myjyotish

6386786122

   whatsapp

6386786122

Whatsup
  • Login

  • Cart

  • wallet

    Wallet

विज्ञापन
विज्ञापन
Home ›   Blogs Hindi ›   Papmochani Ekadashi 2024: Date, time, worship method, and Aarti

Papmochani Ekadashi 2024: पापमोचनी एकादशी कब है? जानिए शुभ मुहूर्त, पूजा विधि और पापमोचनी आरती

Acharya Rajrani Sharma Updated 03 Apr 2024 10:05 AM IST
Ekadashi
Ekadashi - फोटो : my jyotish

खास बातें

 ekadashi vrat हिंदू धर्म में एकादशी तिथि का विशेष महत्व बताया गया है और चैत्र माह में आने वाली एकादशी विशेष होती है. इस दिन पूजा के समस्त नियमों का पालन शुभ होता है. इस दिन पूजा के समस्त नियमों का पालन शुभ होता है. 
 
विज्ञापन
विज्ञापन
Papmochani Ekadashi 2024 Kab Hai हिंदू धर्म में एकादशी तिथि और एकादशी का विशेष महत्व बताया गया है और चैत्र माह में आने वाली एकादशी विशेष होती है. इस दिन के साथ ही पूजा के समस्त नियमों का पालन शुभ होता है. चैत्र माह में आने वाली पापमोचिनी एकादशी का व्रत शुक्रवार के दिन को किया जाएगा. चैत्र एकादशी का व्रत श्रेष्ठ माना जाता है.  

विंध्याचल में कराएं चैत्र नवरात्रि दुर्गा सहस्त्रनाम का पाठ पाएं अश्वमेघ यज्ञ के समान पुण्य : 09 अप्रैल - 17 अप्रैल 2024 - Durga Sahasranam Path Online
 
papmochani ekadashi panchang कैलेंडर के अनुसार चैत्र मास के कृष्ण पक्ष की एकादशी तिथि को पापमोचनी papmochani ekadashi vrat के रुप में पूजा जाता है. इस साल चैत्र एकादशी chaitra month ekadashi में पहली एकादशी पाप मोचनी एकादशी होगी.  यदि देखें की एकदशी व्रत कब है ? तो पाप मोचनी ekadashi vrat 05 अप्रैल 2024 के दिन किया जाएगा. 
 

पाप मोचनी एकादशी पूजा मुहूर्त 2024 

चैत्र माह में आने वाली पापमोचिनी एकादशी का व्रत 5 अप्रैल 2024 को शुक्रवार के दिन को किया जाएगा. चैत्र एकादशी का व्रत श्रेष्ठ माना जाता है.  
कादशी तिथि प्रारम्भ - 04 अप्रैल, 2024 को दोपहर 04:14 मिनिट पर होगा.
एकादशी तिथि समाप्त - 05 अप्रैल, 2024 को दोपहर 01:28 बजे होगी.
उदया तिथि अनुसार पापमोचिनी एकादशी शुक्रवार, 5 अप्रैल, 2024 को मनाई जाएगी. 6 अप्रैल को एकादशी का पारण समय होगा. 
पारण समय सुबह 06:05 से 08:37 तक होगा. 

हिमाचल प्रदेश के ज्वाला देवी मंदिर में चैत्र नवरात्रि पर सर्व कल्याण हेतु कराएं 11000 मंत्रों का जाप और पाएं गृह शांति एवं रोग निवारण का आशीर्वाद 09 -17 अप्रैल 2024
 

पापमोचनी एकादशी माता की आरती

शास्त्रों के अनुसार माना गया है कि पापमोचनी एकादशी के व्रत द्वारा सभी प्रकार के पापों का शमन हो जाता है. जो भी व्यक्ति एकादशी का व्रत रखता है उसकी सभी मनोकामनाएं पूरी हो जाती हैं. पापों का मोचन कर देने वाली ये एकादशी बड़े से बड़े पाप की मुक्ति का आधार बनती है. यदि पापमोचनी एकादशी का व्रत करने में सक्षम नहीं हैं तो इस दिन पापमोचनी एकादशी पूजा एवं आरती अवश्य करनी चाहिए ऎसा करने से भक्त को शुभ फल प्राप्त होते हैं. 

