Know The Importance Of Special Worship Of Hanuman On Sankat Mochan - संकट मोचन हनुमान के जन्मोत्सव पर जानिए उनकी विशेष पूजा का महत्व - Myjyotish News Live
myjyotish

9818015458

   whatsapp

8595527216

Whatsup
  • Login

  • Cart

  • wallet

    Wallet

Home ›   Blogs Hindi ›   Know the importance of special worship of Hanuman on Sankat Mochan

संकट मोचन हनुमान के जन्मोत्सव पर जानिए उनकी विशेष पूजा का महत्व

My Jyotish Expert Updated 05 Apr 2020 12:18 PM IST
Know the importance of special worship of Hanuman on Sankat Mochan
चैत्र माह की पूर्णिमा को हनुमान जी के जन्म उत्सव के रूप में मनाया जाने वाला पर्व हनुमान जयंती के नाम से प्रसिद्ध है। भगवान विष्णु के राम अवतार के परम भक्त थे हनुमान जी। बजरंगबली भगवान शिव के अवतार थे जो राम जी की सहायता करने के लिए पृथ्वी पर अवतरित हुए थे। हनुमान जयंती के दिन भक्त बड़ी उत्सुकता और जोश के साथ समर्पित हो कर इनकी पूजा करते हैं। हनुमान जी ब्रह्मचारी थे जिसके कारण महिलाओं द्वारा इनकी पूजा के समय मूर्ति को छूना वर्जित है। इनको चढ़ाया गया चमेली का तेल, पान का पत्ता सब पुरुषों द्वारा ही किया जाता है।

कथन अनुसार हनुमान जी की उत्पत्ति अंजनी के उदर से हुई थी। बालपन में एक बार जब बजरंगबली को भूख लगी तो वह सूर्य को फल समझकर खाने पहुंच गए थे। सूर्य देव को हनुमान जी के अवतार का पता था इसलिए उन्होंने अपने तेज से उन्हें जलने नहीं दिया। उस दिन पर्व तिथि होने के कारण राहु सूर्य पर ग्रहण लगाने आया था। हनुमान जी को देख वह भयभीत हो कर इंद्र देव के पास जा पंहुचा। अवतार से अनजान वह हनुमान जी पर वज्र से प्रहार कर देते हैं। ऐसा करने से उनकी हड्डी टूट जाती है। यह देख वायु देव क्रोधित हो जाते हैं तथा संसार में प्रवाहित वायु को रोक देते हैं। सभी प्राणी और देवता संकट में उनसे पुनः सब पहले जैसा करने की प्रार्थना करते हैं। हनुमान जी को  ठीक कर सभी उन्हें अनेकों आशीर्वाद और शक्ति प्रदान करते हैं। इसी दिन से वह हनुमान भी कहलाए थे। उनके ठीक हो जाने पर वायु देव भी सब पुनः सही कर देते हैं।
इस दिन हनुमान जी की विशेष पूजा की जाती है। मंदिरों में पीले सिंदूर से इनका विशेष श्रृंगार भी किया जाता है। घरों व मंदिरों में हनुमान चालीसा , सुन्दरकांड का  पाठ किया जाता है। हनुमान जी के भजन से पूरा मंदिर परिसर गूँज उठता है। जगह -जगह भण्डारे किए जाते हैं। गरीबों को खाना खिलाया जाता है दान -पुण्य भी किया जाता है। इस दिन विशेष रूप से बूंदी का प्रसाद ग्रहण किया जाता है।
 

  • 100% Authentic
  • Payment Protection
  • Privacy Protection
  • Help & Support

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
X