myjyotish

6386786122

   whatsapp

6386786122

Whatsup
  • Login

  • Cart

  • wallet

    Wallet

विज्ञापन
विज्ञापन
Home ›   Blogs Hindi ›   Pitru Paksha 2023: Follow the puja rituals in the Shraddha of Tritiya Tithi as per the rules and blessings wil

Pitru Paksha 2023:  तृतीया तिथि के श्राद्ध में पूजा कार्यों का पालन करें नियम से बनी रहेगी बरकत

my jyotish expert Updated 30 Sep 2023 02:32 PM IST
Pitru Paksha 2023:  तृतीया तिथि के श्राद्ध में पूजा कार्यों का पालन करें नियम से बनी रहेगी बरकत
Pitru Paksha 2023:  तृतीया तिथि के श्राद्ध में पूजा कार्यों का पालन करें नियम से बनी रहेगी बरकत - फोटो : my jyotish
विज्ञापन
विज्ञापन
शास्त्रों में पितर पक्ष की तृतीया तिथि में उन लोगों का श्राद्ध कार्य होता है जिनका देहवासन इस तिथि में हुआ हो. तीसरे श्राद्ध के दिन पर पूर्वजों की शांति के लिए कई तरह के अनुष्ठान किए जाते हैं. इस साल पितृ पक्ष के दौरान लगातार 16 दिनों तक पितरों की पूजा की जाएगी.

सर्वपितृ अमावस्या पर हरिद्वार में कराएं ब्राह्मण भोज, दूर होंगी पितृ दोष से उत्पन्न समस्त कष्ट - 14 अक्टूबर 2023 

अब इन दिनों में तृतीया तिथि के दिन किए जाने वाले तरपण कार्यों एवं समय की स्थिति विशेष रहने वाली है. वैसे तो सभी तिथियों में इन दिनों में पितृ पक्ष में तर्पण, दान, श्राद्ध और शांति से जुड़े कार्य किए जाते हैं.

इस पितृ पक्ष द्वादशी, सन्यासियों का श्राद्ध हरिद्वार में कराएं पूजा, मिलेगी पितृ दोषों से मुक्ति : 11 अक्टूबर 2023

पितृ पक्ष पूर्णिमा और अमावस्या तिथि के भीतर शुरू और समाप्त होता है. यह अश्विन अमावस्या तिथि के साथ मेल खाता है और इस दिन सर्व पितृ अमावस्या भी होती है जब किसी की तिथि याद न हो तो उक्त तिथि को लिया जाता है. इस कारण से ही इसे सर्व पितृ अमावस्या के नाम से पुकारा जाता है. 
 
काशी दुर्ग विनायक मंदिर में पाँच ब्राह्मणों द्वारा विनायक चतुर्थी पर कराएँ 108 अथर्वशीर्ष पाठ और दूर्बा सहस्त्रार्चन, बरसेगी गणपति की कृपा ही कृपा सितंबर 2023

तृतीया तिथि पूजन एवं तर्पण कार्य 
पितृ पक्ष के दौरान तृतीया तिथि के दिन पितृ दोष से मुक्ति के लिए उपाय किए जाते हैं. श्राद्ध पूजा किसी योग्य ब्राह्मण की सहायता से मंत्र जाप करते हुए संपन्न होती है. पूजा के बाद जल से तर्पण किया जाता है. श्राद्ध में भोजन का विशेष नियम भी होता है.

इस पितृ पक्ष गया में कराएं श्राद्ध पूजा, मिलेगी पितृ दोषों से मुक्ति : 29 सितम्बर - 14 अक्टूबर 2023

श्राद्ध करने के लिए किसी ब्राह्मण को आमंत्रित करते हैं तथा, भोज का आयोजन करते हैं. सभी लोग अपनी अपनी क्षमता के अनुसार दक्षिणा भी देते हैं.  जिस व्यक्ति का श्राद्ध कर रहे हैं उसकी पसंद के अनुसार भोजन बनाना बहुत शुभ होता है. 
  
मात्र रु99/- में पाएं देश के जानें - माने ज्योतिषियों से अपनी समस्त परेशानियों 

तृतीया तिथि पूजा समय 
तृतीया श्राद्ध रविवार, 1 अक्टूबर को मनाया जाएगा. इस दिन पर कुतुप मूहूर्त का समय 11:47 से 12:34 के मध्य रहने वाला है. रौहिण मूहूर्त का समय 12:34 से 13:22 तक रहने वाला है. पूजा के लिए अपराह्न काल समय 13:22 से 15:45 तक रहेगा.

सर्वपितृ अमावस्या को गया में अर्पित करें अपने समस्त पितरों को तर्पण, होंगे सभी पूर्वज एक साथ प्रसन्न - 14 अक्टूबर 2023

तृतीया तिथि प्रारम्भ 1 अक्टूबर, 2023 को 09:41 बजे होगा और तृतीया तिथि समाप्त होगी 2 अक्टूबर2023 को 07:36 बजे. तृतीया श्राद्ध परिवार के उन मृतक सदस्यों के लिए किया जाता है, जिनकी मृत्यु तृतीया तिथि पर हुई हो, इस दिन शुक्ल पक्ष अथवा कृष्ण पक्ष दोनों ही पक्षों की तृतीया तिथि का श्राद्ध किया जा सकता है.
  
 
  • 100% Authentic
  • Payment Protection
  • Privacy Protection
  • Help & Support
विज्ञापन
विज्ञापन


फ्री टूल्स

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms and Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
X