myjyotish

6386786122

   whatsapp

6386786122

Whatsup
  • Login

  • Cart

  • wallet

    Wallet

विज्ञापन
विज्ञापन
Home ›   Blogs Hindi ›   Pitru Paksha 2023: During Pitru Paksha, keep these things related to food in mind, otherwise the ancestors get

Pitru Paksha 2023: पितृ पक्ष के दौरान खान पान से संबंधित इन बातों का जरूर रखें ध्यान नहीं तो रुठ जाते हैं पितृ

my jyotish expert Updated 05 Sep 2023 01:21 PM IST
Pitru Paksha 2023
Pitru Paksha 2023 - फोटो : my jyotish
विज्ञापन
विज्ञापन
पितृ पक्ष एक ऐसा समय होता है जो पूर्वजों की शांति एवं उनके आशीर्वाद को पाने का समय होता है. इस समय किए जाने वाले अच्छे कार्यों से हम अपने पितरों को प्रसन्न कर सकते हैं. अगर इन कुछ दिनों तक नियमों का पालन सही से किया जाए तो निश्चित है पितरों की शुभता हम सभी को मिलेगी. इस दौरान कई बातों का विशेष ध्यान रखना होता है जिसमें से सबसे अहम खान पान से जुड़ी आदतें भी हैं. धार्मिक मान्यताओं के अनुसार ज्ञात होता है कि पितृपक्ष एक ऐसा समय होता है जब पितर पृथ्वी पर आते हैं ओर लोग उन्हें पितरों को प्रसन्न कर सकते हैं. इसलिए पितृ पक्ष के दौरान कुछ चीजों का सेवन करना वर्जित माना गया है. आइये जानें इन से जुड़े बातें. 

जन्माष्टमी पर कराएं वृन्दावन के बिहारी जी का सामूहिक महाभिषेक एवं 56 भोग, होंगी समस्त कामनाएं पूर्ण - 06 सितम्बर 2023

सबसे पहले तो इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि, श्राद्ध क्रिया करने वाले व्यक्ति को बाहर का बना हुआ खाना नहीं खाना चाहिए. उस व्यक्ति को सोलह दिनों तक केवल सात्विक भोजन ही करना चाहिए जब तक यह अवधि समाप्त न हो जाए. धार्मिक दृष्टि से बाहर का खाना अशुद्ध माना जाता है. बता दें कि पितृपक्ष 28 सितंबर से शुरू हो रहा है जो 14 अक्टूबर तक चलने वाले हैं तो अभी से इन बातों को ध्यान में रख लेना उचित होगा.

जन्माष्टमी स्पेशल : वृन्दावन बिहारी जी का माखन मिश्री भोग - 06 सितम्बर 2023

पितृ पक्ष तक खान पान को लेकर रहें सावधान 
श्राद्ध के इस 16 दिनों के दौरान लोग अपने मृत पूर्वजों के लिए पूजा का आयोजन करते हैं और उनकी आत्मा की शांति के लिए प्रार्थना करते हैं. इसके साथ ही पंडितों और ब्राह्मणों को भोजन और वस्त्र आदि का दान किया जाता है. श्राद्ध के दौरान मांस और चिकन आदि का सेवन नहीं किया जाता है. पितरों के अनुष्ठान में कोई बाधा न आए इस बात का ध्यान देने की आवश्यकता होती है. इसलिए इसमें मांस, मछली, अंडा और शराब का सेवन अशुभ माना जाता है इसलिए इन चीजों का सेवन नहीं किया जाता है. ऐसा माना जाता है कि अगर इस दौरान इन रीति-रिवाजों का ठीक से पालन नहीं किया गया तो पितर नाराज हो सकते हैं. जिसके बाद कई बार पितृदोष की स्थिति का सामना करना पड़ता है.

मात्र रु99/- में पाएं देश के जानें - माने ज्योतिषियों से अपनी समस्त परेशानियों

तामसिक भोजन नशे से दूरी रखना जरूरी होता है. 
कुछ हिंदू धार्मिक ग्रंथों में इन दिनों प्याज और लहसुन खाना भी वर्जित माना गया है. प्याज और लहसुन तामसिक प्रकृति के होते हैं. जिसे खाने से व्यक्ति की इंद्रियों पर असर पड़ता है. इसलिए श्राद्ध के दौरान बिना प्याज-लहसुन का खाना बनाने की सलाह दी जाती है. इन सभी बातों को खानपान में ध्यान रखने की सख्त जरूरत होती है तभी पितृ पक्ष सफल होता है.
  • 100% Authentic
  • Payment Protection
  • Privacy Protection
  • Help & Support
विज्ञापन
विज्ञापन


फ्री टूल्स

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms and Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
X