कामाख्या देवी शक्ति पीठ में चैत्र नवरात्रि, सर्व सुख समृद्धि के लिए करवाएं दुर्गा सप्तशती का विशेष पाठ : 09 अप्रैल -17 अप्रैल 2024 - Durga Saptashati Path Online
 
ओम जय एकादशी माता, मैया जय जय एकादशी माता.
विष्णु पूजा व्रत को धारण कर, शक्ति मुक्ति पाता  
ओम जय एकादशी माता.
तेरे नाम गिनाऊं देवी, भक्ति प्रदान करनी .
गण गौरव की देनी माता, शास्त्रों में वरनी 
ओम जय एकादशी माता.
मार्गशीर्ष के कृष्णपक्ष की उत्पन्ना, विश्वतारनी जन्मी.
शुक्ल पक्ष में हुई मोक्षदा, मुक्तिदाता बन आई 
ओम जय एकादशी माता.
पौष के कृष्णपक्ष की, सफला नामक है,
शुक्लपक्ष में होय पुत्रदा, आनन्द अधिक रहै 
ओम जय एकादशी माता.
नाम षटतिला माघ मास में, कृष्णपक्ष आवै.
शुक्लपक्ष में जया, कहावै, विजय सदा पावै  
ओम जय एकादशी माता.
विजया फागुन कृष्णपक्ष में शुक्ला आमलकी,
पापमोचनी कृष्ण पक्ष में, चैत्र महाबलि की 
ओम जय एकादशी माता.
चैत्र शुक्ल में नाम कामदा, धन देने वाली,
नाम बरुथिनी कृष्णपक्ष में, वैसाख माह वाली  
ओम जय एकादशी माता.
शुक्ल पक्ष में होय मोहिनी अपरा ज्येष्ठ कृष्णपक्षी,
नाम निर्जला सब सुख करनी, शुक्लपक्ष रखी. 
ओम जय एकादशी माता.
योगिनी नाम आषाढ में जानों, कृष्णपक्ष करनी.
देवशयनी नाम कहायो, शुक्लपक्ष धरनी  
ओम जय एकादशी माता.
कामिका श्रावण मास में आवै, कृष्णपक्ष कहिए.
श्रावण शुक्ला होय पवित्रा आनन्द से रहिए. 
ओम जय एकादशी माता.
अजा भाद्रपद कृष्णपक्ष की, परिवर्तिनी शुक्ला.
इन्द्रा आश्चिन कृष्णपक्ष में, व्रत से भवसागर निकला.  
ओम जय एकादशी माता.
पापांकुशा है शुक्ल पक्ष में, आप हरनहारी.
रमा मास कार्तिक में आवै, सुखदायक भारी   
ओम जय एकादशी माता.
देवोत्थानी शुक्लपक्ष की, दुखनाशक मैया.
पावन मास में करूं विनती पार करो नैया  
ओम जय एकादशी माता.
परमा कृष्णपक्ष में होती, जन मंगल करनी..
शुक्ल मास में होय पद्मिनी दुख दारिद्रय हरनी  
ओम जय एकादशी माता.
जो कोई आरती एकादशी की, भक्ति सहित गावै.
जन गुरदिता स्वर्ग का वासा, निश्चय वह पावै. 

चैत्र नवरात्रि कालीघाट मंदिर मे पाए मां काली का आशीर्वाद मिलेगी हर बाधा से मुक्ति 09 अप्रैल -17 अप्रैल 2024
 
  • 100% Authentic
  • Payment Protection
  • Privacy Protection
  • Help & Support
विज्ञापन
विज्ञापन


फ्री टूल्स

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms and Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
X