myjyotish

6386786122

   whatsapp

6386786122

Whatsup
  • Login

  • Cart

  • wallet

    Wallet

विज्ञापन
विज्ञापन
Home ›   Blogs Hindi ›   Dwadashi 2023: Know the complete rules and regulations of Damodar Dwadashi fast, importance of worship

Dwadashi 2023 : दामोदर द्वादशी जाने व्रत की संपूर्ण विधि-नियम, पूजन का महत्व

my jyotish expert Updated 25 Aug 2023 11:05 AM IST
Dwadashi 2023 : दामोदर द्वादशी जाने व्रत की संपूर्ण विधि-नियम, पूजन का महत्व
Dwadashi 2023 : दामोदर द्वादशी जाने व्रत की संपूर्ण विधि-नियम, पूजन का महत्व - फोटो : my jyotish
विज्ञापन
विज्ञापन
श्री विष्णु पूजन में एकादशी ओर द्वादशी इन दोनों तिथियों का बहुत महत्व रहा है. द्वादशी का पूजन भी एकदशी के पूजन की ही भांति भक्तों को भगवान का आशीर्वाद प्रदान करता है. सावन माह की दामोदर द्वादशी का काफी महत्व माना गया है, इस दिन ब्राह्मणों को भोजन करवाने से पुण्य मिलता है. द्वादशी माह में दो बार आती है कृष्ण पक्ष और शुक्ल पक्ष.सावन माह के शुक्ल पक्ष की द्वादशी को दामोदर द्वादशी के रुप में जाना जाता है. 

लंबी आयु और अच्छी सेहत के लिए इस सावन सोमवार उज्जैन महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग में कराएं रुद्राभिषेक 04 जुलाई से 31अगस्त 2023

हर द्वादशी व्रत का अपना विशेष महत्व माना गया है. इसकी शुभ विधि-नियम और उद्यापन के द्वारा भक्त सुख एवं शुभ फलों को पाने में सफल होता है. आइये जानें कैसे करें द्वादशी का पूजन तथ ऐस पूजन के लिए किस सामग्री की आवश्यकता होगी.

द्वादशी पूजा विधि 
द्वादशी व्रत करने वाले लोगों को एकादशी यानी द्वादशी से एक दिन पहले के दिन से कुछ जरूरी नियमों को मानना पड़ता है. एकादशी के दिन से ही शुद्ध मन एवं संकल्प के साथ जीवन शैली को अपनाया जाता है. मांस-मछली, प्याज, मसूर की दाल और शहद जैसे खाद्य-पदार्थों का सेवन नहीं करना चाहिए. दशमी और द्वादशी दोनों दिन लोगों को भोग-विलास से दूर पूर्ण रूप से ब्रह्मचर्य का पालन करना चाहिए. 

सावन शिवरात्रि पर 11 ब्राह्मणों द्वारा 11 विशेष वस्तुओं से कराएं महाकाल का सामूहिक महारुद्राभिषेक एवं रुद्री पाठ 2023

द्वादशी के दिन सुबह जल्दी उठकर स्नान आदि से निवृत्त हो जाना चाहिए इसके बाद व्रत एवं पूजन का आरंभ करना चाहिए. घर के मंदिर में दीप प्रज्वलित करना चाहिए.  भगवान विष्णु का गंगा जल से अभिषेक करना चाहिए. भगवान विष्णु को पुष्प और तुलसी दल अर्पित करना चाहिए. द्वादशी व्रत कथा को करना चाहिए भगवान की आरती करने के बाद भगवान को भोग लगाना चाहिए. 

सौभाग्य पूर्ण श्रावण माह के सावन पर समस्त इच्छाओं की पूर्ति हेतु त्र्यंबकेश्वर ज्योतिर्लिंगं में कराए रूद्र अभिषेक - 31 जुलाई से 31 अगस्त 2023

द्वादशी पूजा लाभ 
इस विशेष दिन पर भगवान विष्णु की उपासना करने से जीवन में आ रही समस्याएं दूर हो जाती हैं. इस पावन दिन भगवान विष्णु के साथ ही माता लक्ष्मी की पूजा भी करनी चाहिए.  और साधक को सुख एवं समृद्धि की प्राप्ति होती है. धार्मिक मान्यताओं के अनुसार सावन माह के शुक्ल पक्ष की द्वादशी तिथि के दिन द्वादशी व्रत रखने से सभी सुख प्राप्त होते हैं. धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, इस विशेष दिन पर भगवान विष्णु एवं माता लक्ष्मी की उपासना करने से साधक को बल, बुद्धि, धन एवं ऐश्वर्य की प्राप्ति होती है. दामोदर भगवान विष्णु का एक अन्य नाम है जिसके अनुसर दामोदर स्वरुप का पूजन करते हुए भक्त भगवान की कृपा को पाता है. 
 
  • 100% Authentic
  • Payment Protection
  • Privacy Protection
  • Help & Support
विज्ञापन
विज्ञापन


फ्री टूल्स

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms and Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
X