myjyotish

6386786122

   whatsapp

6386786122

Whatsup
  • Login

  • Cart

  • wallet

    Wallet

विज्ञापन
विज्ञापन
Home ›   Blogs Hindi ›   Karak Chaturthi: Do fast on Karak Chaturthi for happiness and prosperity.

Karak Chaturthi : सुख एवं समृद्धि के लिए जरूर करें करक चतुर्थी का व्रत

Acharyaa RajRani Updated 01 Nov 2023 11:08 AM IST
Karak Chaturthi
Karak Chaturthi - फोटो : my jyotish
विज्ञापन
विज्ञापन
करक चतुर्थी को कई रुपों में मनाया जाता है उत्तर भारत में ज्यादातर भारतीय हिंदू विवाहित महिलाओं द्वारा बड़े पैमाने पर मनाया जाता है.वहीं इस दिन श्री गणेश पूजा भी की जाती है. यह व्रत अविवाहित कन्याएं भी कर सकती है. इस दिन को स्त्री पुरुष सभी भक्ति भाव के साथ मनाते हैं. करक चतुर्थी के दिन पूरे दिन उपवास रखने का विधान है. करक चतुर्थी का व्रत बहुत महत्व है. इस शुभ दिन को करक चतुर्थी के नाम से भी जाना जाता है. करक चतुर्थी के दौरान महिलाएं अपने पति की सुख-समृद्धि के लिए निर्जला व्रत रखती हैं. इसके अलावा यह व्रत सुख समृद्धि के लिए भी रखा जाता है. करक चतुर्थी में भगवान गणेश, देवी पार्वती, भगवान शिव तथा कार्तिकेय की पूजा करने की परंपरा है. इसके साथ ही इस दिन चंद्रमा को देखने के बाद यह व्रत खोला जाता है. 

दिवाली के पावन अवसर पर अपार धन-समृद्धि के लिए कराएं सहस्त्ररूपा सर्वव्यापी लक्ष्मी साधना : 12-नवम्बर-2023 | Lakshmi Puja Online

करक चतुर्थी पूजा अनुष्ठान और महत्व 
करक चतुर्थी का त्यौहार कार्तिक माह के कृष्ण पक्ष की चतुर्थी के दिन मनाया जाता है. करक चतुर्थी के इस शुभ अवसर पर  व्रत एवं पूजन द्वारा शुभ फलों को पाया जाता है. करक चतुर्थी की पूजा भी पूरे विधि-विधान से की जाती है. इस दिन कई रुपों में व्रत का पालन किया जाता है. चतुर्थी को ब्रह्म काल से यह व्रत रखा जाता है इस दिन सुबह जल्दी उठकर स्नान करना चाहिए, इसके बाद साफ कपड़े पहनकर मंदिर में दीपक जलाना चाहिए.
 
शीघ्र धन प्राप्ति के लिए कराएं कुबेर पूजा 11 नवंबर 2023 Kuber Puja Online

इसके बाद भगवान को नमन करना चाहिए. इस दौरान श्री विष्णु, तुलसी, भगवान शिव देवी पार्वती एवं भगवान गणेश की पूजा करना शुभदायक होता है. पूजन के साथ ही व्रत रखने का संकल्प लेना चाहिए. इनके साथ ही पूजा करनी चाहिए. व्रत के दौरान रात में चंद्रोदय के बाद नक्षत्रों एवं चंद्रमा की पूजा की जाती है.  पूजा की समाप्ति के बाद भगवान से अपने जीवन के सुखों हेतु प्रार्थना करनी चाहिए तथा व्रत को संपूर्ण करना चाहिए.  

आपके स्वभाव से लेकर भविष्य तक का हाल बताएगी आपकी जन्म कुंडली, देखिए यहाँ

करक चतुर्थी पूजा में सभी प्रकार की चीजों का ध्यान रखते हुए पूजा करते हैं. इस दिन मिट्टी का बर्तन बहुत महत्वपूर्ण होता है. इसके साथ ही पूजा के लिए सिन्दूर, चंदन, अक्षत, रोली, फल-फूल और भोग को रखते हैं. पूजा की थाली में समस्त चीजों को रख कर पूजा करनी चाहिए. भगवान को भोग लगवाने के लिए पूरी, हलवा  तथा मोदक का उपयोग जरुर करना चाहिए. गौरी-गणेश की मूर्ति का पूजन करते हुए पूजा संपन्न होती है.
 
  • 100% Authentic
  • Payment Protection
  • Privacy Protection
  • Help & Support
विज्ञापन
विज्ञापन


फ्री टूल्स

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms and Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
X