myjyotish

6386786122

   whatsapp

8595527218

Whatsup
  • Login

  • Cart

  • wallet

    Wallet

Home ›   Blogs Hindi ›   Dhunivale Dadaji Mandir: miraculous smoke burning continuously for 90 years in Madhya pradesh

Dhunivale Dadaji Mandir: 90 वर्षो से लगातार जल रही है यह चमत्कारी धूनि

Myjyotish Expert Updated 19 Mar 2022 03:46 PM IST
90 वर्षो से लगातार जल रही है यह चमत्कारी धूनि
90 वर्षो से लगातार जल रही है यह चमत्कारी धूनि - फोटो : google

90 वर्षो से लगातार जल रही है यह चमत्कारी धूनि


भारत में कई महान संत हुए है उन्हीं में से एक है धूनीवाले दादाजी। श्रद्धालु इन्हें दादाजी धूनीवाले के नाम से भी जानते हैं। मध्यप्रदेश के खंडवा शहर में मौजूद दादा जी का मंदिर जो कि उनका समाधि स्थल है वह भक्तों के बीच काफी प्रसिद्ध है और लोगों की आस्था का मुख्य केंद्र भी है। दादाजी के भक्त सिर्फ भारत में ही नहीं बल्कि विदेश में भी मौजूद है। कहते है की दादा जी के नाम पर भारत समेत विदेशों में 27 धाम है। सबसे चौंकाने वाली बात तो यह है कि इन स्थानों पर दादाजी के समय से आज तक निरंतर धूनि जल रही है। दादा जी के समाधिस्थल पर भारी संख्या में उनके भक्त दर्शन करने जाते हैं।

गुरु पूर्णिमा वाले दिन भारी संख्या में श्रद्धालु यहाँ दर्शन करने पहुंचते हैं। श्रद्धालु बताते हैं कि दादाजी माँ नर्मदा के बहुत बड़े भक्त थे। इसी कारण वह नर्मदा के किनारे ही भ्रमण और साधना किया करते थे। अपने अंतिम दिनों में वह खंडवा में मौजूद थे और वह यही समाधिलीन हुए थे। जिसके कारण भक्तों के बीच इस स्थान का महत्व और बढ़ जाता है। 

अष्टमी पर माता वैष्णों को चढ़ाएं भेंट, प्रसाद पूरी होगी हर मुराद 

दादाजी जब भी ध्यान करते थे तो वह पवित्र अग्नि के समक्ष बैठकर ही ध्यान करते थे। दादा जी के भक्त बताते हैं कि वह अपने पास हमेशा एक धूनि जलायें रखते थे जिसके कारण उनका नाम दादाजी धूनीवाले वाले पड़ा था।
बताते हैं कि सन् 1930 से इस आश्रम में एक धूनि लगातार जल रहीं है। इस धूनि में ना केवल हवन सामग्री अर्पित की जाती है बल्कि नारियल, सूखे मेवा और सब कुछ अर्पित कर दिया जाता है। भक्तों का मानना है कि इस धूनि में ही बाबा की शक्ति समाई है। जिसके चलते धूनि वाले बाबा के भक्त यह भबूत प्रसाद के रूप में ग्रहण करते हैं।

दादाजी धूनीवाले संत का कोई प्रमाणिक जीवन वृतांत मौजूद नहीं है। परन्तु उनकी महिमा का गुणगान किसी से छुपे भी नहीं है।
एक समय की बात है भवरलाल नाम के एक व्यक्ति राजस्थान के डिडवाना गांव से दादाजी से मिलने आए थे। मुलाकात के बाद वह दादा जी के ही होकर रह गए। उन्होंने अपने आप को दादाजी के चरणों में समर्पित कर दिया था और दादाजी ने उन्हें अपने शिष्य के रूप में स्वीकार किया था। जिसके बाद दादाजी ने उनका नाम हरिहरानंद रखा था। हरिहरानंद बहुत ही शांत प्रवृत्ति के इंसान थे और वह हमेशा दादाजी की सेवा में लगे रहते थे। उनके इस समर्पण और भक्ति भाव को देख कर भक्त उन्हें छोटे दादा जी के नाम से पुकारने लगे थे।

ज्योतिषी से बात करें और पाएं अपनी हर समस्या का समाधान। 

जब दादाजी धूनीवाले समाधिलीन हो गए तो उसके बाद हरिहरानंदजी को उनका उत्तराधिकारी माना जाता था। सन 1942 में हरिहरानंद ने इस दुनिया को त्याग दिया। भक्तों ने छोटे दादाजी की समाधि बड़े दादाजी के पास ही बनाई थी।

भक्तों के बीच दादाजी की काफी मान्यता है। जिसके कारण श्रद्धालु यहाँ कई दिन का पैदल सफर तय करके पहुंचते हैं। भक्त मध्य प्रदेश और महाराष्ट्र के कई जिलों से होते हुए पैदल निशान लेकर पहुंचते हैं। देश विदेश से दादा जी के भक्त यहाँ गुरु पूर्णिमा पर बड़ी संख्या में शीश नवाने आते हैं। उनके भक्त बताते हैं कि दादाजी के स्मरण से ही उनकी सभी मनोकामनाएं पूर्ण हो जाती है।

अधिक जानकारी के लिए, हमसे instagram पर जुड़ें ।

अधिक जानकारी के लिए आप Myjyotish के अनुभवी ज्योतिषियों से बात करें।
 
  • 100% Authentic
  • Payment Protection
  • Privacy Protection
  • Help & Support


फ्री टूल्स

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms and Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
X