myjyotish

6386786122

   whatsapp

6386786122

Whatsup
  • Login

  • Cart

  • wallet

    Wallet

विज्ञापन
विज्ञापन
Home ›   Blogs Hindi ›   Kajari Teej 2023: Kajari Teej fast is a special time for happiness and good fortune when wishes are fulfilled.

Kajari Teej 2023: कजरी तीज का व्रत सुख और सौभाग्य प्राप्ति का विशेष समय जब पूरी होती हैं मनोकामनाएं

my jyotish expert Updated 02 Sep 2023 09:23 AM IST
Kajari Teej 2023: कजरी तीज का व्रत सुख और सौभाग्य प्राप्ति का विशेष समय जब पूरी होती हैं मनोकामनाएं
Kajari Teej 2023: कजरी तीज का व्रत सुख और सौभाग्य प्राप्ति का विशेष समय जब पूरी होती हैं मनोकामनाएं - फोटो : google
विज्ञापन
विज्ञापन
भाद्रपद माह में आने वाली तीज का त्यौहार सुख समृद्धि एवं खुशहाल जीवन की प्राप्ति हेतु किया जाता है.  वैवाहिक जीवन के सुख को पाने के लिए तीज का व्रत भक्ति भाव के साथ किया जाता है.  बाइस दिन आने वाली तीज को कजरी तीज के नाम से भी जाना जाता है. इस दौरान महिलाएं अपने घर परिवार की सुख समृद्धि के लिए विशेष पूजा अर्चना करती है. कजरी तीज से संबंधित कई कथाएं हमें प्राप्त होती हैं जिसके अनुसार मान्यता रुप से कजरी तीज पर महिलाएं सुहाग की सुरक्षा, उसकी लंबी उम्र एवं समृद्धि के लिए इस दिन कठोर व्रत का पालन करती हैं. निर्जला व्रत रखते हुए इस दिन शिव-पार्वती, तीज माता, नीमड़ी माता की पूजा भी की जाती है. इस दिन संध्या समय चंद्रमा को अर्घ्य देने के बाद व्रत का पारण संपन्न होता है. 

जन्माष्टमी पर कराएं वृन्दावन के बिहारी जी का सामूहिक महाभिषेक एवं 56 भोग, होंगी समस्त कामनाएं पूर्ण - 06 सितम्बर 2023

कब मानी जाएती है कजरी तीज 
भाद्रपद माह के कृष्ण की तृतीया तिथि को कजरी तीज का उत्सव मनाया जाता है.  यह व्रत देवी पार्वती की पूजा से संबंधित होता है तथा इसी के साथ इस व्रत को करने से जीवन में आने वाले संकटों से मुक्ति प्राप्त होती है. जीवन में व्यक्ति अपने लिए एक योग्य साथी को पाता है. जिसे वैवाहिक जीवन की आधारशीला हेतु विशेष माना गया है

जन्माष्टमी स्पेशल : वृन्दावन बिहारी जी का माखन मिश्री भोग - 06 सितम्बर 2023

कजरी तीज पूजा विधि और महत्व 
कजरी तीज का व्रत हर साल भाद्रपद माह के कृष्ण पक्ष की तृतीया तिथि को रखा जाता है. यह सुहाग पर्व विवाहित महिलाओं के लिए बहुत महत्वपूर्ण होता है. जहां विवाहित महिलाएं इस उत्सव को बड़े जोश के साथ मनाती हैं उसी तरह कुंआरी लड़कियां अपने जीवन में अच्छा वर पाने के लिए यह व्रत रखती हैं. कजरी तीज की पूजा जीवन में सुख को प्रदान करने वाली होती है. 

मात्र रु99/- में पाएं देश के जानें - माने ज्योतिषियों से अपनी समस्त परेशानियों

कजरी तीज को कजली तीज, सातुड़ी तीज के नाम से भी जाना जाता है, इस दिन सूर्योदय से पहले स्नान करके व्रत का संकल्प लेकर इसका आरंभ किया जाता है. शुभ मुहूर्त में पूजा करने से पहले दीवारपर मिट्टी या गाय के गोबर से एक तालाब जैसी आकृति बनाते हुए उस पर नीम की टहनी लगाई जाती है. पूजा स्थान पर देवी पार्वती एवं भगवान शिव, तीज माता का चित्र स्थापित करते हैं. इन सभी की विधिवत पूजा करते हैं. 
  • 100% Authentic
  • Payment Protection
  • Privacy Protection
  • Help & Support
विज्ञापन
विज्ञापन


फ्री टूल्स

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms and Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
X