधिक रहता है.आज 30 अगस्त को रक्षाबंधन के समय चंद्रमा कुंभ राशि में होने से भद्रा रहेगी. इसलिए भद्रा समाप्त होने के बाद ही राखी बांधना उचित रहेगा.

लंबी आयु और अच्छी सेहत के लिए इस सावन सोमवार उज्जैन महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग में कराएं रुद्राभिषेक 04 जुलाई से 31अगस्त 2023

ज्योतिष अनुसार राखी पर चीजों का होना होता है शुभ
इस दिन सभी बहनें अपने भाइयों को राखी बांधती हैं, वह अपनी थाली को यदि इस तरह से सजाती हैं तो अपने भाई के लिए ओर अपने रिश्तों के लिए शुभता देने वाली होती है. जिस थाली से वह अपने भाई की आरती उतारती हैं, उसे सजाती भी हैं. राखी के लिए तैयार की चीजों में तिलक, कुमकुम और साबुत अक्षत, गंगाजल, घी का दीपक, हल्दी, मिष्ठान, नारियल, रक्षा सूत्र को अवश्य थाली में रखना चाहिए. 

पूर्व दिशा को रक्षाबंधन के लिए शुभ माना जाता है. ज्योतिष शास्त्र के अनुसार, राखी बांधते समय इसी दिशा को ध्यान में रखना चाहिए. बहनों का चेहरा पश्चिम दिशा में होना चाहिए और भाई का चेहरा पूर्व दिशा की ओर होना चाहिए और तब राखी का पर्व मनाना चाहिए. 

जन्माष्टमी पर कराएं वृन्दावन के बिहारी जी का सामूहिक महाभिषेक एवं 56 भोग, होंगी समस्त कामनाएं पूर्ण - 06 सितम्बर 2023
  • 100% Authentic
  • Payment Protection
  • Privacy Protection
  • Help & Support
विज्ञापन
विज्ञापन


फ्री टूल्स

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms and Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
X